प्रेरणादायक कहानी थॉमस एल्वा एडिसन की – Inspirational Story of Thomas Alva Edison

प्रेरणादायक कहानी थॉमस एल्वा एडिसन की – Inspirational Story of Thomas Alva Edison

Inspirational Story of Thomas Alva Edison

थॉमस एल्वा एडिसन प्राइमरी स्कूल (primary school) में पढते थे. एक दिन स्कूल से घर आये और माँ को एक कागज (give paper to mother) देकर कहा, टीचर ने दिया है.

उस कागज को पढ़कर माँ की आँखों (tears in eyes) में आंसू आ गए. एडिसन ने पूछा क्या लिखा है? आंसू पोंछकर माँ ने कहा- इसमें लिखा (written) है-

“आपका बच्चा (genius child) जीनियस है. हमारा स्कूल छोटे स्तर (lower level) का है और शिक्षक बहुत प्रशिक्षित (no professional teachers) नहीं हैं, इसे आप स्वयं शिक्षा दें.”

यह भी पढ़ें :- सुबह जल्दी उठने की आदत डालें इन टिप्स से

कई वर्षों (mother died after some years) बाद माँ गुजर गई.

तब तक एडिसन प्रसिद्ध वैज्ञानिक (famous scientist) बन चुके थे.

एक दिन एडिसन को अलमारी (corner of Almira) के कोने में एक कागज का टुकड़ा (piece of paper) मिला, उन्होंने उत्सुकतावश (excitement) उसे खोलकर पढा, ये वही कागज (paper) था, जो टीचर (teacher) ने दिया था जिसमें लिखा था-
*”आपका बच्चा बौद्धिक तौर (weak from brain) पर कमजोर है, उसे स्कूल (school) न भेजें.”*

यह भी पढ़ें :- जानिये औरतें बिस्तर में अपनी कौन कौन सी ख्वाहिशें पूरी करना चाहती हैं

Click here to read:-  Reduce Cholesterol By Using These Natural Tips Easily

एडिसन घंटो (Edison cries) रोते रहे….

फिर अपनी डायरी (diary) में लिखा-
 ” एक *महान माँ* ने बौद्धिक तौर पर कमजोर बच्चे को सदी का महान (great scientist) वैज्ञानिक बना दिया.”

*यही सकारात्मकता (positive parents) माता-पिता की शक्ति है*

Inspirational Story of Thomas Alva Edison

, , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *