जानिये कान से कम सुनाई देने के कारण, लक्षण और उपचार- Know Hearing Problems Reason, Symptoms and Treatment

जानिये कान से कम सुनाई देने के कारण, लक्षण और उपचार- Know Hearing Problems Reason Symptoms and Treatment

Hearing Problems Reason Symptoms and Treatment – आज के इस शोर भरे (noise pollution) दौर में बहरापन एक आम (normal thing) बात है। बहरापन से ध्वनि को सुनने की शक्ति (power of listening) का ह्रास होने की स्तिथि (situation) को कहा जाता है। इससे सुनने की शक्ति (listening power) ही कम नहीं होती, बल्कि व्यक्ति की समाजिक (social) और मानसिक परेशानी (mental problem) भी बढ़ जाती है। ऐसे में जब भी कोई व्यक्ति (if any person) बोलता है तो वह ध्वनि तरंगों (sound waves) के द्वारा हवा में कंपन (vibration) पैदा करता है। बहरापन एक या फिर दोनों कानों को प्रभावित (can effect both ears) कर सकता है।

यह भी पढ़ें :- जानिये कुछ उपयोगी घरेलू नुस्खे जो आयेंगे आपके हर वक्त काम

कान से कम सुनाई (less hearing) देना – बहरेपन के कारण (reasons of deaf)

बहरापन के कई कारण हो सकते हैं जैसे कि – Reasons of hearing problem

  1. उम्र बढ़ने के साथ बहरेपन की समस्या एक (natural incident) प्राकृतिक घटना है
  2. व्यावसायिक जोखिम (professional problem)
  3. कान में संक्रमण (infection in ear)
  4. अधिक मोबाइल का उपयोग (using more mobile)
  5. अधिक समय शोर (noise) में रहना
  6. गलत दवाईयों (Eating wrong medicines) का सेवन
  7. कान में हड्डियों (growth of bones) का विकास आदि।

बहरेपन का लक्षण – Symptoms of Hearing Problem

कम सुनना या बहरेपन के लक्षणों (symptoms of deafness) का हमें धीरे-धीरे पता चलता है जिसके कारण इसका सही समय पर उपचार नहीं (no treatment on time) हो पाता। लेकिन जब भी हमें इसके लक्षणों (symptoms) के बारे में पता चले, तो इसे नजरअंदाज नहीं (don’t ignore) करना चाहिए, बल्कि डॉक्टर (doctor) के पास जाकर इसका इलाज (treatment) करवाना चाहिए

इसके लक्षण इस प्रकार से है – Here are the Symptoms of Deafness

  1. कानों मे सिटी की आवाज़ (whistle sound) सुनाई देना
  2. कम सुनाई (less hearing) देना या ऊंचा सुनाई देना
  3. किसी से फोन (phone) पर बात करने में परेशानी (problem) होना
  4. तेज आवाज में टीवी (TV) या गाने (songs) सुनना
  5. दूसरो से बात (talking with others) करने में असमर्थ होना
  6. दूसरो को जोर से बोलने (tell other to shout loud) को कहना आदि।

कम सुनाई देना – बहरापन को दूर करने के घरेलू उपाय – Hearing Problem- Home Remedies for Reducing the Problem

बहरेपन के कारण शक्ति कम (reduces listening power) हो जाती है या फिर रोगी को बिल्कुल भी नहीं (cant listen anything) सुनाई देता। कान में हर समय सिटी (sound like whistle) जैसी आवाज आती है। कई बार रुक रुककर आवाजे (sounds) आती है और कई बार उसे चीखने चिल्लाने (sometimes cant hear voice of shouting) की आवाज भी नहीं सुनाई देती, ऐसे में रोगी को कुछ घरेलू उपचार (try home remedies) करने चाहिए जैसे कि :-

Hearing Problems Reason, Symptoms and Treatment

यह भी पढ़ें :- कुछ ऐसी सामान्य चीजें जिनका जवाब विज्ञान के पास भी नहीं है

तुलसी और सरसों – Tulsi and Sarson

तुलसी के पत्तों में सरसों का तेल मिलाकर (make oil hot) गर्म करें, फिर उसे ठंडा होने पर कान (use drops in ears) में डालें।

सरसों और धनियां- Sarson and Dhaniya

सरसों के तेल में कुछ धनिये (drops of dhaniya) के कुछ दाने दाल कर पकाएं, जब यह आधा (half in quantity) रह जाए तो इसे छान कर कान में एक एक (use 1 drop only) बूंद डाले।

प्याज- Onion

कान में सफेद प्याज का रस (juice of white onion) डालने से बहरापन दूर हो जाता है।

हींग और दूध – Hing and Milk

दूध में चुटकी भर हींग डालकर अच्छे से मिलाएं (mix them properly) फिर उसे अपने कान (few drops in ears) में डालें । आप का बहरापन दूर (relief from hearing problem) हो जायेगा ।

लहसुन और सरसों का तेल – Garlic and Sarson Oil

लहसुन (garlic) की सात – आठ कलियों को सरसों के तेल में तब तक गर्म करें, जब तक यह काली (black in color) न हो जाए, फिर इसे छान (filter) लें, इस तेल को बूंद-बूंद करके (put it in ear drop by drop) कान में डालें ।

यह भी पढ़ें :- जानिये 7 तरीके लिविंग रूम की सजावट के जो हमेशा आयेंगे आपके काम

Hearing Problems Reason Symptoms and Treatment

सरसों के तेल के फायदे – Benefits of Sarson Oil

बेल और सरसों- Bel and Sarson

एक चम्मच (one spoon) बेल के पत्तों का रस, एक चम्मच अनार के पत्तों का रस (juice of pomegranate leaves) दोनों को 100 ग्राम सरसों के तेल (fry in sarson oil) में पकाएं। जब यह आधा रह (half in quantity) जाए तो उसे उतार लें। इस तेल को नियमित (use oil regularly) रूप से कान में डालने से बहरापन (relief in hearing problem) दूर हो जाता है।

दालचीनी – Cinnamon

कान में दालचीनी का तेल नियमित (cinnamon oil is good for deafness problem) रूप से डालने से बहरेपन में लाभ मिलता है।

बहरेपन से कैसे बचें- How to be Safe from This Problem

  1. जब भी आप स्नान (bath) करते हैं तो इस बात का ध्यान (be careful) रखे कि साबुन वाला पानी या साधा पानी (water does not go in ears) कान के अंदर न जाए, क्योंकि इससे कान में संक्रमण (infection in ears) हो सकता है। जिससे बहरापन आ सकता है।
  2. छोटे बच्चों (small children’s) को नदी, नालों, और झरनों में नहीं नहाना (don’t bath outside) चाहिए।

3. घर में टीवी ऊंची आवाज (loud voice) में नहीं देखना चाहिए।

Hearing Problems Reason Symptoms and Treatment, घरेलू उपचार, gharelu nuskhe in hindi for health, घरेलू नुस्खे, Hearing Problems Reason Symptoms and Treatment

4 thoughts on “जानिये कान से कम सुनाई देने के कारण, लक्षण और उपचार- Know Hearing Problems Reason, Symptoms and Treatment

  • February 14, 2018 at 2:00 pm
    Permalink

    sir mere ek ear kan k pardia ek dum thik hai par bilkul sunai ni deta why

    Reply
  • February 14, 2018 at 2:01 pm
    Permalink

    sir mere ek ear kan k pardia ek dum thik hai par bilkul sunai ni deta why

    Reply
  • February 14, 2018 at 2:03 pm
    Permalink

    sir mera bi same pblm right ear eardrum parda ek dum thik hai par kyu sunai ni data

    Reply
  • April 11, 2018 at 2:52 am
    Permalink

    hello SIR
    my name is bs Thiara iam from punjab living TORONTO CANADAover 30 yerr my date of birth 6-6-1942
    i have blood preshere high and iam getting regular medicine aelopathe may be withmedicine any side efecet
    sir iwant to know about my EAR
    near about3 year back i have truble in my right ear (TINITUS) idid so manything used like
    sarson oil with garlic //white onion// DALCHINI –seprate put on heat up to black and so many exercise wich
    onetelling baba ramdev so i think you under stand my problum about my ear pleasesend me e–mail THANKS

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *