करे यह काम नहीं होंगे कभी भी जीवन में बीमार | Kare yeh kaam nahi honge kabhi bhi jeevan mein beemar

करे यह काम नहीं होंगे कभी भी जीवन में बीमार | Kare yeh kaam nahi honge kabhi bhi jeevan mein beemar

jeevan mein beemar – बहुत से लोंगो को बचपन से आनुवांशिक विकार (genetic disorders) होते हैं लेकिन कई ऐसे लोग हैं, जो रोगाणुओं की वजह से बीमार (fever cause of infection) पड़ जाते हैं। तो अगर आप भी इनमें से एक हैं तो, हम आपसे शेयर करने वाले हैं कुछ (sharing safety tips with you) बचाव के टिप्‍स।

अगर आप अपने ऑफिस (office) में किसी ऐसे को जानते हैं जो कभी भूल कर भी छुट्टी नहीं (never take leave) लेता तो, आप समझ गए होंगे कि हम किस बारे में बात करने वाले हैं।

जी हां, वे ऐसे लोग हैं जो कभी बीमार नहीं पड़ते। एक मनुष्‍य होने के नाते हम बीमारियों से अंजान नहीं (cant ignore infections and diseases) रह सकते।

यह भी पढ़ें :- जानिये भारत में सुहाग रात से जुडे़ हुए कुछ विचित्र रिवाजों के बारे में

Click Here to Buy:- Jeevan Organics : Giloe P Capsule (Premium) – For Immunity

पहले तो अगर आपको बीमारियों से बचना है तो जरुरी है कि आप अपनी लाइफ से स्‍ट्रेस को मिटा (erase stress from life) दें। क्‍योंकि दिमागी परेशानियां हर बीमारी की जड़ (all the problem starts from stress and depression) होती है। jeevan mein beemar

इसके बाद साफ सफाई पर भी ध्‍यान देना (work on body cleanliness) बहुत जरुरी है। गंदी जगहों पर रोगाणुओं के पैदा होने की समस्‍या ज्‍यादा होती है। इससे बीमारियां फैलती हैं इसलिये अपने घर के आस पास सफाई (always clean near and around your home) रखें।

आस पास की सफाई के साथ साथ अपने शरीर और हाथों की भी सफाई (always wash your body and hands) रखें। खाना बनाने या खाने से पहले साबुन (wash hands before eating) से हाथ धोएं। ऑफिस से आने के बाद नहाएं, जिससे प्रदूषण शरीर से निकल जाए।

अपनी डाइट में हर प्रकार के पोषण (add all types of nutrients in diet) शामिल करें। बाहर का खाना बंद (stop eating outside and junk food) करें।

जिस दिन आप बहुत ज्‍यादा थकान महसूस (feeling fatigue) करें, तो खुद के शरीर को रेस्‍ट (give rest to your body) दें। थकान का मतलब है कि आपका शरीर टूट गया है और उसे आराम की बेहद (you need a proper rest) जरुरत है। अगर आप आराम नहीं करेंगे तो आपको बीमारियां हो सकती हैं।

यह भी पढ़ें :- इन 7 संकेतों से जानिये के आपके बॉयफ्रेंड को आपसे सिर्फ सेक्स चाहिए

Click Here to Read:- Everything you want to know about Inpatient Treatment and Outpatient Treatment

दिन में कम से कम 30 मिनट के लिये व्‍यायाम (exercise) करें। व्‍यायाम करने से इम्‍यूनिटी बढती है (exercise improves your immune system) और शरीर रोंगो से दूर रहता है।

अपने डॉक्‍टर से पूछ कर विटामिन सी और विटामिन बी की सप्‍पलीमेंट्स (take supplements after consulting with doctor) लें। इससे इम्‍यून सिस्‍टम मजबूत रहता है।

jeevan mein beemar,home remedies for fever, symptoms of typhoid, symptoms of dengue, jeevan mein beemar

, , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *