एक अद्भुत मसाला लौंग | Ek adbhut masala Cloves

एक अद्भुत मसाला लौंग | ek adbhut masala Cloves

हमारे देश (in our country) में लौंग को मसालों का राजा माना जाता है| मसाले को स्थायी तथा खुशबूदार बनाने के लिए लौंग का प्रयोग किया जाता है| पान में भी लौंग डालकर खाया जाता है| इसके सेवन से गला खुल जाता है और छाती में जमा कफ बाहर निकल जाता है|

यह पाचक, पित्त नाशक, कुछ उष्ण, वायु रोग नष्ट करने वाला, दमा, बुखार, अपच, हैजा, सिर दर्द, हिचकी और खांसी आदि रोगों को शान्त करने वाला है| स्त्रियां (women’s) इसका उपयोग घरेलू चिकित्सा (use in home remedies) में करती हैं|

आइए, हम भी लौंग के औषधीय गुणों की जानकारी प्राप्त करें|

CLICK HERE TO READ: जानिये प्रेगेंसी के दौरान शारीरिक संबध बनाने से मिलने वाले फायदे के बारे में

खांसी (Cough)
लौंग, कालीमिर्च, अनार के छिलके और सोंठ – सभी बराबर की मात्रा में लेकर पीस लें| फिर शहद मिलाकर इस चूर्ण को दिन में तीन बार खाएं|

सिर दर्द (Headache)
लौंग को पानी में पीसकर माथे तथा दोनों कनपटियों पर लेप लगाने से सिर दर्द (headache) ठीक हो जाता है|

दांत दर्द ( Teeth Pain)
चार-पांच लौंग पीसकर पानी में डालकर उसे गरम कर लें| फिर इस पानी में कुल्ला करें| दाढ़-दांत के दर्द में लौंग का तेल लगाने से भी काफी आराम मिलता है|

जी मिचलाना ( Vomiting)
एक-दो लौंग मुंह में डालकर धीरे-धीरे चूसने से जी मिचलाना रुक जाता है|

बुखार ( Fever)
दो रत्ती की मात्रा में लौंग का चूर्ण गरम पानी से लेने पर बुखार (fever) उतर जाता है| इस चूर्ण का सेवन सुबह-शाम करें|

अपच और गैस ( Acidity – Gas)
दो लौंग पीसकर आधा कप पानी में डालकर अच्छी तरह खौला लें| फिर इस पानी को गुनगुने रूप में दिनभर में तीन बार पिएं|

गुहेरी
लौंग को पानी में घिसकर गुहेरी पर लेप करने से वह बैठ जाती है| इससे पलकों की सूजन (swelling) भी दूर होती है|

अम्लपित्त
भोजन के बाद दो लौंग सुबह और दो शाम को मुंह में डालकर चूसें| कुछ ही दिनों में अम्लपित्त शान्त हो जाएगा|

CLICK HERE TO READ: जानिये सात मसालों के बारे में जिनमें होते हैं सेहत सुधारने वाले हीलिंग गुण

Click Here to Read:- Did You Know These Changes in Last Stage, Housework to Avoid and Eating Tips during Pregnancy

खसरा
खसरा में दो लौंग का चूर्ण शहद (honey) के साथ दिन में तीन बार चटाएं| इससे बच्चे को बहुत आराम मिलता है|

दमा
लौंग, कालीमिर्च, सोंठ तथा अनार के छिलकों को समान मात्रा में लेकर काढ़ा बनाकर सेवन करें| यह छाती पर जमे हुए कफ (cough) को निकालता है और श्वास को स्वाभाविक बनाता है|

हैजा
एक गिलास पानी (1 glass water) में दो लौंग का चूर्ण और दो चम्मच प्याज का रस मिलाकर रोगी को पिलाने से हैजे का रोग शान्त होता है|

gharelu nuskhe, dadi maa ke nuskhe, desi nuskhe, दादी माँ के नुस्खे , देसी नुस्खे

, , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *