Never Stop Yourself From Doing Kind Work – हमेशा अच्छा करने से ख़ुद को ना रोको

Never Stop Yourself From Doing Kind Work – हमेशा अच्छा करने से ख़ुद को ना रोको

Never Stop Yourself -एक औरत अपने परिवार के सदस्यों (family members) के लिए रोज़ाना भोजन पकाती थी और एक रोटी वह वहाँ से गुजरने वाले किसी भी भूखे (giving food to hungry people) के लिए पकाती थी..।

वह उस रोटी को खिड़की (near window) के सहारे रख दिया करती थी, जिसे कोई भी ले सकता था..।

एक कुबड़ा व्यक्ति रोज़ उस रोटी को ले जाता और बजाय धन्यवाद (thanks) देने के अपने रस्ते पर चलता हुआ वह कुछ इस तरह बड़बड़ाता- “जो तुम बुरा करोगे (if you do something) वह तुम्हारे साथ रहेगा और जो तुम अच्छा करोगे वह तुम तक लौट के आएगा..।”

दिन गुजरते गए और ये सिलसिला (happening daily) चलता रहा..

नबाबी शहर के टुण्डे – Nawabi Shahar ke Tunde

वो कुबड़ा रोज रोटी लेके जाता रहा और इन्ही शब्दों को बड़बड़ाता- “जो तुम बुरा करोगे वह तुम्हारे साथ रहेगा और जो तुम अच्छा करोगे वह तुम तक (come back to you) लौट के आएगा.।”

वह औरत उसकी इस हरकत से तंग (irritate) आ गयी और मन ही मन खुद से कहने लगी की- “कितना अजीब व्यक्ति है,एक शब्द धन्यवाद (one word of thanks) का तो देता नहीं है, और न जाने क्या-क्या बड़बड़ाता रहता है, मतलब क्या है इसका.।”

एक दिन क्रोधित (angry) होकर उसने एक निर्णय (decision) लिया और बोली- “मैं इस कुबड़े से निजात पाकर रहूंगी।”

और उसने क्या किया कि उसने उस रोटी में ज़हर (poison) मिला दिया जो वो रोज़ उसके लिए बनाती थी, और जैसे ही उसने रोटी को को खिड़की (window) पर रखने कि कोशिश की, कि अचानक उसके हाथ कांपने (shivering) लगे और रुक गये और वह बोली- “हे भगवन, मैं ये क्या करने जा रही थी.?” और उसने तुरंत उस रोटी को चूल्हे कि आँच (burn in flame) में जला दिया..। एक ताज़ा रोटी बनायीं और खिड़की के (near window) सहारे रख दी..।

हर रोज़ (like daily) कि तरह वह कुबड़ा आया और रोटी ले के: “जो तुम बुरा करोगे वह तुम्हारे साथ रहेगा, और जो तुम अच्छा (if you do something good) करोगे वह तुम तक लौट के आएगा” बड़बड़ाता हुआ चला गया..।

इस बात से बिलकुल बेख़बर (inknown) कि उस महिला के दिमाग (brain) में क्या चल रहा है..।

हर रोज़ जब वह महिला खिड़की पर रोटी रखती थी तो वह भगवान (god)  से अपने पुत्र (son) कि सलामती और अच्छी सेहत (good health) और घर वापसी के लिए प्रार्थना (prayer) करती थी, जो कि अपने सुन्दर भविष्य के निर्माण (development of better future) के लिए कहीं बाहर गया हुआ था..। महीनों से उसकी कोई ख़बर (no news from months) नहीं थी..।

ठीक उसी शाम को उसके दरवाज़े (knock on door) पर एक दस्तक होती है.. वह दरवाजा खोलती है और भोंचक्की (shocked) रह जाती है.. अपने बेटे (son) को अपने सामने खड़ा देखती है..।

वह पतला और दुबला. (thin) हो गया था.. उसके कपडे फटे हुए थे और वह भूखा. (hungry) भी था, भूख से वह कमज़ोर. (weak) हो गया था..।

जैसे ही उसने अपनी माँ को देखा, उसने कहा- “माँ, यह एक चमत्कार. (magic) है कि मैं यहाँ हूँ.. आज जब मैं घर से एक मील. (1 mile away) दूर था, मैं इतना भूखा था कि मैं गिर गया.. मैं मर. (die) गया होता..।

लेकिन तभी एक कुबड़ा वहां से गुज़र. (walking) रहा था.. उसकी नज़र मुझ पर पड़ी और उसने मुझे अपनी गोद. (lap) में उठा लिया.. भूख के मरे मेरे प्राण निकल रहे थे.. मैंने उससे खाने को कुछ माँगा.. उसने नि:संकोच अपनी रोटी मुझे यह कह कर दे दी कि- “मैं हर रोज़ यही खाता हूँ, लेकिन आज मुझसे ज़्यादा जरुरत. (you need it more) इसकी तुम्हें है.. सो ये लो और अपनी भूख को तृप्त करो.।”

यह भी पढ़ें :- सारी उम्काम आने वाली कुकिंग टिप्स

Click here to read:-  Symptoms, Causes and 30 Home Remedies for Kidney Stone

Never Stop Yourself.

जैसे ही माँ ने उसकी बात सुनी, माँ का चेहरा पीला. (face turns yellow) पड़ गया और अपने आप को सँभालने के लिए उसने दरवाज़े. (help of door) का सहारा लिया..।

उसके मस्तिष्क. (brain) में वह बात घुमने लगी कि कैसे उसने सुबह रोटी में जह.र (poison in roti) मिलाया था, अगर उसने वह रोटी आग में जला के नष्ट. (damage) नहीं की होती तो उसका बेटा उस रोटी को खा लेता और अंजाम. (result) होता उसकी मौत..?

और इसके बाद उसे उन शब्दों का मतलब. (meaning of words) बिलकुल स्पष्ट हो चूका था-

जो तुम बुरा करोगे वह तुम्हारे साथ. (be with you) रहेगा,और जो तुम अच्छा करोगे वह तुम तक लौट. (come back to you) के आएगा।।

निष्कर्ष“- “Result”

हमेशा अच्छा करो और अच्छा करने से अपने आप. (never stop yourself) को कभी मत रोको, फिर चाहे उसके लिए उस समय आपकी सराहना या प्रशंसा. (appraise or not doesn’t matter)हो या ना हो..।

, , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

1 thought on “Never Stop Yourself From Doing Kind Work – हमेशा अच्छा करने से ख़ुद को ना रोको

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *