Know about Why, When and How to Eat Protein Powder , जानिये प्रोटीन पाउडर क्यों, कब, कैसे और कितना खाना चाहिए
Know about Why, When and How to Eat Protein Powder , जानिये प्रोटीन पाउडर क्यों, कब, कैसे और कितना खाना चाहिए

Know about Why, When and How to Eat Protein Powder – जानिये प्रोटीन पाउडर क्यों, कब, कैसे और कितना खाना चाहिए

Know about Why, When and How to Eat Protein Powder – जानिये प्रोटीन पाउडर क्यों, कब, कैसे और कितना खाना चाहिए

बेहतर स्वास्थ्य (for better health) के लिए प्रोटीन (protein) बहुत जरूरी है। यह दुबली मांसपेशियों को मजबूत (make muscles strong) बनाता है, इम्‍यून सिस्‍टम को मजबूत (stronger immune system) करता है, डैमेज सेल और टिसू  (cells and tissues) को रिपेयर करता है और ये ऊर्जा का एक मुख्‍य (main source of energy) स्‍त्रोत है। अंडे, डेयरी प्रॉडक्‍ट (dairy products), मांस, प्रोटीन सप्‍लीमेंट और प्रोटीन पाउडर (protein powder) प्रोटीन के मुख्‍य स्‍त्रोत हैं। खाने में प्रोटीन सप्‍लीमेंट (adding protein supplements) शामिल करने से पहले आपको ये जानना बेहद ज़रूरी है (very important to know) कि ये क्‍या होता है, कैसे बनता है, कितना खाना चाहिए और कब। तो देर किस बात की आइए जानते हैं।

यह भी पढ़ें :- ऐसे जबरदस्त रोचक तथ्य और जानकारी जो अपने पहले कभी नहीं पढ़ी होंगी

Aaaiye padhe Whey Protein ka istemaal kyon, kab ause kaise karna chahiye.

प्रोटीन पाउडर क्या है? – What is Protein Powder

प्रोटीन पाउडर दूध (milk), छाछ, कैसिइन और सोया से बना एक सूखा पाउडर (dry powder) होता है। हालांकि अब मटर (peas) से भी प्रोटीन बनाया जा रहा है।

प्रोटीन पाउडर क्यों खाया जाता है? – Why to Eat Protein Powder?

जब आप प्राकृतिक खाद्य पदार्थों (natural eating product) से आवश्‍यक प्रोटीन नहीं ले पाते हैं, तो उसकी मात्रा को पूरा करने के लिए पाउडर का इस्‍तेमाल (using protein powder) किया जाता है। ये टेस्‍टी (tasty) होता है और आसानी से (easily digest) पच जाता है।

फिटनेस के लिए कौनसा सबसे अच्छा प्रोटीन पाउडर है? Which Protein is Good for Fitness

प्‍योर व्‍हे प्रोटीन (pure whey protein) अच्‍छा माना जाता है। ये आपको सभी आवश्यक अमीनो एसिड (provides amino acid) प्रदान करता है। इसके अलावा इसका जल्‍दी से अवशोषण (easily absorbed) हो जाता है जिस वजह इसे वर्कआउट (workout) के बाद लेना अच्‍छा माना जाता है। इसमें दूध और कार्बोहाइड्रेट (milk and carbohydrates) मिलाने से इसका अवशोषण धीरे-धीरे होता है।

एक बार में कितना प्रोटीन पाउडर खाएं? How Much Protein to Eat in Once?

मांसाहारी लोग (non veg peoples) प्रतिदिन एक से दो चम्‍मच पाउडर खा सकता है। लेकिन ये इस बात पर निर्भर (depends) करता है कि आपको अपने खाने से कितना प्रोटीन (how much protein you are getting) मिल रहा है। कुछ लोग दो से अधिक और कुछ लोग केवल एक चम्‍मच पाउडर (protein powder) खा सकते हैं। एथलीट और बॉड़ीबिल्‍डर (athlete and bodybuilder) अपनी आवश्‍यकतानुसार इसे खा सकते हैं।

इसके स्वास्थ् लाभ क्या हैं? What are the Health Benefits of it?

इससे आपको प्रोटीन (protein) मिलता है और आपकी इम्‍यूनिटी और शक्ति (increases immunity and power) बढ़ाता है। आपकी मांसपेशियों (muscles) को बढ़ाता है और लंबे समय तक आपको भूख नहीं (not feeling hungry for long time) लगने देता।

ज्यादा मात्रा में लेने से क्या होगा? What Will Happen if we Take More Quantity

इसमें कोई दो राय नहीं है कि कोई भी पोषक तत्‍व (nutrient element) लंबे समय तक ज्‍यादा मात्रा में लेना हानिकारक (can be dangerous) हो सकता है और प्रोटीन (protein) भी इनमें से एक है। आपको ये ध्‍यान रखना (you have to know that) होगा कि आपको अपने खाने से कितना प्रोटीन मिलता है। उसी के आधार पर आप प्रोटीन पाउडर (protein powder) ले सकते हैं।

मांस और डेयरी प्रॉडक् प्रोटीन की दैनिक आवश्यकता को पूरा कर सकते हैं? Does Non-Veg and Dairy Products can Complete Daily Need of Protein?

अगर आप नियमित रूप (regular) से चिकन, मछली (fish), मांस, अंडे और डेयरी उत्पादों (dairy products) का उपभोग करते हैं तो आपको इसकी जरूरत नहीं है। इसका सेवन आपकी गतिविधी पर निर्भर (depends on your activities) करता है। अगर आप ज्‍यादा मेहनत (extra hard work) वाला काम करते हैं तो आपको इसकी ज़रूरत (then you need this) होती है।

यह भी पढ़ें :- जानिये बड़ी से बड़ी बीमारी को दूर करे यह हल्‍दी, अदरक और दालचीनी वाली चाय

इसे खाने का सही समय क्या है? What is the right time to eat?

ये विभिन्‍न बातों (various things) पर निर्भर करता है। उदाहरण (for example) के लिए व्‍हे प्रोटीन वर्कआउट और ट्रेनिंग (workout and training) के बाद लिया जाता है। जबकि कैसिइन रात के समय और वर्कआउट (after workout) के बाद लिया जाता है।

क्या ये शाकाहारी लोगों के लिए सही है? Is it Good for Veggies?

ये मट्ठा, दूध और दूध उत्पादों (milk products) के सीन, सोया और मटर से बना होता है। इसलिए शाकाहारियों (vegetarians) के लिए एक उपयुक्त विकल्प है।

home remedies in hindi, घरेलू उपचार, gharelu nuskhe in hindi for health, घरेलू नुस्खे, alternative medicine in hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*