Everything You Want To Know About Whey Protein, जानिये वह सब कुछ जो आप व्हे प्रोटीन पाउडर के बारे में जानना चाहते है
Everything You Want To Know About Whey Protein, जानिये वह सब कुछ जो आप व्हे प्रोटीन पाउडर के बारे में जानना चाहते है

Everything You Want To Know About Whey Protein- जानिये वह सब कुछ जो आप व्हे प्रोटीन पाउडर के बारे में जानना चाहते है

Everything You Want To Know About Whey Protein- जानिये वह सब कुछ जो आप व्हे प्रोटीन पाउडर के बारे में जानना चाहते है

दही से चीज़ – mozzarella cheese बनाने के बाद बचे हुए पानी को व्‍हे (whey) कहा जाता है। इसी पानी को प्रोसेस (process) कर इसमें से प्रोटीन (protein) निकाला जाता है। इस प्रोटीन को हम व्‍हे प्रोटीन (whey protein) कहते हैं। इसका इस्‍तेमाल फूड सप्‍लीमेंट (food supplements) के तौर पर किया जाता है। बॉडी बिल्डिंग (body building) के 10 टॉप 10 सपलीमेंट में यह नंबर एक पर है। यह शरीर बनाने में मदद (helps in making body) करता है। बॉडी बनाने के लिए हमें ढेर सारा प्रोटीन (so much protein) चाहिए होता है। उतना हम खाने से नहीं जुटा पाते (cant get from diet) तो उस कमी को पूरा करना है व्हे प्रोटीन। हम जो फूड सप्‍लीमेंट बाहर से खरीदते (buying from outside) हैं उसमें प्रोटीन के साथ-साथ मिठास (sweet and flavor) और फलेवर भी मिला होता है। बाजार में तीन तरह का व्‍हे प्रोटीन मिलता है। आइसोलेट (isolate), कंसनट्रेट (concentrate) और ब्लेंड (blend)।

यह भी पढ़ें :- भारतीयों को मिलती है अच्छी खासी सैलरी इन नौकरियों में

कंसनट्रेट (Whey protein concentrate) :

इस पाउडर (powder) में तकरीबन 80 फीसदी प्रोटीन होता है। यह सस्‍ता (cheap) पड़ता है और इसमें लेक्‍टो़ज़ (lactose) की मात्रा कम होती है, तो जिन लोगों को दूध से दिक्‍कत (problem from milk) होती है उनके लिए भी ठीक है। पाउडर को तैयार करने के दौरान व्‍हे में से ज्‍यादातर कार्बोहाईड्रेट (carbohydrate and fat) और फैट को हटा दिया जाता है। हालांकि इसके बावजूद इसमें कार्ब और फैट (carbs and fat) दोनों मौजूद होते हैं। अगर आप शुरुआती स्टेज (starting stage) पर हैं या फिर आपको प्रोफेशनल बॉडी बिल्डिंग (professional body building) नहीं करनी तो कंसनट्रेट आपके लिए एकदम सही है। बॉडी को मेनटेन (maintaining body) करने के लिए भी यह सपलीमेंट ठीक (correct supplement) रहता है क्योंकि इसमें कार्ब और फैट होता है। इनसे जरूरी कैलोरी (calories) मिलती है और साइज नहीं गिरता। हालांकि जो लोग प्रोफेशनल बॉडी बिल्डिंग करते हैं उन्हें एक स्टेज (have to quit it after sometime) के बाद इसे छोड़ देना होता है। उन्हें दूसरे किस्म का व्हे प्रोटीन इस्तेमाल (start using other type of whey protein) करना होता है जिसके बारे में नीचे लिखा है।

आइसोलेट (Whey protein isolate) :

वैस तो कंसनट्रेट (concentrate) और आइसोलेट (isolate) में कोई फर्क नहीं होता। आइसोलेट एक और प्रोसेस (process) से गुजरता है। इसलिए इसमें तकरीबन 90 फीसदी प्रोटीन (protein) होता है। इसमें फैट (fat) न के बराबर होता है। ऐसे लोग जो लीन बॉडी (lean body) बनाना चाहते हैं या कंप्टीशन (competition) की तैयारी कर रहे होते हैं या जिन्‍हें फैट से पूरा परहेज (have to avoid fat) करना हो वो आइसोलेट लेते हैं। इसमें लेक्टोज़ की मात्रा (quantity of lactose) और कम होती है। हालांकि जब इसे घोलेंगे (mix) तो यह कंसट्रेट के मुकाबले थोड़ा पतला (but thin) होगा क्‍योंकि इसमें फैट बहुत कम होता है। वैसे आइसोलेट का स्‍वाद (taste is good) अच्‍छा होता है। लीन बॉडी और प्रोफेशनल बॉडी बिल्डिंग में इसका यूज (usage) ज्यादा होता है। वजह वही है फैट और कार्ब का (less fat and carbs) बेहद कम होना।

ब्लेंड (Whey protein blend) :

कंसट्रेट और आइसोलेट को मिलाकर ब्‍लेंड (make blend) बनाया जाता है। यह दोनों के मुकाबले सस्ता (cheaper) पड़ता है। मगर इसमें प्रोटीन की (less protein) मात्रा कम होती है। शरीर बनाने के लिए यह भी अपनी जगह (right place) सही है। जो लोग मसल्स (muscle) का साइज और थोड़ी शेप (size and shape) दोनों चाहते हैं वो इसे अपना सकते हैं।

100 परसेंट व्हे प्रोटीन क्या होता है : इसका मतलब ये है कि जो पाउडर (made powder) तैयार किया गया है वो सिर्फ व्‍हे से तैयार किया गया है। अंडे या सोयाबीन (egg or soyabean) वगैरा का प्रोटीन नहीं मिलाया गया है। सौ फीसदी प्रोटीन (100% protein) किसी पाउडर में नहीं होता। उसमें फैट, कार्ब्‍स और नमी (fat, carbs and moisture) भी होती है। तो अगर किसी डिब्बे पर लिखा है सौ फीसदी व्हे प्रोटीन तो इसका बस इतना ही मतलब है कि उसमें बस व्हे (only whey) ही है और कुछ नहीं। अगर आप प्रोटीन पाउडर को यूज (use) करने के बारे में सोच रहे हैं तो ये जरूर जान लें कि प्रोटीन सप्लीमेंट (protein supplement) कितनी बार और कब लें इससे आपको मैक्सिमम रिजल्ट (maximum result) मिलेगा।

चॉकलेट फ्लेवर में कम प्रोटीन क्यूं : Why less protein chocolate flavor?

प्रोटीन सप्‍लीमेंट में चाकलेट का टेस्‍ट (chocolate taste) लाने के लिए चाकलेट पाउडर के साथ साथ कोकोआ (cocoa) भी मिलाना पड़ता है। इसके चलते प्रति ग्राम में व्‍हे प्रोटीन की मात्रा कुछ कम (reduces some quantity) हो जाती है। मात्रा कम होगी तो प्रोटीन का प्रतिशत (reduces % of protein) भी घट जाएगा। वहीं वनीला (vanilla) के लिए बस फ्लेवर मिलाना होता है।

यह भी पढ़ें :- क्या आपको पता है कुछ ऐसी सब्जियां के बारे में जो आपको वियाग्रा से भी ज्यादा सेक्स पावर दे सकती है

नुकसान (Side effects of Whey Protein)

आमतौर पर व्‍हे प्रोटीन से कोई नुकसान (no harm) नहीं है। जरूरत से ज्‍यादा लेने पर कुछ दिक्कते जैंसे पेट का फूल जाना, ज्यादा प्यास (more thrust), भूख घटना, थकान (laziness) और सिरदर्द (headache) हो सकता है। वैसे कसरत (exercise) करने वालों को इनमें से कुछ नहीं होता। हां अगर गलती से आपने नकली सप्लीमेंट (duplicate supplement) ले लिया है तो उसके नुकसान हो सकते हैं।

अगर आप व्हे प्रोटीन को इस्तेमाल (want to use whey protein) करना चाहते हैं ? कोई बुराई नहीं। अपनी डाइट की केलकुलेशन (calculate the diet) कर लें कि आपको कितना प्रोटीन चाहिए। एक बात का ध्यान रखना, अगर आपको 200 ग्राम प्रोटीन की जरूरत है तो आपको 120 ग्राम खाने-पीने से (from diet) जुटाना होगा। 80 ग्राम प्रोटीन पाउडर (protein powder) चल जाएगा।

home remedies in hindi, घरेलू उपचार, gharelu nuskhe in hindi for health, घरेलू नुस्खे, alternative medicine in hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*