20 All Season Natural Home Remedies for Whole Life – हर पल काम आने वाले 20 सदाबहार घरेलु नुस्खे

20 All Season Natural Home Remedies for Whole Life – हर पल काम आने वाले 20 सदाबहार घरेलु नुस्खे

(1). प्याज के रस (onion juice) को गुनगुना करके कान में डालने से कान का दर्द (ear pain) ठीक होता है।

(2). प्रतिदिन 1अखरोट (walnut) और 10 किशमिश बच्चों को खिलाने से बिस्तर में पेशाब करने की समस्या (urine problem) दूर होती है।

(3). टमाटर के सेवन से चिढ़चिढ़ापन (irritation) और मानसिक कमजोरी दूर होती है। यह मानसिक थकान को दूर कर मस्तिस्क को तंदरुस्त बनाये रखता है। इसके सेवन से दांतो व् हड्डियों की कमजोरी (weakens of bones and teeth’s) भी दूर होती है।

यह भी पढ़ें :- झुक कर करें प्रणाम अगर अचानक दिखे अर्थी नही तो

(4). तुलसी के पत्तो का रस, अदरख का रस (ginger juice) और शहद बराबर मात्रा में मिलाकर 1-1चम्मच की मात्रा में दिन में 3 से 4 बार सेवन करने से सर्दी,जुखाम व् खांसी (relief) दूर होती है।

(5). चाय (tea leaves) की पट्टी की जगह तेज पत्ते की चाय पीने से सर्दी, जुखाम, छींके आना, नाक बहना, जलन व् सरदर्द में शीघ्र आराम (quick relief) मिलता है।

(6). रोज सुबह खाली पेट (empty stomach) हल्का गर्म पानी पीने से चेहरे में रौनक आती है वजन कम होता है, रक्त प्रवाह संतुलित (balanced blood flow) रहता है और गुर्दे ठीक रहते है।

(7). 5 ग्राम दालचीनी, दो लौंग (clove) और एक चौथाई चम्मच सौंठ को पीसकर 1 लीटर पानी में उबाले जब यह 250 ग्राम रह जाए तब इसे छान कर दिन में 3 बार पीने से वायरल बुखार (relief in viral fever) में आराम मिलता है।

(8). पान के हरे पत्ते के आधे चम्मच (half spoon) रस में 2 चम्मच पानी मिलाकर रोज नाश्ते के बाद पीने से पेट के घाव व् अल्सर (relief from ulcer) में आराम मिलता है।

(9). मूंग की छिलके वाली दाल को पकाकर यदि शुद्ध देशी घी (pure desi ghee) में हींग-जीरे का तड़का लगाकर खाया जाए तो यह वात, पित्त, कफ तीनो दोषो को शांत (sooth) करती है।

(10). भोजन में प्रतिदिन (everyday) 20 से 30% ताजा सब्जियों का प्रयोग करने से जीर्ण रोग ठीक होता है उम्र लंबी (long age) होती है शरीर स्वस्थ रहता है।

(11). भिन्डी की सब्जी खाने से पेशाब की जलन (burn in urine) दूर होती है तथा पेशाब साफ़ और खुलकर आता है।

SEMrush

यह भी पढ़ें :- जानिये बुद्धि बढ़ाने के हैं यह 8 बेहतरीन तरीके

(12). दो तीन चम्मच नमक (salt) कढ़ाई में अच्छी तरह सेक कर गर्म नमक को मोटे कपडे की पोटली में बांधकर सिकाई करने से कमर दर्द में आराम (relief in back pain)  मिलता है।

(13). हरी मिर्च में एंटीआक्सिडेंट (antioxidants) होता है जो कि शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता (immune growth) को बढ़ाता है और कैंसर से लड़ने में मदद करता है इसमें विटामिन-सी प्रचुर मात्रा में होता है जो कि प्राकृतिक प्रतिरक्षा (natural immune) में सुधार करता है।

(14). मखाने को देसी घी में भून (roast) कर खाने से दस्तो में बहुत लाभ होता है इसके नियमित सेवन से रक्त चाप (blood pressure), कमर दर्द तथा घुटने के दर्द में लाभ मिलता है।

(15). अधिक गला (soar throat) ख़राब होने पर 5 अमरुद के पत्ते 1 गिलास पानी में उबाल (boil) कर थोड़ी देर आग पर पका ठंडा करके दिन में 4 से 5 बार गरारे (gargle) करने से शीघ्र लाभ होता है।

(16). आधा किलो अजवाइन (ajwain) को 4 लीटर पान में उबाले 2 लीटर पानी बचने पर छानकर रखे, इसे प्रतिदिन (everyday) भोजन के पहले 1 कप पीने से लिवर (liver) ठीक रहता है एवं शराब पीने की इच्छा नहीं होती।

(17). नीम की पत्तियो (neem leaves) को छाया में सुखा कर पीस लें। इस चूर्ण में बराबर मात्रा में कत्थे का चूर्ण मिला ले। इस चूर्ण को मुह के छालो (mouth ulcer) पर लगाकर टपकाने से छाले ठीक होते है।

(18). प्रतिदिन सेब का सेवन करने से ह्रदय, मस्तिस्क (brain) तथा आमाशय को समान रूप से शक्ति मिलती है तथा शरीर की कमजोरी (relief in body weakness) दूर होती है।

यह भी पढ़ें :- जानिये के आपका चेहरा क्या कहता है आपके व्यक्तित्व के बारे में

(19). 20 से 25 किशमिश, चीनी मिटटी के बर्तन (crockery) में रात को भिगो कर रख दें। सुबह इन्हें खूब चबा कर खाने से लो-ब्लड प्रेशर (low blood pressure) में लाभ मिलता है व शरीर पुष्ट होता है।

(20). अमरुद में काफी पोषक (nutrient elements) तत्व होते है। इसके नियमित सेवन से कब्ज (constipation) दूर होती है और मिर्गी, टाईफाइड (typhoid) और पेट के कीड़े समाप्त होते है।

Loading...

Loading...
, , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *