9 Home Remedies for Childrens Cough and Cold , यह 9 नुस्खे बच्चों की सर्दी-खांसी को करे जड़ से खतम

9 Home Remedies for Childrens Cough and Cold – यह 9 नुस्खे बच्चों की सर्दी-खांसी को करे जड़ से खतम

Baccho/ Childrens - Kids ke Liye Nuskhe Cough/ Khaansi Ke Nuskhe

9 Home Remedies for Childrens Cough and Cold – यह 9 नुस्खे बच्चों की सर्दीखांसी को करे जड़ से खतम

प्रत्येक वर्ष (every year) सैकड़ों नवजात एवं छोटे बच्चे, विशेषतः कमजोर प्रतिरक्षा-तन्त्र (weak immune system) की कमजोरी के कारण, सर्दी-खांसी का शिकार (victim of cough and cold) होते हैं । वस्तुतः अधिकतर शिशु, अपने जीवन के प्रथम वर्ष (1st year of birth) में ही लगभग सात-बार इस समस्या से दो-चार होते हैं ।

घरेलू उपचार (home remedies) बच्चों की सर्दी-खांसी में राहत पहुंचा कर उनके प्रतिरक्षा-तंत्र को शक्तिशाली (make immune system stronger) बनाते हैं । फिर भी, अगर आपका शिशु तीन-माह से कम आयु का है और ज्वर से ग्रसित है (infected with viral) तो सदैव अपने चिकित्सक से (consult the doctor) परामर्श लें।

यह भी पढ़ें :- यह है 7 चौंकाने वाले कारण लंबे समय से सर्दी और जुकाम के ठीक ना हो पाने के | These are the 7 signs of cough and cold

बच्चों की सर्दीखांसी में कारगर नौ शीर्ष उपचार: 9 Top Home Remedies for Cough and Cold in Children’s 

  1. स्पंजस्नान – Sponge Bath- छोटे बच्चों का बुखार कम करने एवं शरीर के तापमान (maintain body temperature) को विनियमित करने हेतु, उन्हें दिन में दो से तीन बार ठन्डे पानी (cold water) से अथवा स्पंज-स्नान करवाएं । स्पंज को कमरे के तापमान के बराबर तापमान (room temperature) वाले पानी में भिगोकर उसका अतिरिक्त पानी (extra water) निचोड़ लें । और फिर बच्चे के तापमान को कम करने के लिए उसके हाथ-पैर, कांख एवं उसके कमर से नीचे के हिस्से (clean body parts) को पोंछे । एक अन्य विकल्प (other option) के तहत आप बच्चे के माथे पर गीली पट्टियां (wet bandages) भी रख सकते हैं । गीली पट्टियों को कुछ-एक मिनटों के अंतराल (gap) पर बदलते रहें । नोट: अत्यधिक ठन्डे पानी का इस्तेमाल ना करें यह शरीर के आंतरिक तापमान (internal body temperature) में बढ़ोतरी कर सकता है ।
  1. नींबू – Lemon- एक कढाई में चार-नींबू का रस, उनके छिलके और एक चम्मच अदरक (piece of ginger) की फांके लें । इसमें पानी डालें ताकि सारे के सारे अवयव इसमें डूब (dip) जाएँ। इसे ढक कर 10 मिनट तक काढें । इस प्रकार तैयार पानी (water) को अलग कर लें। अब इस तरल पेय (liquid diet) में उतनी ही मात्र में गर्म-पानी (hot water) तथा स्वाद के लिए शहद मिलाएं। बच्चे (children) को इस प्रकार तैयार गर्म नींबू-पानी (lemon water) दिन में कुछ-बार पीने को दें। नोट: एक-वर्ष से कम आयु के बच्चों के लिए चीनी (in place of sugar) के स्थान पर शहद मिलाएं ।
  1. शहद – Honey- एक-वर्ष या फिर उससे कम आयु के बच्चों के लिए, जोकि सर्दी-खांसी से पीड़ित (infected with cough and cold) हों, शहद एक सुरक्षित उपचार (safe treatment) है । दो चम्मच कच्चा शहद (honey) और एक चम्मच नींबू का रस (lemon juice) मिला लें । हर, कुछ एक घंटों के अंतराल (gap of few hours) के बाद राहत दिलाने के लिए पिलायें । एक गिलास गर्म-दूध (warm milk), शहद मिलाकर पीने से सूखी खांसी एवं सीने के दर्द (chest pain) में राहत मिलती है ।
  1. गर्म चिकन का सूप – Hot Chicken Soup- एक वर्ष से कम आयु के बच्चों के लिए गर्म चिकन का सूप (hot chicken soup is a good option) भी एक अच्छा विकल्प है । यह हल्का एवं पोषक (nutrition) होता है, तथा छाती जमने और नाक बंद होने से छुटकारा (relief) दिलाता है । इसमें उपस्थित एंटीऑक्सीडेंट (anti oxidant) ठीक होने की प्रक्रिया को अधिक तेज (increases) कर देते हैं । आप बच्चों (childrens) को दिन में दो से तीन बार यह सूप (soup) दे सकते हैं ।
  1. संतरे – Orange- संतरे में मौजूद विटामिन-सी (vitamin C) श्वेत रक्त कोशिकाओं का निर्माण बढाने में (helps in growing tissues) सहायक है । यही कोशिकाएं सर्दी-जुकाम के रोगाणुओं (fights with germs) से लडती है । संतरा प्रतिरक्षा-तंत्र को दृढ़ता प्रदान करके खासी, गले की दर्द (throat pain) और नाक बहने की समस्या में राहत पहुंचाता है। दो वर्ष से कम उम्र के बच्चे को प्रतिदिन एक से दो गिलास संतरे (2 glass of orange) का रस पिलायें। इससे कम आयु के बच्चों को बराबर मात्रा में पानी (equal amount of water) मिलाकर नियमित अंतराल (regular gap) के बाद पिलायें। बड़े बच्चों को, विटामिन-सी (vitamin C) की ख़ुराक अधिक करने के लिए, संतरे खाने (give oranges) को दिए जा सकते हैं।
  1. अदरक – Ginger- छः कप पानी में, आधा कप बारीक कटे हुए अदरक की फांके (piece of ginger) और दालचीनी (cinnamon) के दो छोटे टुकड़ों को 20 मिनट तक धीमी आंच (low flame) पर पकायें । फिर इसे छानकर चीनी या शहद (mix sugar and honey) मिलाकर दिन में कई (few times a day) बार बच्चे को पीने के लिए दें । एक वर्ष से कम आयु के बच्चों को बराबर मात्रा में गर्म-पानी (mix in warm water) मिलाकर पिलायें ।

यह भी पढ़ें :- जानिये क्या है महिलाओं के बारे में पुरुषों के मन में कुछ गलतफहमियां

  1. सेब का सिरका Apple Cider Vinegar- एक हिस्सा कच्चा, बिना छाना हुआ सेब का सिरका (apple cider vinegar) और दो हिस्से ठंडा पानी मिलाकर उसमें दो पट्टियां (dip 2 bandages) भिगोयें । फिर उन्हें निचोड़कर एक को माथे (forehead) पर और एक को पेट (Stomach) पर रखें । दस- दस मिनट के बाद पट्टियां (change bandages) बदलते रहें । प्रक्रिया को बुखार कम होने तक दोहरायें ।
  1. स्तन का दूध – Breast Milk- स्तनपान बच्चों के लिए अति महत्वपूर्ण (breastfeeding is important) है, खासकर जब वे बीमार हों । यह उन्हें अदभुत संतुलित पोषक-तत्वों (balanced nutrition diet) की श्रृंखला प्रदान करता है । जोकि उन्हें संक्रमण से लड़ने (fighting with infection) और शीघ्र स्वस्थ होने में सहायता (helps) करते हैं । छः माह से कम आयु के शिशुओं (babies_ को, सर्दी-खांसी से निजात (relief) दिलवाने के लिए, स्तनपान कराना चाहिए ।
  1. तरल पदार्थ – Liquid Diet- सुनिश्चित करें की आपके बच्चे को (enough liquid diet) भरपूर तरल-पदार्थ मिलें । अन्यथा वह निर्जलीकरण (dehydration) का शिकार हो सकता है, जिससे समस्या अधिक गंभीर (very serious) हो सकती है । शरीर में पानी का उचित स्तर (best level), मल -निकास को पतला करके आपके बच्चे के शरीर से कीटाणुओं का निकास (removes bacteria’s) करने में और बंद-नाक,छाती जमने आदि की समस्या (problem) से बचाता है ।

घरेलू नुस्खे , home remedies in hindi, herbal medicine in hindi, natural remedies in hindi, alternative medicine in hindi, natural medicine in hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *