Get Rid of This 8 Fear and Make Your Life Easy , इन 8 डर को दूर भगाएं और अपने जीवन को आसान बनाएं

Get Rid of This 8 Fear and Make Your Life Easy – इन 8 डर को दूर भगाएं और अपने जीवन को आसान बनाएं

Depression ke Nuskhe Motivational and Inspirational Nuskhe

Get Rid of This 8 Fear and Make Your Life Easy – इन 8 डर को दूर भगाएं और अपने जीवन को आसान बनाएं

हम सभी रोज कई व्यर्थ डरों (lots of fears) में जीते हैं, लेकिन यदि आपको अपने डर (win from fear) को जीतना है, तो पहले खुद को जीतना (win) पड़ेगा। डर से भागो मत, उसका डट कर (handle it strongly) सामना करो। क्योंकि जितना डर (run from fear) से भागोगे, वो आपके उतना पीछे भागेगा।

यह भी पढ़ें :- क्या आपको पता है कुछ ऐसी सब्जियां के बारे में जो आपको वियाग्रा से भी ज्यादा सेक्स पावर दे सकती है

 1    हमारा डर – Our Fear

हम रोज किसी न किसी डर का (facing fear daily) सामना करते हैं। लेकिन कमाल की बात है डर कहीं बाहर नहीं होता, वह हमारे (fear is inside us) भीतर ही होता है। स्वार्थ की अधिकता और आत्मविश्वास (lack of confidence) की कमी और अज्ञानता के कारण हम डरते हैं। इसलिए यदि आपको अपने (win from fear) डर को जीतना है, तो पहले खुद को जीतना (win) पड़ेगा। डर से भागो मत, उसका डट कर सामना (face it strongly) करो। जितना डर से डरकर भागोगे, डर उतना ही (fear is behind you) पीछे भागेगा।

2    मदद मांगने से डर – Fear of Taking Help

कहते हैं अकेला चना भाढ़ नहीं फोड़ सकता, और ये बात (true) सच भी है, हमारा समाज (society) एक दूसरे की मदद (help) से ही चलता है। लेकिन जब मन में ये डर का भाव (feeling of fear) आ जाए कि आप मदद मांगने से कमजोर साबित (proved weaken) होंगे तो यह एख व्यर्थ का डर है।

3    आप आगे, डर पीछे – Your Fear Behind You

दूसरे हमसे ज्यादा खुश हैं और सारी परेशानियां हमारी ही तकदीर (written in luck) में लिखी हैं, ये  सोच एक डर का रूप ले लेती है और हमारा पीछा (start chasing) करना शुरू कर देती हैं। इसी के चलते हम मुश्किलों का सामना (facing problems) करने के बजाय उनसे भागने लगते हैं। इस डर (fear) को भी आपको दूर करना होगा।

4    कमजोर होने का डर – Fear of Becoming Week

जिससे लड़ न (cant fight) पाओ, उससे दूर भाग जाना ही (option) विकल्प है। वैसे, हम चाहें भी तो असफलता (failure) के डर से दूर नहीं भाग सकते, क्योंकि डर कहीं बाहर (not come from outside) से नहीं आता, वह हमारे मन के अंदर ही बैठा (sit inside) रहता है। जैसे ही हम किसी चीज से भागना (running) शुरू करते हैं, और खुद ही सोच लेते हैं कि हम कमजोर (I am weak) हैं और इस चीज के काबिल (capable) नहीं हैं।

5    जिम्मेदारियों का डर – Fear of Responsibilities

अमूमन अपनी असफलता (failure), परेशानियों के लिए हम दूसरों को जिम्मेदार और दोषी (guilty) मान लेने की कोशिश करते हैं, जबकि कुछ जिम्मेदारियां (responsibilities) तो हमारी भी होती होंगी। ये जिम्मेदारियों का डर (fear) ही तो है। इस समस्या से बचने के लिए जो काम कल (work which leave on tomorrow) पर छोड़ा था, जिससे डर रहे थे, उसे उसी (complete work that time) वक्त कर डालें।

6    असफलता का डर – Fear of Failure

कोई भी ज़ीवन जीने की रूल बुक (rule book) लेकर पैदा नहीं होता। माता, पिता, शिक्षको और बड़ो की उपयोगी सलाह (useful suggestions) के बावजूद, हम में से सबको को दुनिया (world) में, अपने कई सबक खुद से सीखने (learn) पडते हैं। इसलिए न कि गलतियों (mistakes) से डर कर बैठ जाने के हमें गलतियां करके, उनसे सीख लेकर अपने रास्ते खुद (make own way) ही बनाने चाहिए।

7    स्वागत करें – Do Welcome

इससे पहले कि डर आपको शर्मीला (makes shy) बना दे, अपने डर को (accept your fear) स्वीकारें। उसे अपने शरीर में महसूस (feel) करें। उस पर बात करें। उसको कोई नाम देकर कहें कि डर (you are welcome fear) आपका स्वागत है।

यह भी पढ़ें :- जानिये दोस्तों को अपनी शादीशुदा जिंदगी की प्रॉब्लम्स क्यों नहीं बतानी चाहिये

8    माफी मागने से डर – fear of Apologize

कई बार लोगों ये समझने लगते हैं कि वे पारंगत (habitual) हो चुके हैं और गलतियां करने की गुंजायिश (possibility) ही नहीं बची है। ऐसे में वे न जाने क्यूं किसी से माफी मागने (apologize) से डरने लगते हैं। उन्हें इसमें खुद के स्वभिमान को चोट (self respect) पहुंचती दिखती है। जबकी माफी मांगना तो खुद को बेहतर (to make better) बनाने के रूप है।

9    खोजाने का डर – Fear of Searching

लोग अनायस ही कुछ खोज बैठने के डर में जीनें (living) लगते हैं। जैसे कहीं मेरी नौकरी (job) तो नहीं चली जाएगी, मेरा कोई अपना तो मुझे किसी कारण (because of some reason) से नहीं छोड देगा, भविष्य (future) में क्या होगा, आदि अनेक काल्पनिक (fear) भय। लेकिन ये पूरी तरह निर्थक होते हैं। बस सही तरह से काम (work properly) करें और अपनी जिम्मेजारियों (take responsibility) का वहन करें, सब ठीक ही होगा।

10    याद करें – Remember

इससे पहले कि अपनी अक्षमताओं का डर (fear) आपको भीतर से कमजोर और अकेला (alone) कर दे, अपनी पिछली उपलब्धियों (previous achievement) के बारे में सोचें। अपनी क्षमताओं को पहचानें (know your capacity) और काम को करना शुरू कर दें। इसके साथ ही अपने काम को महत्वपूर्ण बनाएं (make important) और स्वस्थ रहें। फोकस की कमी (lack of focus) या लगातार सेहत का ठीक न रहना भी कमजोर (weak) बनाता है। सबसे जरूरी सर्वश्रेष्ठ (best) का इंतजार नहीं, बस dil लगाकर काम करें और जीवन को खुल (make life happy)कर जियें।

घरेलू नुस्खे , home remedies in hindi, herbal medicine in hindi, natural remedies in hindi, alternative medicine in hindi, natural medicine in hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *