Did You Know Using Perfume Can Cause Cancer , जानलेवा कैंसर का कारण है रोजाना परफ्यूम लगाना

Did You Know Using Perfume Can Cause Cancer – जानलेवा कैंसर का कारण है रोजाना परफ्यूम लगाना

General Baatein/ Jaroori Baatein

Did You Know Using Perfume Can Cause Cancer – जानलेवा कैंसर का कारण है रोजाना परफ्यूम लगाना

कहीं भी जाना हो हम तैयार होने के बाद परफ्यूम (always using perfume) जरूर लगाते हैं, यह रोज प्रयोग करने वाली चीज (daily routine thing) बन गई है, लेकिन क्‍या आप जानते हैं इसमें कौन-कौन से केमिकल (did you know which chemicals are used in making perfume or deo) मिले होते हैं और ये कितने खतरनाक हैं, नहीं जानते तो (read this article) ये लेख पढ़ें।

CLICK HERE TO READ: जानिये नपुसंकता दूर कर मर्दांगनी फिर से वापस पाने के नुस्खे

    1    बचें खूशबूदार परफ्यूम से – Avoid High Fragrance Perfumes

पसीने की बदबू से परेशानी (problem of sweat) एक आम समस्या है, जिससे निपटने के लिए लोग बाजारों में (buying perfumes from market) मौजूद तरह-तरह के खूशबूदार डिओड्रेंट और परफ्यूम (good fragrance deo and perfumes) लगाना बेहतर मानते हैं। लेकिन ये खूशबूदार परफ्यूम आपके लिए खतरनाक (can proved dangerous for you) साबित हो सकते है। ऐसे परफ्यूम्स का जरूरत से ज्यादा इस्तेमाल आपको (can suffer from cancer) कैंसर जैसी गंभीर बिमारी का शिकार (victim) भी बना सकता है। परफ्यूम्स और डियोडरेंट्स में हानिकारक केमिकल्स (dangerous chemicals) मौजूद होते हैं जो स्वास्थ्य के लिए घातक (dangerous for health) होते हैं। परफ्यूम में मिले इन केमिकल्स से कई बार एलर्जी (allergy), अस्थमा, स्किन डिजीज (skin diseases) या फिर दूसरी तरह की अन्य गंभीर बीमारी (other serious diseases) हो जाती है। परफ्यूम में मौजूद इन घातक और अनहेल्दी केमिकल्स (dangerous and unhealthy chemicals) की पुष्टि कई शोधों में भी हो चुकी है। 2004 – 2016 में एक स्टडी हुई थी जिसमें इस बात की पुष्टि हुई की परफ्यूम में मौजूद हानिकारक केमिकल्स शरीर में हार्मोन बैलेंस (hormone imbalance) को डिस्टर्ब (disturb) करते हैं और ब्रेस्ट कैंसर (breast cancer) का कारण बनते हैं।

2    पसीना आना स्वाभाविक – Sweat is Natural

पसीना कम करने के लिए इस्तेमाल में लाए जाने वाले खुशबूदार उत्पादों से पसीने की स्वाभाविक प्रक्रिया (natural working) में बाधा पहुंचाती हैं जिससे शरीर में आर्सेनिक, कैडमियम, लीड (lead) और मरकरी (mercury) जैसे तत्व इकट्ठा हो सकते हैं। जो आपकी सेहत के लिए खतरनाक (dangerous for your health)होते हैं। आप पसीने से बचने के लिए घरेलू उपाय (can use home remedies) भी कर सकते हैं।

    3    एलर्जी होने का डर – Fear of Allergy

एक शोध (1 research) के अनुसार परफ्यूम व डियोड्रेंट आपके पसीने की ग्रंथियों को (effects sweat tissues) प्रभावित करते हैं और शरीर की टॉक्सिफिकेशन (toxification) की प्राकृतिक प्रक्रिया को भी नुकसान पहुंचाते हैं। ये आपके पसीने की बदबू को तो रोक (can stop sweat) देते हैं साथ ही त्वचा को हानि (dangerous for health) पहुचाते हैं। इससे आपको एलर्जी की शिकायत (complaint of allergy) हो सकती है।

    4    त्वचा मे शुष्की – Dryness in Skin

सिलिका अथवा ‘सिलिकॉन डाईऑक्साइड’ (Silica, SiO2) ऑक्सीजन और सिलिकन (oxygen and silicon) से योग से बना होता है। इसका इस्तेमाल बालू में उपस्थित छोटे-छोटे कांच (powder of glass) के कण काँच, सिरेमिक सामानों के निर्माण (using in ceramic products) और तापरोधी ईंटें (bricks) बनाने में किया जाता है। अब आप खुद ही समझ सकते (understand yourself) हैं कि ये केमिकल त्वचा में जलन पैदा (skin starts burning) का कारण भी बन सकती है जिससे स्किन एलर्जी की (problem of skin allergy) समस्या होती है। सिलिका के अलावा इसमें मौजूद टेल्क रसायन (talc chemical) शरीर में कैंसर का कारण बनता है। इंटरनेशनल एकेडमी फॉर रिसर्च ऑन कैंसर (international academy for research on cancer) के मुताबिक अगर इसमें एस्बेस्टिफॉर्म फाइबर (esbestiform cancer) हैं तो ये कैंसर का कारण बन सकता है।

    5    गर्भावस्था मे खतरनाक – Dangerous in Pregnancy

एक शोध (research) के अनुसार गर्भावस्था मे परफ्यूम के इस्तेमाल (avoid perfume in pregnancy) से बचना चाहिए। तेज खूशबू वाले परफ्यूम (strong perfumes) से होने वाले बच्चे के हार्मोंस में गड़बडी (imbalance in hormones) हो सकती है और उसे नुकसान पहुंच सकता है। इसलिए डाक्टर (doctor) भी गर्भावस्था के दौरान परफ्यूम इस्तेमाल ना (never suggest using of perfumes in pregnancy) करने की सलाह देते हैं।

    6    संवेदनशील त्वचा के लिए हानिकारक – Dangerous For Sensitive Skin

तेज खूशबू वाले परफ्यूम संवेदनशील त्वचा (sensitive skin) के लिए बहुत हानिकारक होते हैं। अगर त्वचा में किसी तरह का रिएक्शन (skin reaction) हो जाता है तो प्रभावित स्थान को ठंडे पानी से धोएं (wash with cold water) और फौरन किसी डर्मेटोलॉजिस्ट से मिलें। ट्राइक्लोसन केमिकल (chemical) का इस्तेमाल परफ्यूम या डियोडरेंट्स (deodorant) को बैक्टीरिया रोधी यानी एंटीबैक्टीरियल (anti bacterial) बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इस केमिकल का इस्तेमाल कई एंटीबैक्टीरियल साबुनों (antibacterial soaps) में भी किया जाता है। लेकिन ये केमिकल शरीर में मौजूद अच्छे बैक्टीरियाओं (kills good bacteria’s of body) को भी नष्ट कर देता है। अमेरिका के फूड एंड ड्रग्स डिपार्टमेंट (America food and drugs department) ने इसे पेस्टीसाइड बताया है। इसके कारण त्वचा संबंधिक (skin related diseases) तई तरह की बीमारियां होती हैं। अब तो हाल ही में किए गए शोध (research) में तो इस बात की भी पुष्टि कर दी गई है कि ये रसायन गर्भ में पल रहे शिशुओं और नवजातों के शारीरिक (bad effect on physical growth) विकास पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है।

CLICK HERE TO READ: अगर बड़ी उमर में भी जवान दिखना चाहते हो तो अभी शुरू करें इन 5 चीजों को खाना

7    कई बीमारियों को न्यौता – Invitation to Some Many Diseases

परफ्यूम कई तरह की बीमारियों का (perfume can be a reason of dangerous diseases) कारण भी बन सकता है। प्रॉपिलीन गलायसोल एक एलर्जिक रसायन (allergic chemical) है जो शरीर में एलर्जिक रिएक्शन पैदा करता है। ये एक तरह का न्यूरोटॉक्सिक रसायन (neurotoxin chemical) है जो किडनी को डैमेज करने (reason of kidney damage) का कारण बनता है। स्टीरेथ एन सब्जियों से मिलने वाला केमिकल है। लेकिन ये रसायन (chemical) तब तक ही हानिकारक नहीं होता जब तक की ये सब्जियों (vegetables) में रहता है। सब्जियों के बजाय इसे परफ्यूम, क्रीम या अन्य उत्पादों में मिलाने पर स्वास्थ्य (dangerous for health) के लिए घातक बन जाता है। कई बार इसकी मात्रा अधिक होने (big dose can be a cause of cancer) पर कैंसर का कारण भी बन जाती है।

    8    ध्यान से करें इस्तेमाल – Use it Carefully

परफ्यून का इस्तेमाल करते समय भी (use it carefully) सावधानी रखें। इसे सीधे शरीर पर न (never use directly on skin) लगाएं, बल्कि कपड़ों पर (spray on clothes) स्प्रे करें। ज्यूलरी (jewelry) पहनने से पहले परफ्यूम स्प्रे कर लें, नहीं तो इसमें मिले कैमिकल्स से ज्यूलरी की चमक (chemicals can affect the shine of jewelry) प्रभावित हो सकती है। पार्टी में जाने या बाहर (party or outing) घूमने जाने से 10-15 मिनट पहले परफ्यूम (use perfume) लगा लें, जिससे यह अच्छी तरह सेट हो जाए।

घरेलू नुस्खे , home remedies in hindi, herbal medicine in hindi, natural remedies in hindi, alternative medicine in hindi, natural medicine in hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *