Know about the Side Effect of Whey Protein – जानिये व्हे प्रोटीन से होने वले खतरनाक साइड-इफेक्ट के बारे मे

Body/ Shareer Banane ke Nuskhe Protein Diet/ Protein Shake

Know about the Side Effect of Whey Protein – जानिये व्हे प्रोटीन से होने वले खतरनाक साइडइफेक्ट के बारे मे

जिम में घंटों वर्कआउट (hours of workout) के बाद दोबारा एनर्जी (energy) के लिए लोग व्‍हे प्रोटीन (whey protein) का सेवन करते हैं, यह हमारे शरीर के लिए कितना (how unhealthy) नुकसानदेह है, इस article में जानते हैं।

    1    नुकसानदेह है व्हे प्रोटीन– Whey Protein is Unhealthy

प्रोटीन मांसपेशियों (important for muscles) के लिए बहुत जरूरी है, उन लोगों के लिए खासकर जो (those going gym) जिम जाते हैं। लेकिन जो लोग जल्दी से जल्दी बॉडी-बिल्डर (body builder) बनने की ख्वाहिश रखते हैं वे अतिरिक्त मात्रा में प्रोटीन (eating extra protein) का सेवन करते हैं और व्हे प्रोटीन (whey protein) का सेवन भी इसमें है। इसे चीज यानी पनीर को प्रासेस (processed cheese) करके बनाया जाता है। व्हे प्रोटीन तीन प्रकार का होता है – कंसन्ट्रेट, आइसोलेट और हाइड्रोलिसेट। कांसन्ट्रेट में अधिक फ्लेवर (no flavor) नहीं होता, आइसोलेट में फैट कम (low fat) होता है और हाइड्रोलिसेट बहुत जल्दी (effect fast) असर करता है। व्हे प्रोटीन बहुत मंहगा (very costly) भी होता है। इसका अधिक सेवन कितना खतरनाक (dangerous) हो सकता ह.

यह भी पढ़ें :- ऐसे जबरदस्त रोचक तथ्य और जानकारी जो अपने पहले कभी नहीं पढ़ी होंगी

    2    किडनी में स्टोन– Stone in Kidney

व्हे प्रोटीन का अधिक प्रयोग करने से किडनी में पथरी (can cause kidney stone) की समस्या हो सकती है। क्योंकि इसमें प्रोटीन अधिक मात्रा में होती है इसके कारण ही यह किडनी में पथरी (reason of stone) का कारण बन सकता है। हालांकि अभी तक यह प्रमाणित (certified) नहीं हुआ है कि व्हे प्रोटीन का अधिक सेवन (eating more protein) करने से किडनी स्टोन हो सकता है, लेकिन यह बात प्रमाणित हो चुकी है कि अगर किडनी स्टोन की समस्या (suffering from kidney stone) पहले से है तो व्हे प्रोटीन के अधिक सेवन से यह और भी बदतर (can be worst) हो सकती है। ऐसे में फाइबर और पानी (add more fiber and protein) का अधिक सेवन करके इस समस्या से निजात (relief from this problem) मिल सकती है।

    3    पेट की समस्या– Stomach Problems

हालांकि वर्कआउट (workout) के बाद समाप्त हुई एनर्जी को दोबारा बूस्ट (to gain energy again) करने के लिए व्हे प्रोटीन का सेवन बहुत अच्छा (whey protein is good) माना जाता है। लेकिन इससे पेट की समस्यायें (stomach problems) भी हो सकती हैं खासकर (constipation) कब्ज। व्हे प्रोटीन में लैक्टोज (more lactose cause constipation) की मात्रा अधिक होती है जिसके कारण यह कब्ज का कारण बनता है। लैक्टोज इंटॉलरेंस (lactose intolerance) से ग्रस्त लोगों को इसके सेवन से बचना चाहिए। इसलिए अगर पेट की समस्या से आप बचना चाहते हैं तो (avoid whey protein) व्हे प्रोटीन का सेवन न करें।

    4  वजन बढ़ना– Weight Gain

यह सुनकर शायद आपको थोड़ा अजीब (you may feel strange) लगे कि प्रोटीन के सेवन से वजन कैसे बढ़ सकता है, लेकिन यह सच है। दरअसल व्हे प्रोटीन में शुगर (sugar) के अलावा कार्बोहाइड्रेट (carbohydrates) भी होता है जो न केवल मांसपेशियों (muscles) बल्कि शरीर का भी फैट (fat)  बढ़ाता है।

    5    गाउट की समस्या– Gout Problem

व्हे प्रोटीन के अधिक सेवन से गाउट (gout problem) की समस्या भी हो सकती है। हालांकि गाउट आनुवांशिक (genetic) भी होता है, अगर आपके परिवार (family) में किसी को गाउट हुआ हो तो आप व्हे प्रोटीन का सेवन (never eat whey protein) कभी न करें। दरअसल व्हे प्रोटीन में एमिनो एसिड (amino acid) होता है जो गाउट का प्रमुख (main reason) कारण है।

CLICK HERE TO READ: जानिये आखिर यह 7 फल और सब्जियां कैंसर के जानी दुश्मन कैसे हैं

    6    दूसरी समस्यायें– Other Problems

व्हे प्रोटीन के सेवन (eating) से शरीर में प्रोटीन की अधिक मात्रा से मिनरल असंतुलित (minerals imbalance) होने के कारण मिनरल बॉडी डेन्सिटी (body density) के कम होने का खतरा रहता है। यह लीवर को (effects the liver) भी प्रभावित करता है। व्हे प्रोटीन एक सप्लीमेंट (supplement) है इसलिए इसका इस्तेमाल प्रोटीन के मुख्य श्रोत (not use it as a main source of protein) वाले खाद्य पदार्थों की तरह न करें, बल्कि इसका सेवन एक प्रोटीन सप्लीमेंट (use as a protein supplement only) की तरह ही करें।

home remedies in hindi, घरेलू उपचार, gharelu nuskhe in hindi for health, घरेलू नुस्खे, alternative medicine in hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *