यह है वो कारण किडनी फेल होने के जो देते है यमराज को दावत- Reasons of Kidney Failure which invites King Yama

यह है वो कारण किडनी फेल होने के जो देते है यमराज को दावत- Reasons of Kidney Failure which invites King Yama

किडनी फेल (kidney failure) की होने की अंतिम स्थिति (last situation) से तात्पर्य किडनी के पूरी तरह काम न कर पाने से है। यदि कोई व्यक्ति किडनी फेल होने की अंतिम स्थिति में होता है तो उसके लिए कुछ नहीं (nothing can be done) किया जा सकता। इस अवस्था में Dialysis ही एकमात्र हल (only option) होता है. Dialysis के जरिये शरीर का अपशिष्ट पदार्थ (toxic product) बाहर निकाला जाता है.

अत: यह महत्वपूर्ण (important) है कि जब भी आपको किडनी से संबंधित (kidney related problem) कोई समस्या आए तो आप तुरंत किसी योग्य व पेशेवर चिकित्सक (professional doctor) की सलाह लें। यहाँ किडनी फेल होने की चेतावनी (warning) से संबंधित लक्षणों (related symptoms) के बारे में बताया गया है।

अपने तथा अपने प्रिय लोगों (loving ones) के स्वाथ्य का ध्यान रखना (health care is important) महत्वपूर्ण है अत: इन लक्षणों के (know about the symptoms) बारे में जानें।

यह भी पढ़ें :- जानिये अगर कुछ दिन नमक खाए तो इसका सेहत पर क्या असर पड़ेगा

यह भी पढ़ें :- यह है वो 8 विटामिन्स और मिनरल्स जो पर्याप्त है हाई ब्लडप्रेशर रोकने के लिए

मुँह से बदबू निकलना और स्वाद भी खराब हो जाना – Bad Breath and Taste

अगर दूसरे लक्षण (other symptoms) नजर में नहीं भी आ रहे हैं तो यह लक्षण साफ नजर आता है। किडनी के खराब (poor kidney) होने के कारण रक्त में यूरिया का स्तर (urea level grows in blood) बढ़ जाता है जिसके कारण मुँह से बदबू (bad breath) निकलने लगता है और जीभ का स्वाद (bad taste of tongue) भी बिगड़ जाता है।

एडेमा: Edema

एडेमा के पहले चरण में केवल पैरों में सूजन (foot swelling) आती है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि किडनी शरीर से पानी बाहर (kidney cant remove water from body) नहीं निकाल पाती। इससे शरीर में पानी भर जाने की समस्या (problem) हो जाती है।

एनीमिया: Anemia

किडनी का एक मुख्य काम शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं (Red blood cells) के निर्माण को व्यवस्थित (maintain the development) बनाये रखना है। दुर्भाग्य (unluckily) से जब किडनी फेल होना शुरू होती है तो लाल रक्त कोशिकाओं (red blood cells) के निर्माण में कमी (lack of development in blood tissue) आ जाती है जिसके कारण एनीमिया (anemia) होता है।

हेमेट्युरिया:

जब किडनी फेल होना प्रारंभ (starts) होती है तो आपके मूत्र में रक्त के लाल (red spots in urine) थक्के दिखाई देते हैं। किडनी की समस्या होने पर विभिन्न लोगों को विभिन्न तरह की समस्याओं (different types of problems in different persons) का सामना करना पड़ता है जैसे मूड स्विंग्स (change in mood- मूड में बदलाव), भ्रम और मतिभ्रम।

पीठ में तेज़ दर्द: Strong Pain in Back

यह दर्द बहुत अधिक तीव्र (strong pain) होता है तथा शरीर के एक ओर के पिछले हिस्से (back of the body) में होता है। यह दर्द पेट (stomach ache) में नीचे की ओर होता हुआ कमर और अंडकोष तक भी पहुँच सकता है।

SEMrush

मूत्र त्याग में कमी: Lack in Urine

मूत्रत्याग के समय मूत्र की कम मात्रा (less quantity of urine) का आना हर बार किडनी की समस्या की ओर संकेत (sign) नहीं करता परन्तु यदि आपको ऐसा लगता है कि शरीर से निकलने वाले इस तरल पदार्थ की मात्रा में (lac of liquid in body) कमी आई है तो आपको चिकित्सीय परामर्श (medical consultant) अवश्य लेना चाहिए।

झाग जैसा मूत्र – Urine like Foam

मूत्र त्याग करने के बाद जब उसमें झाग जैसा पैदा होने लगता है तब यह किडनी के खराब होने के प्रथम लक्षणों (first sign of poor kidneys) के संकेत होते हैं। यह शरीर से प्रोटीन (protein) के निकलने के कारण होता है जो किडनी के बीमारी के दूसरे लक्षणों (added in other symptoms) में शामिल होता है।

भूख कम लगना – Not Feeling Hungry

शरीर में अवांछित पदार्थ (unwanted products) ज़रूरत से ज़्यादा जम जाने के कारण यह लक्षण महसूस (symptoms can be feel) होने लगता है। किडनी के बीमारी के कारण दूसरे लक्षण समझ में आए न आए यह लक्षण (can see this symptom) ज़रूर नजर आता है। इसलिए जैसे ही यह लक्षण समझ में आए तुरन्त (contact the doctor suddenly) डॉक्टर से सलाह ले लेनी चाहिए।

साँस लेने में असुविधा – Uncomfortable in Breathing

जब किडनी की अवस्था खराब (kidney in bad situation) होने लगती है तो लंग्स (lungs) में फ्लूइड जमने लगता है जिसके कारण साँस लेने में असुविधा (uncomfortable in breathing) होने लगती है। अनीमीआ के कारण शरीर में ऑक्सिजन की कमी (lack of oxygen) हो जाती है जिसके कारण भी साँस लेने में असुविधा (uncomfortable while breathing) होने लगती है।

उद्वेग: – Shaking

जब किडनी फेल होना प्रारंभ (when it starts) होती है तो शरीर के कुछ हिस्सों में उद्वेग, कंपन (vibrations) या अनैच्छिक हलचल (movement) होने लगती है।

मूत्र में असामान्य और गंदी बदबू आना: Abnormal Smell in urine

ऐसे व्यक्ति (person) जिनकी किडनी फेल हो रही हो उनके मूत्र से मीठी (sweet) और तीख़ी गंध (strong smell) आती है।

यह भी पढ़ें :- जानिये आंखों पर किस प्रकार से पड़ता है जोर कंप्यूटर पर काम करते करते

यह भी पढ़ें :- एप्पल साइडर विनेगर के इन 6 प्रयोग से पाइये साफ त्वचा और घने बाल

त्वचा में रैशेज़ और खुजली – Rashes and Itching in Skin

वैसे तो यह लक्षण (symptoms) कई तरह से बीमारियों के लक्षण होते हैं लेकिन किडनी के खराब (bad kidney) होने पर शरीर में विषाक्त पदार्थों (toxic products) के जम जाने के कारण शरीर के त्वचा के ऊपर रैशेज़ (rashes) और खुजली (itching) निकलने लगते हैं।

मतली और उल्टी – Nausea and Vomiting

शरीर में विषाक्त पदार्थों का स्तर (level increases) बढ़ जाने के कारण मतली और उल्टी (nausea and vomiting starts) होने लगता है।

मल में रक्त आना: Blood in Stool

मल में रक्त (bleeding in stool) आना भी कभी कभी किडनी फेल होने की ओर संकेत (sign of kidney failure) करता है।

आयुर्वेदिक उपचार, घरेलू उपचार, gharelu nuskhe in hindi for health, alternative medicine in hindi

Loading...

Loading...
, , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *