मां बनने के बाद एक साल में यह बदलाव आते है ब्रेस्ट मिल्क में – Know What Changes In Breasts After Becoming Mothers

Pregnancy Ke Nuskhe Womens/ Ladies Problems ke Nuskhe

मां बनने के बाद एक साल में यह बदलाव आते है ब्रेस्ट मिल्क में – Know What Changes In Breasts After Becoming Mothers

नवजात बच्चे के लिए मां का दूध सबसे पोषक आहार (nutritious diet) होता है। यही कारण है कि स्वास्थ्य विशेषज्ञ (health specialist) भी स्तनपान की सलाह देते हैं। वास्तव में स्तनपान से मां और बच्चे दोनों को कई लाभ (benefits for mother and baby child) होते हैं।

मां का शरीर यह सुनिश्चित करता है कि दूध में सभी आवश्यक पोषक तत्व और प्रतिरोध क्षमता (immune system) बढ़ाने वाले तत्व शामिल हों। अत: बच्चे के शुरुआती विकास (early stage) के चरणों में उसे मां का दूध पिलाने (mother feed) की सलाह दी जाती है। बच्‍चें के जन्‍म के बाद पहले वर्ष (first year of birth) के विभिन्न चरणों में दूध की आपूर्ति और उपभोग में कई परिवर्तन (so many changes) होते हैं ताकि बच्चे का स्वस्थ विकास (health baby) हो सके।

यह भी पढ़ें :- जानिये कौन कौन से आहार है महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए| Jaaniye kaun kaun se ahaar hai mahilaon ke swasthya ke liye

यहां कुछ परिवर्तन बताये गए हैं- Changes are written below:-

1- प्रसव (after delivery) के बाद कुछ दिनों तक स्तनों (breast) से कम दूध (milk) आता है। परन्तु यह बहुत अधिक पोषक होता है। इसमें कोलोस्ट्रम (colostrum) होता है। यह पीले रंग (yellow color) का होता है।

2- जन्म के 2-3 दिन बाद परिपक्व दूध (enough milk) आता है। जैसे जैसे स्तनपान की मात्रा बढ़ती है वैसे वैसे दूध अधिक गाढ़ा (more thick milk) होता जाता है।

3- छटवें सप्ताह के बाद दूध में एंटीबॉडीज (anti bodies) पाए जाते हैं जो बच्चे की रक्षा (for child safety) करते हैं।

4- 3 महीनों बाद दूध में अधिक कैलोरीज़ (calories) आती हैं ताकि बच्चे का विकास (good growth) अच्छी तरह हो।

5- 6 महीने बाद दूध के साथ ओमेगा एसिड्स (omega acid) भी आते हैं। इससे बच्चे के दिमाग का विकास (growth of brain) होता है।

यह भी पढ़ें :- जानिये कारण नवजात शिशु के सही प्रकार से वजन बढ़ने के | Know the reason for not gaining weight by New Born Baby

6- 12 महीनों के बाद दूध में उच्च मात्रा में ओमेगा एसिड्स (omega acid) और कैलोरीज़ (calories) पाए जाते हैं। यह वह स्थिति होती है जब बच्चे की मांसपेशियां (muscles) और मस्तिष्क (brain) तेज़ी से बढ़ते हैं। इस प्रकार प्रकृति (nature knows) यह जानती है कि मां के दूध (mother feed) के माध्यम से बच्चे को कब और किन पोषक तत्वों की आवश्यकता (needed) होती है।

आयुर्वेदिक उपचार, घरेलू उपचार, natural healing in hindi, household remedies in hindi

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *