क्या है कब्ज, कैसे होती है कब्ज, कैसे दूर करे कब्ज – Know everything about constipation, how it happens and what is the cure

Stomach/ Pet ke Nuskhe

क्या है कब्ज, कैसे होती है कब्ज, कैसे दूर करे कब्ज – Know everything about constipation, how it happens and what is the cure

लगभग हर कोई अपनी लाइफ़ में कभी न कभी पेट साफ़ (stomach cleaning) ना होने यानि कब्ज की बीमारी (disease of constipation) का सामना करता है। ज्यादातर मामलों में ये समस्या (problem) कुछ ही दिनों में ठीक हो जाती है पर बहुत से लोग सालों साल इसकी वजह से परेशान (problem) रहते हैं।

आज हम आपको कब्ज की परेशानी (problem of constipation) दूर करने के कुछ बड़े ही आसान उपाय (easy trick) बता रहे हैं, जिन्हें अपना कर आप इस समस्या से हमेशा के लिए छुटकारा (relief from this problem) पा सकते हैं। आइये इसके बारे में हम विस्तार (detail) से जानते हैं।

यह भी पढ़ें :- आपकी सेक्स अपील को बड़ाती है यह 6 नॉन सेक्सुअल बातें | These 6 sexual tips increase your sex appeal

कब्ज क्या है?  What is constipation?

कब्ज एक ऐसी स्थिति है जिसमे व्यक्ति का पेट ठीक से साफ (stomach cleaning property) नहीं होता है और मल त्याग करते समय कष्ट (problem) भी होता है। कब्ज से पीड़ित व्यक्ति (patient) आम लोगों की तुलना में कम बार शौच (toilet) करता है। जहाँ आम तौर (mostly) पर लोग दिन में कम से कम एक बार शौच करते हैं वहीँ  कांस्टीपेशन का मरीज (constipation patient) 3 या उससे भी ज्यादा दिनों तक मॉल त्याग (not doing constipation) नहीं कर पाता। इस कारण से उसका पेट भार-भारी (heavy stomach) रहता है और भोजन (food) में भी अरुचि हो जाती है। कब्ज के कारण कुछ लोगों को उल्टी (vomiting) भी हो जाती है और सर में दर्द (headache) भी बना रहता है।

कब्ज के लक्षण क्या-क्या हैं? What are the Symptoms of Constipation

    ठीक से मल त्याग ना होना (not cleaning wastage)या पेट ना साफ़ होना

    मल त्याग करने में तकलीफ (problem) होना

    स्टूल (stool-टट्टी/मल) का बहुत हार्ड (hard) और कम मात्रा में होना

    बार-बार ऐसा लगना कि अभी थोड़ा और मल त्याग (more stool) करना चाहिए

    पेट में सूजन (swelling) या दर्द (pain) होना

    उल्टी होना (vomiting)

यह भी पढ़ें :- ये 10 आहार घटाएं नाइट शिफ्ट में करने वाले लोंगो में मोटापा diet reduces weight of those who works in shifts

कब्ज होने के कारण | Reasons/ Cause of Constipation

    भोजन ग्रहण (eating food) करने में अनियमितता (irregularity)

    बासी भोजन करना

    अति विश्राम / कम शारीरिक (physical) श्रम

    मानसिक तनाव / टेंशन (mental stress)

    अधिक चिकनाई वाला भोजन (more oily food)

    आंतों की कमजोरी (weakness of intestine)

    कम पानी पीना (less water)

    धूम्रपान / कैफीन द्रव्यों का सेवन (smoking)

    खाना खाते समय अधिक (eating more water) जल ग्रहण करना

    स्वभाव (nature) में अधिक उग्रता

    गरम मसाले (hot masala)वाले तथा अधिक तैलीय खाना (oily food)

यह भी पढ़ें :- सुबह जल्दी उठने की आदत डालें इन टिप्स से

इसबगोल (isabgol) की भूसी कब्ज में परम हितकारी (more favorable) है। दूध या पानी के साथ 2-3 चम्मच (spoon) इसबगोल की भूसी रात को सोते वक्त (on the time of sleeping) लेना फ़ायदे मंद है। दस्त (loose motion) खुला होने लगता है।यह एक कुदरती रेशा है और आंतों की सक्रियता (increases intestine) बढाता है।

1)  नींबू (lemon) कब्ज में गुण्कारी है। मामुली गरम जल (warm water) में एक नींबू निचोडकर दिन में 2-3 बार पियें। जरूर लाभ(benefit) होगा।

नींबू का रस (lemon juice) गर्म पानी के साथ रात्रि‍ में लेने से दस्‍त खुलकर (constipation opens) आता हैं। नींबू का रस और शक्‍कर (sugar) प्रत्‍येक 12 ग्राम एक गि‍लास पानी (water) में मि‍लाकर रात को पीने से कुछ ही दि‍नों में पुरानी से पुरानी कब्‍ज (relief from old constipation) दूर हो जाती है।

2)  एक गिलास दूध (milk) में 1-2 चाम्मच घी (ghee) मिलाकर रात को सोते समय पीने से भी कब्ज रोग का समाधान (help in problem) होता है।

3)  एक कप गरम जल (warm water) मे 1 चम्म्च शहद (honey) मिलाकर पीने से कब्ज मिटती है। यह मिश्रण (mixture) दिन मे 3 बार पीना हितकर है।

4)  जल्दी सुबह उठकर (wake yup early) एक लिटर मामूली गरम पानी पीकर 2-3 किलोमीटर घूमने जाएं। कब्ज का बेहतरीन उपचार (better treatment of constipation) है।

5)  अमरूद और पपीता (amrood and papaya) ये दोनो फ़ल कब्ज रोगी (constipation patient) के लिये अमॄत समान है। ये फ़ल (fruit) दिन मे किसी भी समय खाये (eat anytime) जा सकते हैं। इन फ़लों में पर्याप्त रेशा होता है और आंतों को शक्ति (strength to intestine) देते हैं। मल आसानी से विसर्जीत (stool passing easily) होता है।

CLICK HERE TO READ: सुंदरकांड की यह करिश्माई चौपाई आपको हर मुसीबत से बचा सकती है

6)  अंगूर (grapes) मे कब्ज निवारण के गुण हैं । सूखे अंगूर याने किश्मिश (kishmish) पानी में 3 घन्टे गलाकर खाने से आंतों को ताकत (strength to intestine) मिलती है और दस्त आसानी (stool pass easily) से आती है। जब तक बाजार मे अंगूर मिलें नियमित रूप से उपयोग (use it regularly) करते रहें।

7)  पालक का रस (spinach juice) या पालक कच्चा खाने से कब्ज नाश (kills constipation) होता है। एक गिलास (glass) पालक का रस रोज पीना उत्तम (perfect) है। पुरानी से पुरानी कब्ज (old constipation) भी इस सरल उपचार (easy treatment) से मिट जाती है।

आयुर्वेदिक उपचार, घरेलू उपचार, natural healing in hindi, household remedies in hindi

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *