इन देसी नुस्खों से कीजिये अपने पेट के कीड़ों का विनाश | In desi nuskho se kijiye apne stomach worms ka treatment

Stomach/ Pet ke Nuskhe

इन देसी नुस्खों से कीजिये अपने पेट के कीड़ों का विनाश | In desi nuskho se kijiye apne stomach worms ka treatment

हम आपको कुछ ऐसी ही औषधियाँ (ayurvedic herbs) बता रहे हैं जिनसे बिना किसी साइड इफेक्ट (without side effects) के इन परजीवियों से छुटकारा पाया जा सकता है। ये परजीवी आपका खाना खाकर (after eating food) आपको भूखा रख सकते हैं। इनमें से कुछ आपकी लाल रुधिर कोशिकाओं (blood cells) पर निर्भर रखते हैं जो कि आपको एनीमिया (anemia) जैसी बीमारी दे सकते हैं। कुछ आपके शरीर में अंडे (can lay egges in you) देकर आपको बेचैन और असहज (unfomfortable) कर सकते हैं।

शरीर के अंदर इन परजीवियों का पनपना कई बातों पर निर्भर (depends on so many things) करता है। इसका कारण है स्वच्छता नहीं रखना, कमजोर इम्यून सिस्टम (weak immune system) और साफ सफाई पर ध्यान नहीं देना।

कुछ मामलों में, ये परजीवी शरीर में कई सालों से रहते हैं (living from years) लेकिन उनके लक्षण दिखाई नहीं देते हैं। तो, आप है ना उत्सुक  (excited about knowing them) जानने को। आइये हम बताते हैं ऐसी औषधियाँ जिनसे इन परजीवियों को खत्म (how to finish them) किया जा सकता है।

CLICK HERE TO READ: इन सपनों से पता चलता है के आपको धन लाभ होगा या धन हानि

  1. लहसुन : Garlic

लहसुन आपके शरीर से फुंगी (fungus), परजीवी (parasites) और वाइरस(virus) को खत्म करता है। लहसुन, शरीर में मौजूद सूक्ष्म जीवों को खत्म करने और उनको मारने की क्षमता (can kill them) रखता है। यह परजीवियों को मारने की एक बढ़िया औषधि है।

  1. काले अखरोट : Black Walnut

ये आंतों और खून को साफ करने में फायदेमंद (helps to clean body) हैं। इसका इतेमाल फुंगी को और साथ ही साथ परजीवियों को मारने (can kill infections in body) में भी किया जा सकता है।

  1. नागदौन (वार्मवुड) :

इसकी पत्तियाँ (leaves) और फूल पेट की समस्याओं को दूर करने में मददगार (helps in this problem) हैं। आंत के कीड़ों को खत्म करने और रोगाणुओं व संक्रमण (helps in treatment of infection and diseases) का इलाज करने में भी ये कारगर है। गर्भवती महिलाओं (pregnant womens) को इसका सेवन नहीं (avoid this) करना चाहिए।

  1. लौंग : Cloves

लौंग आंत के अंदर कीड़ों के अंडों को खत्म (finishes eggs) करती है। इसके लिए ये एक मजबूत औषधि (strong herbs) है। लौंग को यदि नागदौन के साथ मिला दिया जाये तो ये बैक्टीरिया, वाइरस, फुंगी और रोगाणुओं को मार सकती है। परजीवियों को मारने के लिए ये एक शानदार (awesome herb) औषधि है।

CLICK HERE TO READ: यह है 6 दमदार और रामबाण नुस्खें जिनसे आप ख़ुद को बढ़ती उम्र में जवान बनाये रख सकते है

  1. अजवायन के फूल (थाइम) :

ये थाइमस ग्रंथि के लिए लाभकारी हैं। ये इम्यूनिटी पावर को बढ़ाकर (increases immunity power) रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करते हैं। अजवायन के फूलों का तेल (oil) परजीवियों और रोगाणुओं को मारने में कारगर है।

  1. अजवायन की पत्ती का तेल :

इनमें एंटी-ओक्सीडेंट्स होते हैं (anti oxidant) जो कि फ्री रेडिकल्स (free radicals) से हुये नुकसान को ठीक करते हैं। यह वाइरस, बैक्टीरिया और फुंगी को खत्म करता है। यह आंत को साफ (cleans body from inside) करने और परजीवियों को मारने में मददगार है। इस काम के लिए ये एक शानदार औषधि है।

  1. चाइनीज गोल्डथ्रेड (कलाबत्तू) : Chinese Gold thread

यदि आप पेट के कीड़ों से निजात पाना चाहते हैं तो ये आपके लिए बेहतरीन औषधि है। बाइटीरिया, यीस्ट (yeast) और प्रोटोजोआ (protozoa) के इन्फेक्शन के इलाज की ये एक चाइनीज औषधि (Chinese medicine) है। इसमें रोगाणुरोधी तत्व भी होते हैं। यह एक शानदार प्राकृतिक परजीवी नाशक है।

  1. डायटोमेसियस अर्थ (एक तरह की खरपतवार) :

ये मिथाइल, मर्करी (mercury), ई-कोली, एंटी-टॉक्सिन, सिंथेटिक ड्रग (synthetic drug) और पेस्टिसाइड (pesticide) को का अवशोषण करने में कारगर है। यह आंतों से परजीवियों को खत्म करती है, वानस्पतिक संतुलन को ठीक करती है और वाइरस का खात्मा करती है। ध्यान रखें ये पाउडर फेफड़ों (lungs) में जलन पैदा कर सकता है।

आयुर्वेदिक उपचार, घरेलू उपचार, dadi maa ke nuskhe in hindi, gharelu nukshe in hindi, ayurvedic gharelu upchar in hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *