जानिये मधुमेह के रोगियों के लिए एलोवेरा के 18 घरेलू नुस्खे | Jaaniye sugar patients ke liye aloevera ke 18 gharelu nuskhe

Diabetes/ Sugar/ Madhumeh ke Nuskhe

जानिये मधुमेह के रोगियों के लिए एलोवेरा के 18 घरेलू नुस्खे | Jaaniye sugar patients ke liye aloevera ke 18 gharelu nuskhe

 

एलोवेरा तुलसी की तरह ही एक औषधीय पौधा (herbal plant) है। सामान्य से दिखने वाले इस पौधे में कई औषधीय गुण होते है| Aloe vera यानि ग्वारपाठे की उपयोगिता आज बहुत बड़े स्तर पर दुनिया के सामने आयी है (on big level comes in front of whole world) इसे रोगनाशक पौधा भी कहा जाता है | भारतीय चिकित्सा पद्धति यानि आयुर्वेद में प्राचीनकाल से ही ग्वारपाठे का उपयोग बहुत बड़े पैमाने पर किया जाता रहा है इसे धृतकुमारी (dhritakumari), चित्राकुमारी (chitrakumari) आदि विभिन्न नामो से आयुर्वेदिक लेखो में सम्बोधित (mentioned in ayurvedic books) किया गया है | एलोवेरा पतले किनारे और कडवे स्वाद वाला कांटेदार पौधा (cactus plant) होता है इसके अंदर का गूदा और लिसलिसा पदार्थ ही मुख्य औषधि (main herbal) होती है

यह मधुमेह  के रोगियों के लिए बहुत उपयोगी होता है क्योंकि इसमें एलोवेरा पेनक्रियास के फंक्शन में मदद (helps in the problem of pancreas functioning) करती है। यह पेनक्रियास में इंसुलिन का उत्सर्जन नियंत्रित करती है जिसके कारण मधुमेह के मरीजों के लिये ग्वारपाठा एक वरदान का रूप होता है। एलोवेरा किडनी तथा लिवर को नुकसान नहीं (not effected kidney and liver) पहुंचाता है । इसके सेवन से मधुमेह रोगियों की रक्त शर्करा के स्तर में सुधार (maintain blood sugar level) होता है| मधुमेह से पीड़ित व्यक्ति के घाव तथा दर्द को जल्द ठीक करने में मदद करता है।

CLICK HERE TO READ: पेट की चर्बी को हमेशा के लिए दूर करने के लिए या वजन कम करने के लिए घरेलू नुस्खे

CLICK HERE TO READ: आइए आज बनाए चटपटे स्वीट कॉर्न पकौड़े

 – ताजे आंवले (fresh Amla) का रस 4 चम्मच और ग्वारपाठे का गूदा 10 ग्राम खाली पेट लेने से (take it empty stomach) मधुमेह की बीमारी में काफी आराम मिलता है। याद रखे औषधीय इस्तमाल के लिए हमेशा ताज़े एलोवेरा का ही उपयोग (always use fresh amla) करे|

 – करेले का रस 2 चम्मच एवं एलोवेरा का गूदा 10 ग्राम मिलाकर सुबह-शाम भोजन से पहले लेने से मधुमेह में बढ़ी हुई शर्करा (sugar-शुगर) कम हो जाती है।

 – नीम की कोंपलें 10 पत्ते (neem leaves) और एलोवेरा का गूदा 20 ग्राम सुबह-सुबह खाली पेट खाने से खून साफ होता है (cleans the blood) तथा शर्करा नियंत्रण (sugar control) में आ जाती है।

 – जामुन की गुठली 10 ग्राम, गुड़मार 10 ग्राम और सोंठ 5 ग्राम। तीनों को बारीक चूर्ण के रूप (mix all equal and make churan) में लें। इन्हें एलोवेरा के रस में अच्छी तरह मिलाकर गाढ़ा पेस्ट बनाकर (make a thick paste) फिर इसकी चने के समान गोलियाँ बनाकर (then make small tablets of them) दिन में 3 बार 1-1 गोली खाएँ। इससे मूत्र में शूगर की मात्रा धीरे-धीरे कम (reduces sugar in urine slowly) होती जाती है।

 – एक कच्चा केला (ripe banana) और ग्वारपाठा 10 ग्राम मिलाकर खाने से मधुमेह में लाभ होता है।

 – 10 जामुनों को पानी में धोकर एलोवेरा के गूदे में मिलाकर उबाल लें (boil) और इससे तैयार पानी को  खाना खाने से पहले आधा-आधा कप (give half cup) मधुमेह ग्रस्त रोगी को दें (sugar patients) तो मधुमेह कम  हो जाता है।

 – मूंगफली का आटा (peanut flour) एवं एलोवेरा का गूदा मिलाकर रोटी बना लें। 10-10 ग्राम की मात्रा में खाने से मधुमेह का ठीक हो जाता है।

 – सदाबहार पौधे की 4-5 पत्तियों के साथ-साथ 2-2 चम्मच एलोवेरा का सेवन करें तो मधुमेह रोग मिट जाता है। यह प्रयोग तीन माह (do this for 3 months) तक करें।

 – गाय का कच्चा दूध (cow milk) और एलोवेरा का रस मिलाकर आधा-आधा कप पीने से मधुमेह रोग में लाभ होता है।

 – बेलपत्र के 4 पत्तों को पीसकर एलोवेरा के गूदे के साथ सेवन करने से मधुमेह में शीघ्र लाभ (give health relief fast) होता है।

CLICK HERE TO READ: जरूर आजमाए कुछ नुस्खे गहरी नींद के लिए

CLICK HERE TO READ: जानिये सलाद खाना क्यों है ज़रूरी और कैसे ये आपको बीमारियों से दूर् रखता है

 – गाजर का रस (carrot juice) 20 मिली. पालक का रस (spinach juice) 20 मिली. और एलोवेरा का रस 50 मिली., तीनों मिलाकर सप्ताह में 1 बार सेवन करें। पेशाब की अधिकता, बार बार पेशाब आना, मधुमेह के कारण पैदा हुई अन्य समस्याए (relief from these infections) दूर होती  है|

 – जौ का भुना हुआ आटा, मेथी का पाउडर और ग्वारपाठे का रस तीनों समान मात्रा (mix all of these things equally) में मिलाकर 10-10 ग्राम खाने से तो मधुमेह 1 महीने में काफी कम हो जाता है ।

-बबूल की गोंद का पानी और ग्वारपाठे का गूदा मिलाकर आधा-आधा कप रोगी को पिलाएँ तो मधुमेह की बीमारी ठीक (give this juice to patients) हो जाता है।

 – लहसुन (garlic) की 4-5 कलियाँ शुद्ध घी में भूनकर ग्वारपाठे के रस के साथ लेने से मधुमेह जड़ से चला जाता है।

 – अश्वगंधा, शतावरी दोनों समान मात्रा में लेकर चूर्ण बनाकर 1-1 चम्मच की मात्रा में 50 मिली. ग्वारपाठे के रस के साथ खाएँ, मधुमेह दूर हो (relief from sugar problem) जाएगा।

 – 5 इलायची लेकर इसके दाने निकाल लें फिर, 2 बादाम की गिरी, 10 मिली. गाय का मक्खन (cow milk’s butter) और 20 मिली. ग्वारपाठे का ताजा रस मिलाकर लेने से मधुमेह में होने वाली कमजोरी (relief in weakness cause of sugar) ठीक हो जाती है।

 – सफेद मूसली, कौच के बीज, गोखरू, शिलाजीत समान मात्रा में मिला लें। तैयार चूर्ण को 2 से 5 ग्राम की मात्रा में लेकर आधा-आधा कप ग्वारपाठे के रस के साथ सेवन करें तो मधुमेह रोगियों में आई निर्बलता दूर होकर मधुमेह (relief in weakness caused by sugar)मिट जाता है।

 – बथुए का उबला पानी (boiled water), ग्वारपाठे के गूदे का रस समान मात्रा में लेकर भोजन से पहले आधा आधा कप पीने से मधुमेह से पैदा हुए विकार ठीक हो जाते हैं।

gharelu nuskhe, dadi maa ke nuskhe, desi nuskhe, dadi maa ke nuskhe in hindi,gharelu nukshe in hindi,diabetes ke lakshan, diabetes home remedies, डायबिटीज का घरेलू उपचार

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *