जानिये क्यों ना फेंके फलों के छिलकों को, आखिर क्या है इनमें छुपा स्‍वास्‍थ्‍य के लिए लाभ | Jaaniye kyon na fainke phalo ke chilko ko, akahir kya hai inmein chhupa swasthya ke liye laabh

जानिये क्यों ना फेंके फलों के छिलकों को, आखिर क्या है  इनमें छुपा स्‍वास्‍थ्‍य के लिए लाभ | Jaaniye kyon na fainke phalo ke chilko ko, akahir kya hai inmein chhupa swasthya ke liye laabh

 

अगर आप फलों के छिलकों को बेकार (waste) समझ कर फेक देते हैं तो ऐसा ना करें (dont do this now) क्‍योंकि इनमें स्‍वास्‍थ लाभ छुपा हुआ है।

हम में से अधिकाँश लोगों को फल खाना पसंद होता है (mostly people love eating fruits) और हम यह भी जानते हैं कि फल स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभदायक होते हैं। हालाँकि क्या आप जानते हैं कि कुछ फलों के छिलकों भी स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होते हैं? सामान्यत: (normally) हम फलों के छिलके फेंक देते हैं और हम में बहुत से लोग यह नहीं महसूस करते कि फलों के छिलके भी स्वास्थ्य के लिए लाभदायक हो सकते हैं।

इसके अलावा फलों के गूदे की तरह फलों के छिलके टेस्टी (स्वादिष्ट- tasty) नहीं होते और यह बहे एक कारण है कि हम कभी भी फलों के छिलके खाने का प्रयत्न नहीं करते। जैसा कि हम जानते हैं कि फलों में विटामिन्स और मिनरल्स (vitamins and minerals) पाए जाते हैं जो शरीर के लिए बहुत लाभदायक (helpful) होते हैं।

CLICK HERE TO READ: जानिये कैसे कच्चे पपीते का सेवन करें गठिया के दर्द छू मंतर

कई वर्षों की खोज के (after research of years) बाद यह पता चला कि अधिकांश फलों में एंटीऑक्सीडेंटस (antioxidants) प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं जो घातक बीमारियों (dangerous diseases) जैसे कैंसर आदि की रोकथाम करते हैं। इसके अलावा अधिकाँश फलों में स्वास्थ्य के लिए विभिन्न प्रकार से लाभदायक होते हैं जैसे ये हमारे प्रतिरक्षा तंत्र को मज़बूत (it strengths our immune system) करते हैं, वज़न कम करने में सहायक (helpful in loosing weight) होते हैं, त्वचा को चमकीला (make skin shiny) बनाते हैं तथा शरीर से विषारी पदार्थों (remove toxic from body) को बाहर निकलते हैं।

आज हम फलों के छिलकों से स्वास्थ्य को होने वाले लाभों के बारे में जानेंगे ताकि हम इनका भी सेवन कर सकें|

1. संतरे का छिलका – संतरे के छिलके में विटामिन सी (vitamin C) और एंटीऑक्सीडेंटस प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। ये शरीर से फैट को तीव्रता से दूर करते हैं (it reduces body fat very quickly) तथा कब्ज़ (constipation) और श्वसन संबंधी समस्याओं से भी आराम दिलाते हैं।

2. केले का छिलका – केले के छिलके को दांतों पर रगड़ने से दांत सफ़ेद (rub on teeth for white teeth) हो जाते हैं। इसके अलावा ये झुलसी हुई त्वचा को आराम पहुंचाते हैं तथा थोड़ी मात्रा में खान एपर ये एसिडिटी से भी आराम दिलाते हैं (relief in acidity too)।

3. अनार के छिलके – अनार के छिलके में न्यूट्रियंट्स (nutrients-पोषक तत्व) और विटामिन्स प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। ये स्वास्थ्य संबंधी बीमारियों को रोकते हैं (it stops health related problems), गले की खराश से आराम दिलाते हैं और आपकी हड्डियों को मज़बूत बनाते हैं।

4. तरबूजे के छिलके – तरबूजे के छिलके का सफ़ेद भाग वज़न कम करने में सहायक होता है (it helps in reducing weight) तथा यह आपकी त्वचा और बालों को स्वस्थ (also helps your skin and hairs)  और अंदर से चमकीला बनाता है क्योंकि यह कोशिकाओं (tissue) को पोषण प्रदान करता है।

CLICK HERE TO READ: जानिये सलाद खाना क्यों है ज़रूरी और कैसे ये आपको बीमारियों से दूर् रखता है

5. सेब का छिलका – सेब के छिलके कब्ज़ से आराम दिलाते है (relief in constipation) क्योंकि इनमें फाइबर (fiber) पाया जाता है। सेब के छिलके आपके प्रतिरक्षा तंत्र को मज़बूत बनाते हैं और कुछ विशेष प्रकार के कैंसर की रोकथाम (also good for cancer patients) करते हैं।

6. नीबू का छिलका – नीबू के छिलके में विटामिन सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है तथा इसमें एंटीसेप्टिक (antiseptic) गुण भी पाए जाते हैं। यह मुंह के संक्रमणों (mouth infection) और पेट के कुछ संक्रमणों के उपचार में सहायक होते हैं। नीबू के छिलके तनाव से भी राहत दिलाने में सहायक होते हैं (it gives relief in stress too)।

7. पपीते का छिलका – पपीते का छिलका आँतों में उपस्थित व्यर्थ और ज़हरीले पदार्थों को बाहर निकालकर उन्हें साफ़ करता है (removes bad blood and toxic from body) तथा आपको स्वस्थ रखता है।

gharelu nuskhe, dadi maa ke nuskhe, desi nuskhe, दादी माँ के नुस्खे , देसी नुस्खे,is fruit good for you, is fruit bad for you, weight loss fruits

, , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *