नाशपाती के नुस्खे भी उतने ही गुणकारी जितने की सेब के नुस्खे | naashpati ke nuskhe bhi utne hi gunnkari jitne ki seb ke nuskhe

Fruit ke Nuskhe

नाशपाती के नुस्खे भी उतने ही गुणकारी जितने की सेब के नुस्खे | naashpati ke nuskhe bhi utne hi gunnkari jitne ki seb ke nuskhe

 

नाशपति में किसी भी फल की अपेक्षा ज्यादा मात्रा में फाइबर होता है (more fiber than any other fruit)। एक फल दैनिक जरूरत (daily need) का 25% फाइबर दे देता है। इसमें पर्याप्त मात्रा में विटामिन C , K , B 2 ,B 3 और B 6 होते है। इसके अलावा नाशपाती (nashpati ) से  कैल्शियम (calcium),पोटेशियम (potassium), कॉपर (copper), मैग्नीशियम आदि खनिज प्राप्त होते है। इसमें नुकसान करने वाले सोडियम (sodium), फैट (fat) या कोलेस्ट्रॉल (cholesterol) बिल्कुल नहीं होता। ये पेट , आंतों  , दिल , स्किन आदि के लिए बहुत फायदेमंद होती है। नाशपाती खाने से कैंसर (cancer) जैसे रोग से बचाव (safe) हो सकता है। इसे छिलके ( Pear skin ) सहित खाना चाहिए क्योंकि छिलके में बहुत महत्वपूर्ण पोषक तत्व होते है।

नाशपति

दुनिया (world) में नाशपाती का सबसे ज्यादा उत्पादन चीन (production in china) में होता है। नाशपाती मौसमी फल है। भारत में इस फल का आगमन यूरोप (europe) से हुआ है। अब भारत में नाशपाती की खेती (farming) बहुत होने लगी है। ये सेब की प्रजाति का फल है। भारत के ठंडे इलाकों (cold areas) में सेब से अधिक नाशपति का महत्व है। नाशपती का पेड़ हर साल फल देता है। । बारिश के मौसम जुलाई -अगस्त (july- august) में ताजा नाशपाती बाजार में खूब मिलती है।  इसकी तीन प्रकार की किस्में  मिलती है

 यूरोपीय नाशपाती – ये नर्म , मीठी और रसदार (juicy) होती है। खाने के लिए बहुत ये उपयुक्त होती है। इसके  जल्दी खराब होने की सम्भावना (possibility) होती है।

चाइनीज नाशपाती – ये नाशपाती सख्त (hard) और खाने मे थोड़ी खट्टी होती है । ये खाने में कम लेकिन मुरब्बा (murabba) आदि बनाने में ज्यादा काम आती है।इस किस्म की नाशपाती का उत्पादन सबसे ज्यादा होता है। एक पेड़ लगभग 150 किलो फल दे देता है।

यूरोपीय चाइनीज संकर – नख इसी किस्म की नाशपाती है। ये खाने में नर्म और मीठी (soft and sweet) होती है। यूरोपीय नाशपाती की अपेक्षा अधिक टिकती है। सभी तरह की नाशपाती के गुण लगभग समान होते है।

CLICK HERE TO READ: अनार सिर्फ़ फ्रूट ही नहीं, इसके नुस्खे भी है कारगर कई बीमारियों में

नाशपती के फायदे – Nashpati Khane Ke Fayde

भरपूर रेशे या फाइबर – Rich in fiber

नाशपती खाने से भरपूर मात्रा में रेशे यानी फाइबर मिलते  है। नाशपती के मध्यम आकार (medium size) के फल में लगभग 6 ग्राम फाइबर होता है। जो कि हमारी दैनिक आवश्यकता (daily need) के 25% के बराबर होता है। नाशपति में घुलनशील और अघुलनशील दोनों प्रकार के फायबर प्रचुर मात्रा में होते है। इसके छिलके में गूदे जितने ही फायबर होते है। इसलिए इसे छिलके सहित खाना चाहिए। नाशपती आंतों की सफाई करके कब्ज (constipation) से मुक्ति दिलाती है।

नाशपति के फाइबर आंतों के कैंसर (cancer) से बचाते है। कोलेस्ट्रॉल को कंट्रोल में रखने में मददगार (helpful in controlling cholesterol) होते है और इस तरह दिल के रोगों (heart problems)  से बचाते है। नाशपति खाने से मिलने वाले फायबर टाइप 2 डायबिटीज होने की सम्भावना को भी कम करते है।

हड्डियों की मजबूती – Strengthening the bones

नाशपाती में बोरोन (boron) नामक तत्व होता है जो कैल्शियम को शरीर में बनाए रखने में मदद करता है।  इस तरह ये हड्डी को मजबूत (make bones strong) बनाए रखने में सहायक (helpful) होता है। इसके अलावा नाशपाती में मौजूद विटामिन K  भी हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करता है। विटामिन K रक्त के थक्का बनने या खून बहना रुकने की प्रक्रिया के लिए भी जरूरी होता है

CLICK HERE TO READ: जानिये कैसे कच्चे पपीते का सेवन करें गठिया के दर्द छू मंतर

स्किन – Skin

विटामिन C , विटामिन K और कॉपर आदि तत्वों से स्किन की कोशिकाओं को बल (make skin tissues strong) मिलता है। ये तत्व शरीर के लिए नुकसान देह फ्री रेडिकल्स (free radicals) से भी बचाते है।  इसकी वजह से झुर्रियां आदि नहीं होती तथा कैंसर जैसे रोगों से बचाव होता है। स्किन हमेशा स्निग्ध और चमकदार (shiny) बनी रहती है। अतः सुन्दर कोमल त्वचा के लिए नाशपति नियमित खानी (eat nashpati regularly) चाहिए।

आँखें – Eyes

नाशपती का नियमित उपयोग करने से आँखों में होने वाली ARMD ( Age Related Macular Degeneration ) नामक बीमारी से बचाव होता है। इस बीमारी में बीच के भाग का दृश्य काला दिखाई देने लगता है उसके आस पास का दृश्य ठीक दिखाई देता  है । इसका इलाज मुश्किल होता है। अतः इससे बचने के लिए नाशपती खाना लाभदायक होता है।

कैंसर – Cancer

नाशपती के छिलके में बहुत महत्वपूर्ण तत्व जैसे फ्लेवोनोइड्स , फिटो न्यूट्रिएंट्स और एंटीऑक्सीडेंट (antioxidant) जैसे क्यूरसेटिन आदि होते है जो कई प्रकार की बीमारियों से रक्षा (safety) करने में मदद करते है। ये तत्व ब्लड प्रेशर को कंट्रोल (control the blood pressure) करते है और कैंसर से भी बचाते है। अतः नाशपती का छिलका अवश्य खाना चाहिए।

हार्ट के लिए – (For Heart Problems)

पेक्टिन (pectin) नाम का तत्व नाशपाती में बहुत होता है। यह आंतों को मजबूत बनाता है और रक्त में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम करने में सहयक होता है। नाशपाती में विटामिन K होता है जो ह्रदय की धड़कन (a must for heart beats) और मांसपेशियों (muscles) के लिये आवश्यक होता है।

इम्यून सिस्टम – Immune System

विटामिन C की और कॉपर (copper) की भरपूर मात्रा  के कारण नाशपाती से इम्यून सिस्टम को ताकत (power) मिलती है जिसकी वजह से कई बीमारियों (diseases) से बचाव होता है।

एलर्जी – Allergy

नाशपती एक ऐसा फल है जिससे एलर्जी होने की सम्भावना बहुत कम होती है। इसलिए जिन लोगों को फलों से एलर्जी (allergy from fruits) हो उसे नाशपती खानी चाहिए।

gharelu nuskhe, dadi maa ke nuskhe, desi nuskhe, दादी माँ के नुस्खे , देसी नुस्खे,is fruit good for you, is fruit bad for you, weight loss fruits

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *