जनिये शहद और इलायची के स्वास्थ्य के लिए नुस्खे | Jaaniye shahad aur ilaychi ke swasthya ke liye nuskhe

Shahad/ Honey Ke Nuskhe

जनिये शहद और इलायची के स्वास्थ्य के लिए नुस्खे | Jaaniye shahad aur ilaychi ke swasthya ke liye nuskhe

 

 ● शहद और इलायची भारत में काफी लोकप्रिय खाने की चीजें (famous eating things) हैं। दोनों स्वाद के साथ-साथ हमें सेहत भी देते हैं। जहां शहद त्वचा, चोट लगने और एक्जीमा (egzima) होने पर फायदा पहुंचाती है, वहीं इलायची के सेवन से पाचन में सुधार (improves digestion system) और मुंह की दुर्गंध (bad breath) से छुटकारा मिलता है।

1) गुणों का भंडार है शहद और इलायची :- Health benefits of honey and ilaychi
शहद और इलायची गुणों की खान है। इन दोनों का इस्तेमाल भारतीय परिवारों (indian families) में काफी किया जाता है। लेकिन दोनों से होने वाले फायदों के बारे में लोग ज्यादा कुछ नहीं जानते। शहद और इलायची दोनों जायका बढ़ाने (growing taste) के साथ-साथ आपकी सेहत के लिए भी बहुत फायदेमंद (helpful) साबित होते हैं। आइये एक एक करके दोनों से मिलने वाले फायदे के बारे में जानते हैं। पहले बात करते हैं शहद के बारे में। चिकित्सीय गुणों और प्राकृतिक अच्छाई (natural goodness) से भरपूर शहद का उपयोग बहुत पहले से ही त्वचा और हर प्रकार की शारीरिक देखभाल (physical care) के लिए किया जाता है। शहद में जो मीठापन (sweetness) होता है वो मुख्यतः ग्लूकोज़ और एकलशर्करा फ्रक्टोज के कारण होता है। शहद में ग्लूकोज (glucose) व अन्य शर्कराएं तथा विटामिन (vitamin), खनिज और अमीनो अम्ल (amino acid) भी होता है जिससे कई पौष्टिक तत्व मिलते हैं जो घाव को ठीक करने और ऊतकों के बढ़ने के उपचार में मदद करते हैं। 

2) निखारे त्वचा को :- Improves skin
शहद ह्यूमेक्टेंट यौगिक से भरपूर होता है। यह त्वचा में नमी को बनाए रखता है जिससे उसकी कोमलता (softness) बनी रहती है। यह मृत कोशिकाओं (dead tissues) को दूर करता है और झुर्रियों को आने से रोकता है। इसमें मौजूद प्राकृतिक एंटीआक्सीडेंट (natural antioxidant) पराबैंगनी किरणों से होने वाले नुकसान से त्वचा को बचाते हैं। साथ ही, शहद त्वचा की ऊपरी परत में गहरे तक जाकर छिद्रों को बंद करता है और अशुद्धियों को आने से रोकता है। इसलिए, यह संक्रमण से लड़ने (fighting with infections) और मुहाँसों की समस्या को रोकने में मदद करता है।

CLICK HERE TO READ: शहद और पानी के लीवर के लिए नुस्खे

3) घाव भरता है :-
बैक्टीरिया (bacteria) की वजह से कोई भी घाव अधिक समय तक बना रह सकता है। घाव को ठीक करने के लिए उसके बैक्टीरिया को दूर करना होता है। शहद के एंटीबैक्टीरियल (anti bacterial) और एंटीमाइक्रोबियल गुण बैक्टीरिया की वृद्धि को रोक (stop growing) देते हैं। इसलिए घाव, कटे, जले हुए स्थानों और खरोंच पर शहद लगाने से काफी फायदा मिल सकता है। साथ ही, शहद मवाद को दूर करने, दर्द को कम (reduce pain) करने और तेजी से उपचार के लिए भी उपयोग होता है।

4) एक्जीमा का घरेलू इलाज :- Eczema home treatment
एक्जीमा त्वचा संबंधी समस्या (skin related problem)है। शहद क्षतिग्रस्त त्वचा का उपचार करने और नई त्वचा कोशिकाओं को पुनर्जीवित (rebirth of skin tissues) करने के लिए प्रयोग किया जाता है। यह एक्ज़ीमा, त्वचा की सूजन (swelling) और अन्य त्वचा विकारों का भी प्रभावशाली तरीके (effective treatment) से उपचार करता है।

CLICK HERE TO READ: जानिये आंखों की रोशनी बढ़ाने वाले 11 आहार के बारे में

5) थकान दूर करे :-
शहद में ग्लूकोज और फ्रुक्टोज (fructose) मौजूद होता है। ग्लूकोज़ और फ्रुकटोज के रूप में कार्बोहाइड्रेट से शरीर को ऊर्जा मिलती है जो सहनशक्ति (growing patience) को बढ़ाती है और थकान को कम (reduce laziness) करती है। इसलिए जब भी थकान महसूस हो एक चम्मच शहद खा लें, तुरंत ऊर्जा महसूस (feeling energy) होने लगेगी।

6) इलायची के लाभ :-
शहद के बाद, अब बात करते हैं इलायची की। इलायची किसी भी भारतीय परिवार (indian family) में देखे जाने वाले सबसे आम मसालों में से एक है। यह न केवल मीठे और स्वादिष्ट व्यंजनों में डाली जाती है बल्कि एक माउथ फ्रेशनर (mouth freshner) के रूप में भी इस्तेमाल (use) होती है। आयरन (iron) और रिबोफ्लेविन, विटामिन सी (vitamin C) तथा नियासिन जैसे आवश्यक विटामिन इलायची के अन्य प्रमुख घटक हैं। 

7) पाचन में सुधार :- Growth in Digestion System
इलायची की प्रकृति वातहर है और यह पाचन को बढ़ाने, पेट की सूजन को कम करने, हृदय की जलन (heart burn) को दूर करने और मतली (feel like vomit) को रोकने में मदद करती है। माना जाता है कि यह श्लेष्मा झिल्ली को शांत करती है ताकि वह ठीक से कार्य कर सकें और जिससे अंततः एसिडिटी और पेट की खराबी के लक्षणों से राहत मिलती है। इसके अलावा, आयुर्वेदिक ग्रंथों के अनुसार यह पेट में जल और वायु के गुणों को कम करती है जिससे वह भोजन को कुशलता से पचाने में सक्षम (helpful) होता है।

CLICK HERE TO READ: जानिये आंखों के लिए शहद के 8 जबरदस्त नुस्खे

8) मुंह की दुर्गंध से छुटकारा :- Relief from bad Breath
यदि आपके मुंह से दुर्गंध आती है और आप उपचार की हर कोशिश कर चुके हैं (if you did all type of treatment) तो एकबार इलायची आज़माइए। इस मसाले में एंटीबैक्टीरियल गुण, तेज स्वाद (strong taste) और एक भीनी सी महक (sweet smell) हैं। इसके अलावा, यह आपके पाचन तंत्र को सुधारती है- जो कि दुर्गंध के प्रमुख कारणों में एक है- यह समस्या के मूल कारण को दूर करने में बहुत प्रभावशाली (very effective) है। सुझाव: हर बार भोजन के बाद एक इलायची चबाएं। अपने पाचन तंत्र को मजबूत बनाने और डिटोक्सिफाई (detoxify) करने के लिए वैकल्पिक रूप से हररोज़ सुबह इलायची की चाय (drink ilaychi tea) पी सकते हैं।

9) एसिडिटी में फायदा :- Helpful in Acidity
इलायची में उपस्थित आवश्यक तेल इसे एसिडिटी का प्रमुख उपचार बनाकर आपके पेट की श्लैष्मिक लाइनिंग को मजबूत बनाने में मदद करते हैं। आपकी लार में वृद्धि करना आपकी मदद करने का एक अन्य तरीका है। इलायची चबाने पर इसमें से आवश्यक तेल (oil) निकलते हैं जो आपकी लार ग्रंथियों को उत्तेजित (attract/ excite) करते हैं जिससे आपका पेट ठीक प्रकार से कार्य करती है जिसके परिणामस्वरूप आपकी भूख में सुधार (growth in hunger) होता है और एसिडिटी में कमी होती हैं। इलायची के आवश्यक तेल एक ठंडा स्वाद (cold taste) और अनुभूति प्रदान करते हैं जो आपको एसिडिटी से होने वाली जलन को दूर करते हैं।

10) एनीमिया से सुरक्षा :- Safety from Anemia
तांबा (copper), आयरन (iron) और रिबोफ्लेविन, विटामिन सी तथा नियासिन जैसे आवश्यक विटामिन इलायची के अन्य प्रमुख घटक हैं। लाल रक्त कोशिकाओं (red blood tissues) और सेलुलर उपापचय के उत्पादन में अत्यधिक महत्व के लिए प्रचलित तांबा, आयरन, रिबोफ्लेविन, विटामिन सी तथा नियासिन के साथ एनीमिया से लड़ने में मदद करता है और इस स्थिति में होने वाले लक्षणों से राहत (relief) दिलाता है।

gharelu nuskhe, dadi maa ke nuskhe, desi nuskhe, दादी माँ के नुस्खे , देसी नुस्खे

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *