पपीते के नुस्खे| Papita ke nuskhe|Health benefits of papaya

Fruit ke Nuskhe

पपीते के नुस्खे | Papita ke nuskhe |Health benefits of papaya

 

गांवों में पपीते का पेड़ (tree) घर-घर में देखने को मिल जाता है| पपीते का फल (fruit) लम्बा होता है| कच्चे पपीते के दूध से ‘पेपन’ नामक पदार्थ बनाया जाता है| पपीते का फल, बीज और पत्ते विभिन्न प्रकार के रोगों (various types of diseases) में काम आते हैं| कच्चा पपीता मलरोधक, कफ-वात पैदा करने वाला तथा देर से पचने (digestion) वाला होता है| लेकिन पका पपीता स्वादिष्ट, मधुर, रुचिकारक, पित्त नाशक, पेट में जमे मल को निकालने वाला एवं आंखों की ज्योति बढ़ाने वाला होता है| यह बवासीर, दाद, कृमि तथा पेट के रोगों (stomach infection) के लिए बहुत लाभकारी होता है|

पपीते का चिकित्सीय उपयोग निम्नलिखित है – Treatment from papaya are written below

CLICK HERE TO READ: जानिये क्यों ना फेंके फलों के छिलकों को, आखिर क्या है इनमें छुपा स्‍वास्‍थ्‍य के लिए लाभ

जिगर का बढ़ना
यदि छोटे बच्चों (small children’s) को जिगर बढ़ने की शिकायत (complaint) हो तो उन्हें पपीते का रस सुबह-शाम पिलाना चाहिए|

दस्त
कच्चा पपीता उबालकर (boiled) खाने से पुराने दस्त रुक जाते हैं|

कब्ज
एक कप पपीते के रस में जरा-सी काली मिर्च (black pepper) का चूर्ण मिलाकर पीने से पुराने से पुराना कब्ज (old constipation) भी ठीक हो जाता है|

कृमि
पपीते के 10-12 बीज पीसकर पानी में घोलकर पिलाने से बच्चों के पेट के कीड़े मर जाते हैं| फिर वे मल (stool) के साथ बाहर निकल जाते हैं|

सुन्दरता
नित्य पपीता खाने तथा उसका रस मुंह पर मलने से चेहरे की सुन्दरता (beauty) बढ़ती है|

पीलिया
एक कप पपीते के रस में एक चुटकी सफेद इलायची का चूर्ण मिलाकर नित्य सेवन करने से पीलिया (jaundice) का रोग चला जाता है|

CLICK HERE TO READ: जानिये सलाद खाना क्यों है ज़रूरी और कैसे ये आपको बीमारियों से दूर् रखता है

दाद
पपीते का दूध (milk) दाद पर लगाने से दाद खत्म हो जाता है|

दुग्ध वृद्धि
कच्चे पपीते की सब्जी खाने से माताओं के स्तनों में दूध की वृद्धि (growth of milk) होती है|

gharelu nuskhe, dadi maa ke nuskhe, desi nuskhe, dadi maa ke nuskhe in hindi,gharelu nukshe in hindi,is fruit good for you, is fruit bad for you, weight loss fruits

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *