वक्त रहते कर ले पीरियड्स की गड़बड़ी का इलाज, जानिये कुछ नुस्खे इस तकलीफ को दूर् करने के लिए , Waqt rehte kar le periods ki gadbadi ka ilaaj, jaaniye kuch nuskhe is takleef ko door karne ke liye.
वक्त रहते कर ले पीरियड्स की गड़बड़ी का इलाज, जानिये कुछ नुस्खे इस तकलीफ को दूर् करने के लिए , Waqt rehte kar le periods ki gadbadi ka ilaaj, jaaniye kuch nuskhe is takleef ko door karne ke liye.

वक्त रहते कर ले पीरियड्स की गड़बड़ी का इलाज, जानिये कुछ नुस्खे इस तकलीफ को दूर् करने के लिए | Waqt rehte kar le periods ki gadbadi ka ilaaj, jaaniye kuch nuskhe is takleef ko door karne ke liye.

वक्त रहते कर ले पीरियड्स की गड़बड़ी का इलाज, जानिये कुछ नुस्खे इस तकलीफ को दूर् करने के लिए | Waqt rehte kar le periods ki gadbadi ka ilaaj, jaaniye kuch nuskhe is takleef ko door karne ke liye.

 

महिलाओं का हर महीेने मासिक चक्र (every month periods coming) से गुजरना नियमित होता है लेकिन आज की भागदौड़ भरी और बिजी लाइफ (busy life) के चलते लड़कियां अपनी डाइट पर प्रोपर ध्यान (not taking proper diet) नहीं दे पाती, जिस वजह से मासिक चक्र का अनियमित (irregular periods time) होना आम है। पीरियड्स का समय पर न होना कोई बड़ी बीमारी नहीं है लेकिन लंबे समय पर इस समस्या पर ध्यान न दिया जाएं तो इसका सेहत पर काफी प्रभाव (effects on your health) पड़ सकता है।

आइए जानते है सही समय पर पीरियड्स न होने के कारण और इससे बचने के उपाय।  Aaiye jaante hai sahi time par perioids na hone ke kaaran aur is se bachne ke upaaye aur nuskhe.

  1. तनाव – Tanaav / Stress

तनाव पीरियड्स पर काफी प्रभाव (impact on this problem) पड़ता है। तनाव के कारण GnRH नामक हॉर्मोन की मात्रा कम (reduces this hormone) होेने लगती है, जो अनियमित पीरियड्स का बड़ा (biggest reason of irregular periods) कारण है। इसलिए अपने तनाव को दूर करने के लिए डॉक्टर की (consult the doctor) सलाह लें।

यह भी पढ़ें :- जाने और अमल करिये इन नुस्खों पर के कैसे होगी नार्मल डिलिवरी

  1. बुखार-जुखाम – Bukhar- Jukaam / Cough- Fever

अचानक से बुखार (fever), कोल्‍ड (cold), कफ (cough) या फिर लम्‍बे समय तक बीमार रहना भी पीरियड्स को अनियमित करता है। जैसे-जैसे इन रोगों से उभरने लगते है (whenever these infection reduces or finishes) पीरियड्स रेग्यूलर होने (periods comes on regular times) लगते है।

  1. शैडयूल में परिवर्तन- Schedule mein parivartan/ Changes in Schedule

जब आपके शैडयूल में बदलाव आता है तो बॉडी का इसका काफी प्रभाव (affects the body) पड़ता है। ऐसे में पीरियड्स अनियमित होना आम है। इस समय पर घबराएं नहीं क्योंकि जैसे-जैसे आप इसके परिवर्तन के आदि (habitual to this problem) होते जाएंगे, यह समस्या भी कम होती जाती है।

  1. गर्भनिरोधक गोलियां – Garbnirodhak goliyaan /  Pregnancy Pills

जब कोई महिला गर्भनिरोधक गोलियां (pregnancy pills) या अन्य दवाईयों का सेवन करती है तो ऐसे में भी पीरियड्स अनियमित (can make periods irregular) हो सकते है। इस स्थिति में डॉक्टर की सलाह (kindly consult doctor in this situation) लें।

यह भी पढ़ें :- क्या आपको पता है कुछ ऐसी सब्जियां के बारे में जो आपको वियाग्रा से भी ज्यादा सेक्स पावर दे सकती है

  1. मोटापा – Motapa- Obesity

पीरियड्स का अनियमित होने का एक कारण अधिक वजन (obesity is one of the reason of this problem) भी है। ऐसे समय में प्रोपर एक्सरसाइज (proper exercise) करें और हैल्दी डाइट (healthy diet) लें।

आयुर्वेदिक उपचार, घरेलू उपचार, आयुर्वेदिक उपचार, दादी माँ के नुस्खे , घरेलू नुस्खे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*