पुराण के अनुसार इस तरह के लोगों का पुनर्जन्म नहीं होता है, Puran ke anusaar is tarah ke logo ka rebirth/ punarjanam nahi hota hai
पुराण के अनुसार इस तरह के लोगों का पुनर्जन्म नहीं होता है, Puran ke anusaar is tarah ke logo ka rebirth/ punarjanam nahi hota hai

पुराण के अनुसार इस तरह के लोगों का पुनर्जन्म नहीं होता है| Puran ke anusaar is tarah ke logo ka rebirth/ punarjanam nahi hota hai

 पुराण के अनुसार इस तरह के लोगों का पुनर्जन्म नहीं होता है| Puran ke anusaar is tarah ke logo ka rebirth/ punarjanam nahi hota hai

 

मृत्‍यु के बाद भी आत्‍मा को मुक्ति (no discharge after death) नहीं मिलती है जब तक कि उसे मोक्ष नहीं मिल जाता है। मोक्ष प्राप्ति (for enlightenment) के लिए आत्‍मा को कई सारे जन्‍म (so many birth) लेने पड़ते हैं।

जब राजा भागीरथी ने धर्मराज (भगवान यम) से पूछा कि मृत्‍यु के बाद आत्‍मा का क्‍या (what happens to soul after death) होता है तो धर्मराज के द्वारा दिए गए उत्‍तर से भागीरथी आश्‍चर्य (surprise) में पड़ गए जब उन्‍होंने सुना कि मृत्‍यु के बाद भी आत्‍मा को मुक्ति नहीं मिलती है जब तक कि उसे मोक्ष नहीं मिल जाता है।

मोक्ष प्राप्ति के लिए आत्‍मा को कई सारे जन्‍म लेने पड़ते हैं। यमराज ने ये भी बताया कि मोक्ष प्राप्‍त करने के लिए व्‍यक्ति को अपने मानव जीवन में कई अच्‍छे फल (human has to do good things in life)  करने पड़ते हैं।

क्‍या कभी सोचा है कि मृत्यु के बाद आपके साथ क्या होता है, भगवान यम और भागीरथी के बीच हुए इस वार्तालाप (conversation) को नारद पुरण में बेहतर तरीके से प्रस्‍तुत (present it better) किया गया है, जहां मृत्‍यु,जन्‍म-कर्म के चक्र को अच्‍छे से समझाया गया है।

साथ ही ये भी बताया गया है कि किन तीन प्रकार के लोगों को आसानी (humans can get enlightenment by doing these 3 things) से मोक्ष की प्राप्ति हो जाती है:

  1. जो लोग भगवान विष्‍णु के भक्‍त होते है और उनकी पूजा (prayer), सुगंधित फूलों (fragrance of flowers) से एकादशी के दिन करते हैं उन्‍हें 10,000 जन्‍मों के पाप से मुक्ति (relief of sin) मिल जाती है और वो कम समय में ही मोक्ष को प्राप्‍त कर लेते हैं।
  1. वह भक्‍त, जो घी का दिया (ghee ka diya), भगवान शिव के लिए आरती में जलाकर रखते हैं (in arti of lord shiva) उन्‍हें मोक्ष की प्राप्ति आसानी से हो जाती है। ऐसे लोगों को गंगा स्‍नान (ganga bath) के बराबर पुण्‍य मिलता है।

3.  जो लोग देवी तुलसी की पूजा (prayer of devi tulsi) करते हैं, हर दिन उनकी आराधना (prayer) करते हैं और अपने घर में उन्‍हें लगाते हैं ऐसे लोगों को मोक्ष की प्राप्ति हो जाती है। कहा जाता है ऐसे लोगों को बैकुंठ धाम में स्‍थान (place at baikunth dhaam) मिलता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

       

       
error: Content is protected !!