Diabetes yaani ke bloog sugar mein jaaniye kya khaana chahiye aur kya nahi
Diabetes yaani ke bloog sugar mein jaaniye kya khaana chahiye aur kya nahi

डायबीटीज़ यानी के ब्लड शुगर में जानिये क्या खाना चाहिये और क्या नहीं | Diabetes yaani ke blood sugar mein jaaniye kya khaana chahiye aur kya nahi

डायबीटीज़ यानी के ब्लड शुगर में जानिये क्या खाना चाहिये और क्या नहीं | Diabetes yaani ke blood sugar mein jaaniye kya khaana chahiye aur kya nahi

 

शुगर के मरीजों के लिए जरूरी (important for sugar patients) है कि वे बैलेंस्ड डायट (balanced diet) लें। ज्यादा न खाएं , लेकिन तीनों वक्त खाना खाएं और बीच में एक दो बार सलाद या  स्नैक्स (saled or snacks) भी लें। उन्हें प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट का अच्छा कॉम्बिनेशन (combination) लेना चाहिए। मसलन , नाश्ते में दूधवाला दलिया लें या आटे वाली ब्रेड  लें। इसी तरह खाने में सब्जी के साथ दाल भी लें। इससे शुगर का लेवल (sugar level) सही रहता है। असल में , कार्बोहाइड्रेट (carbohydrate) से शुगर जल्दी बनती है, जबकि प्रोटीन (protein) से धीरे-धीरे शुगर रिलीज़ होती है , जिससे ज्यादा देर तक पेट भरा हुआ लगता है और ज्यादा खाने से बच जाते हैं। कुल खाने की 55-60 फीसदी कैलरी कार्बोहाइड्रेट से , 15-20 फीसदी प्रोटीन से और 15-20 फीसदी फैट से मिलनी चाहिए। ज्यादा तला-भुना न खाएं (avoid spicy and fried food)।

लो ग्लाइसिमिक इंडेक्स वाली चीजें यानी जो शरीर में जाकर धीरे-धीरे ग्लूकोज़ में बदलती (converted into glucose) हैं , खानी चाहिए। इनमें हरी सब्जियां , सोया , मूंग दाल , काला चना , राजमा , ब्राउन राइस (brown rice) आदि शामिल हैं।

Click here to read: पपीते के नुस्खे | Papita ke nuskhe

खाने में करीब 20 से 40 फीसदी फाइबर (fiber is important) जरूर होना चाहिए। गेहूं से चोकर न निकालें, आटा थोडा मोटा पिस्वएं। लोबिया , राजमा , स्प्राउट्स (sprouts) आदि खाएं क्योंकि इनसे प्रोटीन और फाइबर दोनों मिलते हैं। स्प्राउट्स में ऐंटि-ऑक्सिडेंट (anti oxidants) भी काफी होते हैं।

दिन भर में 4-5 बार फल और सब्जियां खाएं (eat fruits and vegetables) लेकिन एक ही बार में सब कुछ खाने की बजाय बार-बार थोड़ा-थोड़ा करके खाएं। फलों में चेरी , स्ट्रॉबेरी (strawberry) , सेब, संतरा, अनार (pomegranate) , पपीता, मौसमी आदि और सब्जियों में करेला, घीया, तोरी, सीताफल, खीरा, टमाटर आदि खाएं।

रोजाना एक मुट्ठी ड्राइ-फ्रूट्स खाएं (eat dry fruits) यानी 10-12 बादाम या 5-7 बादाम और 3-4 अखरोट।

घीया , करेला , खीरा , टमाटर , अलोवेरा और आंवला का जूस खास फायदेमंद (juice is good) है।

लो फैट दही (low fat curd) और स्किम्ड/डबल टोंड दूध (skimmed/ double toned milk) लेना चाहिए। ग्रीन टी (green tea) पीना अच्छा है। चाय के साथ हाई फाइबर बिस्किट (biscuits) या फीके बिस्किट ले सकते हैं। बीपी (BP) नहीं है तो नमकीन बिस्किट भी खा सकते हैं।

Click here to read: अगर आप अपना अच्छा कोलेस्ट्रॉल बढ़ाना चाहते है तो जरूर करे यह काम

जौ (बारले), काला चना, मूंग दाल और जामुन खासतौर पर फायदेमंद हैं। इनका ग्लाइसिमिक इंडेक्स भी कम है और ये पित्त के इंबैलेंस को कम (reduce imbalance) करने के साथ-साथ अगर अंदर सूजन (swelling) हो गई है तो उसे भी कम करते हैं।

काला नमक (black salt) डालकर छाछ पिएं। नारियल पानी पिएं (drink coconut water)। घर में बने सूप (soup) पिएं।

नीम-करेला पाउडर (powder) बना कर रख लीजिये, भोजन के एक घंटे के बाद एक चम्मच इसको गुनगुने पानी (have it with warm water) के साथ लीजिये।

gharelu nuskhe, dadi maa ke nuskhe, desi nuskhe, दादी माँ के नुस्खे , देसी नुस्खे,diabetes ke lakshan, diabetes home remedies, डायबिटीज का घरेलू उपचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*