जानिये शंखपुष्पी का उपयोग, चमत्कारिक गुण, नुस्खे और लाभ , Jaaniye shankhpushpi ka upyog, chamatkarik gunn, nuskhe aur laabh
जानिये शंखपुष्पी का उपयोग, चमत्कारिक गुण, नुस्खे और लाभ , Jaaniye shankhpushpi ka upyog, chamatkarik gunn, nuskhe aur laabh

जानिये शंखपुष्पी का उपयोग, चमत्कारिक गुण, नुस्खे और लाभ | Jaaniye shankhpushpi ka upyog, chamatkarik gunn, nuskhe aur laabh

जानिये शंखपुष्पी का उपयोग, चमत्कारिक गुण, नुस्खे और लाभ | Jaaniye shankhpushpi ka upyog, chamatkarik gunn, nuskhe aur laabh

 

jaaniye शंखपुष्पी से hyper Thyroid का इलाज kaise kare:

गुण :–शंखपुष्पी दस्तावर , मेघा के लिए हितकारी , वीर्य वर्धक , मानसिक दौर्बल्य को नष्ट करने वाली , रसायन (chemical) ,कसैली , गर्म , तथा स्मरण शक्ति (memory power), कान्ति बल और अग्नि को बढाने वाली एवम दोष , अपस्मार , भूत , दरिद्रता , कुष्ट , कृमि तथा विष को नष्ट करने वाली होती है l यह स्वर को उत्तम करने वाली (increase the sweetness in voice), मंगलकारी , अवस्था स्थापक तथा मानसिक रोगों को नष्ट (destroying the mental problems) करने वाली होती है l

परिचय : —-मनुष्य के मस्तिष्क पर प्रमुख क्रिया करने वाली यह वनस्पति दिमागी ताकत और याददाश्त को बढ़ाने (growth in mental power) के लिए प्रसिद्ध (famous) है l

फूलों के भेद से यह तीन प्रकार की होती है (1) सफ़ेद फूल (white flowers) वाली (2) लाल फूल (red flowers) वाली और (3) नीले फूल (blue flowers) वाली l तीनों के गुण एक सामान है l यह बेलों के रूप में जमीं पर फैली हुई होती है और एक हाथ से ऊँची नहीं होती l यह सारे भारत (whole india) में पैदा होती है l

CLICK HERE TO READ: जानिये सुबह एक-दो मुट्ठी काले चने खाने से सेहत कैसे अच्छी हो सकती है

(1)-दिमागी ताकत :–प्राय: छात्र -छात्राओं के पत्रों (letters by students) में दिमागी ताकत और स्मरणशक्ति बढ़ाने के लिए गुणकारी ओषधि बताने का अनुरोध पढने को मिलता रहता है l छात्र- छात्रओं के अलावा ज्यदा दिमागी (good for those doing mental work) काम करने वाले सभी लोगों के लिए शंखपुष्पी का सेवन अत्यन्त गुणकारी सिद्ध हुआ है l

इसका महीन पिसा हुआ चूर्ण , एक-एक चम्मच सुबह- शाम , मीठे दूध (sweet milk) के साथ या मिश्री की चाशनी के साथ सेवन करना चाहिए l

(2) शुक्रमेह :—-शंखपुष्पी का महीन चूर्ण एक चम्मच और पीसी हुई काली मिर्च (black pepper powder) आधी चम्मच दोनों को मिला कर पानी (taking it with water) के साथ फाकने से शुक्रमेह रोग ठीक होता है l

(3) ज्वर में प्रलाप :—तेज बुखार के कारण कुछ रोगी मानसिक नियंत्रण खो देते है (lose their mental control) और अनाप सनाप बकने लगते है l एसी स्थिति (in this situation) में शंखपुष्पी और मिश्री को बराबर वजन (use in equal weight) में मिलाकर एक-एक चम्मच दिन में तीन या चार बार पानी के साथ देने से लाभ (gain) होता है और नींद भी अच्छी आती है l

CLICK HERE TO READ: Tanaav se Bachne ke Nuskhe

(4) उच्च रक्तचाप :–उच्च रक्तचाप के रोगी (patients of high blood pressure) को शंखपुष्पी का काढ़ा बना कर सुबह और शाम पीना चाहिए l दो कप पानी में दो चम्मच चूर्ण डालकर उबालें (boil)l जब आधा कप रह जाए उतारकर ठंडा करके छान लें l यही काढ़ा है l दो या तीन दिन तक पियें उसके बाद एक-एक चम्मच पानी के साथ लेना शुरू कर दें रक्तचाप सामान्य होने (blood pressure will come to normal) तक लेतें रहें l

(5) बिस्तर में पेशाब :—-कुछ बच्चे बड़े हो जाने पर भी सोते हुए बिस्तर में पेशाब करने की आदत (habit) नहीं छोड़ते l एसे बच्चों को आधा चम्मच चूर्ण शहद (honey) में मिलाकर सुबह शाम चटा कर ऊपर से ठंडा दूध या पानी पिलाना चाहिए l यह प्रयोग लगातार एक महीनें (do this for 1 month)तक करें l

gharelu nuskhe, dadi maa ke nuskhe, desi nuskhe, दादी माँ के नुस्खे , देसी नुस्खे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*