जानिये महिलाओं में हार्ट प्रोब्लम्स हृदय रोग के संकेत एवम्‌ बचाव के नुस्खे , Heart Diseases In Women symptoms and cure
जानिये महिलाओं में हार्ट प्रोब्लम्स हृदय रोग के संकेत एवम्‌ बचाव के नुस्खे , Heart Diseases In Women symptoms and cure

जानिये महिलाओं में हार्ट प्रोब्लम्स हृदय रोग के संकेत एवम्‌ बचाव के नुस्खे | Heart Diseases In Women symptoms and cure

जानिये महिलाओं में हार्ट प्रोब्लम्स हृदय रोग के संकेत एवम्‌ बचाव के नुस्खे | Heart Diseases In Women symptoms and cure

मौजूदा वैश्विक आंकड़ों (current world data) के अनुसार हर साल करीब 17.3 मिलियन लोगों की हृदय रोगों के कारण मृत्यु (death cause of heart diseases) हो जाती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (world health organization) के अनुसार इनमें से लगभग 8.6 मिलियन महिलाएं (womens) हैं। आज की भाग-दौड़ भरी जिंदगी (busy hectic life) में महिलाएं अपना ज्यादातर समय प्रोफेशनल कैरियर (professional carrier) संभालने में बिता देती हैं तथा अपने स्वास्थ्य पर ध्यान (cant care about health) नहीं दे पाती हैं, जिसके कारण वह हृदय रोग (caught by heart diseases) का शिकार हो जाती हैं।

यह भी पढ़ें :- सिरदर्द से बचना है तो इन आहारों का सेवन कम करे | Want to avoid headache than don’t eat these things

CLICK HERE TO BUY:- Disano Extra Virgin Olive Oil, 1L

हृदय रोग से कैसे बचें महिलाएं – How to Prevent from Heart Diseases

हृदय रोग से बचने के लिए अपने स्वास्थ्य की नियमित जाँच (regular health checkup) करानी चाहिए। इससे किसी भी तरह की समस्या का शुरूआत (know problem in early stage) में ही पता चल जाता है, हालांकि कुछ एहतियात (proper care) बरतकर भी हृदय रोग से बचा जा सकता है। जो निम्नलिखित हैं-

यदि आप धूम्रपान (quit smoking) करती हैं तो तुरंत छोड़ दें क्योंकि इससे हाई ब्लड प्रेशर (high blood pressure) होने की संभावना होती है, जिससे आपको हार्ट अटैक हो सकता है।

अगर आप मोटी हैं तो शारीरिक गतिविधियों (physical activities) द्वारा अपने बढ़ते वजन को रोकने का प्रयास (try to stop increasing weight) करें तथा खाने में केवल पौष्टिक भोजन ही खाएं। खाने में पालक (spinach), गाजर (carrot), आड़ू और जामुन जैसे एंटीऑक्सीडेंट (anti oxidant) फलों और सब्जियों (fruits and vegetables) का प्रयोग करें।

महिलाओं को अपने कोलेस्ट्रॉल के स्तर (cholesterol level) का खास ध्यान रखना चाहिए। जिन महिलाओं का कोलेस्ट्रॉल बढ़ जाता है उनमें हृदय रोग की संभावना (increase possibility of heart diseases) बढ़ जाती है।

यह भी पढ़ें :- आपकी सेक्स अपील को बड़ाती है यह 6 नॉन सेक्सुअल बातें | These 6 sexual tips increase your sex appeal

CLICK HERE TO BUY:- Figaro Olive Oil (Spanish Products) 1000ml

हृदय रोग के लक्षण – Symptoms of Heart Diseases

हृदय रोग का पहला लक्षण (symptoms) यह है कि इसमें सीने के बीचो-बीच दर्द (pain between the chest) उठता है तथा कुछ समय बाद बंद हो जाता है और उसके बाद फिर शुरू हो जाता है।  

व्यक्ति को बेचैनी (uncomfortable) महसूस होती है, एक या दोनों हाथों में झनझनाहट (vibrating) और दर्द के अलावा पीठ, गर्दन, जबड़े या पेट में दर्द (pain in stomach, jaws, neck and back) होना भी हृदय रोग के लक्षण हैं।

सांस लेने में किसी भी प्रकार की तकलीफ (problem) होती है। इसके अलावा जी मिचलाना (vomiting) और सिर में लगातार हल्का दर्द (light headache) रहना भी हृदय रोग का लक्षण है।

यह भी पढ़ें :- अगर स्वस्थ रहना चाहते हो तो रात के डिनर में यह 7 चीज़ें जरुर खाएं

CLICK HERE TO BUY:- Saffola Active Losorb Technology, 5L

समय रहते जांच आवश्यक -Checkup on time of Heart Diseases for Women

डॉक्टरों के अनुसार 30 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को अपना नियमित हेल्थ चेक-अप (regular health checkup) अवश्य करवाना चाहिए। मार्केट (market) में कई कंपनियां हृदय रोग की जांच के लिए विशेष पैकेज उपलब्ध (package available) करवाती हैं।

आयुर्वेदिक उपचार, घरेलू उपचार, natural healing in hindi, household remedies in hindi,heart attack symptoms in hindi, home remedies for chest pain, medication for heart disease

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

       

       
error: Content is protected !!