जानिये मच्छरों के प्रकोप से बचने के नुस्खे , How to live safe from Mosquitoes and Flies
जानिये मच्छरों के प्रकोप से बचने के नुस्खे , How to live safe from Mosquitoes and Flies

जानिये मच्छरों के प्रकोप से बचने के नुस्खे – How to live safe from Mosquitoes and Flies

जानिये मच्छरों के प्रकोप से बचने के नुस्खे – How to live safe from Mosquitoes and Flies

बरसात के दिनों (rainy days) में मच्छरों की आबादी में बहुत ज्यादा वृद्धि (too much growth) हो जाती है, क्योंकि ऐसे समय में पानी बहुत ज्यादा हो जाता है जो की मच्छरों के एक अच्छी प्रजनन (reproduction) भूमि का काम करता है। अपने घर में कूलर के पानी (cooler water) को अच्छे से जाँच (check) ले और रोज़ाना उस पानी (change water daily) को बदलें। घर के अन्य क्षेत्र जैसे कि फूल के बर्तन (flower pot), एक्वैरियम (aquarium) और कुएं (pond) में भी पानी एकत्रित रहता है। इन्हे किसी कीटाणुनाशक (disinfectant) के प्रयोग से साफ़ करें और ढक (cover) कर रखे।

विस्तार से जानिये क्या है पूर्ण हेल्थ चेक-अप और उसके फाय्दे

हर्बल-टी पीएं- Drink Herbal Tea

मॉनसून (monsoon) के मौसम में हर्बल-टी का सेवन करें, क्योंकि इसमें एंटी-बैक्टीरियल गुण (anti bacterial quality) होते हैं। यह हमारी प्रतिरक्षा (increases immune system) को बढ़ाते हैं और कीटाणुओं, जीवाणुओ के खिलाफ लड़ने की ताकत (gives strength to fight with infection and diseases) प्रदान करते हैं। इसलिए Precautions During Rainy Season रखने के लिए हर्बल-टी रोज़ (herbal tea) पिएं।

स्क्रैचिंग से बचने – Avoid Scratching

यदि आपको मच्छर ने काट (mosquito bite you) लिया है तो उसे खुजालने (itching) से या स्क्रैचिंग से बचे, क्योंकि यह वायरस (virus) नाक, शरीर या मुंह के माध्यम (medium) से आपके अंदर प्रवेश (enter inside you body) कर सकते हैं। इसलिए मच्छर से काटे हुए प्रभावित क्षेत्र (effected area) को जितना कम हो सके, उतना कम छुएं।

बीमारियों से बचने के लिए रूमाल (use handkerchief) का उपयोग करें| रूमाल को अपने साथ या अपनी जेब (pocket) में रखना शिष्टाचार (well manners) को दर्शाता है। बारिश के दिनों (rainy days) में जितना कम हो सके अपने चेहरे को स्क्रैच करें या छुएं, क्योंकि फ्लू वायरस (flu virus) मुंह, आँख, नाक आदि के माध्यम से आपके अंदर प्रवेश क्र सकते हैं।  इसलिए ध्यान (always remember) रखें, जब भी जरुरत पड़े तो हाथ के बजाय रूमाल की मदद (help of handkerchief) से चेहरे को पोछें या साफ़ (clean) करें और हाथों को चेहरे (face) से दूर रखें।

त्वचा के संक्रमण से बचे – Avoid Skin Infection

बरसात के दिनों में बहुत ही ज्यादा मात्रा में (gutter) गटर, नालों में गंदा पानी एकत्रित (collect) हो जाता है, और फिर सडकों (roads) में फिर जमा होने लगता है। ऐसे में अगर आप नंगे पैर (barefoot) सड़कों में चलने लगते हैं तो यह दूषित (infected) और जहरीला पानी (poisonous water) आपकी त्वचा में लगकर अवांछित (unwanted) त्वचा कर संक्रमण (infection) पैदा क्र सकता है। इस मौसम (weather) में अपने शरीर का कोई भी भाग (open body part) अगर खुला होता है, तो उसमे गंदे पानी (dirty water) से होने वाले संक्रमण की सम्भावना (more possibilities of infection) अधिक होती है। इसलिए Health Tip and remedies for Rainy Season के अनुसार घर से बाहर निकलते समय यह सुनिश्चित (make sure) कर लें कि आपने अपने शरीर को ढका (covered your body or not) है या नहीं और पैरो में भी जूते (wear shoes) पहनकर उसे अवश्य ढकें।

यह भी पढ़ें :- आपका किचन चमकेगा इन 7 नुस्खों से

हाथों को धोएं – Wash Your Hands

बारिश के मौसम (rainy weather) में आप हाथ धोने (hand wash) की बात को अनदेखा नहीं (cant ignore) कर सकते, वरना यह आपके लिए बहुत ही घातक (dangerous for you) सिद्ध हो सकता है। इसलिए इस मौसम में हाथों को नियमित रूप (wash your hands regularly) से धोते रहने से व्यक्ति स्वास्थ्य संकटों (away for diseases) से दूर रहता है। ऐसा करने का मुख्य कारण (main reason) यह है की बारिश के दौरान कई तरह से बैक्टीरिया और वायरस सक्रिय (bacteria and virus active) हो जाते हैं और आपकी जानकारी के बिना (without information) किसी न किसी तरीके से ये आपके संपर्क (in your contact) में आ जाते हैं। इसलिए ध्यान (be careful) रखें, रोजाना भोजन करने से पहले अपने हाथ को साबुन से धोकर (wash your hands) या सेनिटाइजर (sanitizer) से अच्छी तरह से साफ़ (clean) कर ले।

डायबिटीज और अस्थमा के मरीज़ो के लिए – For Diabetes and Asthama Patients

अगर आप या आपके कोई रिश्तेदार (relative) डायबिटीज और अस्थमा की बिमारी से पीड़ित (infected) है, तो इस बात का अवश्य ध्यान (be careful) रखे कि बारिश के दिनों में पीड़ित गीली दीवारों (never sleep near wet walls) के पास ना सोएं। क्योंकि, गीली दीवार के पास सोने से (sleeping) शरीर के अंदर कवक के विकास (growth) को बढ़ावा मिलता है, जो कि स्वास्थ्य के लिए बहुत ही हानिकारक (very unhealthy for health) साबित हो सकता है।

इन टिप्स (tips) को अपनाकर अपनी सेहत का ख्याल रखे (can care your health) और बरसात के मौसम का भरपूर (enjoy full) आनंद उठायें।

दादी माँ के नुस्खे, घरेलू नुस्खे gharelu nuskhe in hindi for health, dadimaa ke nuskhe,quotes about rain, rainy day quotes, megan rain, baarish,home remedies for fever, symptoms of typhoid, symptoms of dengue

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*