जानिये भस्मक रोग यानी के Over Eating के घरेलू नुस्खे , Jaaniye bhasmak rog yaani ke over eating ke gharelu nuskhe
जानिये भस्मक रोग यानी के Over Eating के घरेलू नुस्खे , Jaaniye bhasmak rog yaani ke over eating ke gharelu nuskhe

जानिये भस्मक रोग यानी के Over Eating के घरेलू नुस्खे | Jaaniye bhasmak rog yaani ke over eating ke gharelu nuskhe

जानिये भस्मक रोग यानी के Over Eating के घरेलू नुस्खे | Jaaniye bhasmak rog yaani ke over eating ke gharelu nuskhe

 

भस्मक रोग एक प्रकार का ऐसा रोग है जिसमें रोगी हर समय खाता (patient eating food all the time) ही रहता है। रोगी जितना भी खाना खा ले उसे ऐसा लगता है कि उसने अभी तो कुछ भी नहीं खाया है और वह बहुत अधिक खाने लगता है।

भस्मक रोग के लक्षण:-
इस रोग के कारण रोगी व्यक्ति को बहुत अधिक भूख लगती है (feeling more hungry) तथा वह थोड़ी-थोड़ी देर के बाद कुछ न कुछ खाने के लिए मांगता रहता है।

भस्मक रोग का प्राकृतिक चिकित्सा से उपचार:-
इस रोग का उपचार करने के लिए सबसे पहले रोगी व्यक्ति को एनिमा (enema) क्रिया के द्वारा पेट साफ करना चाहिए और इसके बाद दिन में 2 बार कटिस्नान करना चाहिए।

रात को सोते समय रोगी को अपनी कमर पर भीगी पट्टी लगाकर कुछ समय के लिए सोना (sleep) चाहिए। ऐसा कुछ दिनों तक लगातार करने से भस्मक रोग ठीक हो जाता है।

इस रोग का इलाज प्राकृतिक चिकित्सा (natural treatment) से करने के लिए सबसे पहले रोगी को कुछ दिनों तक रसाहार (juice) तथा फलाहार भोजन (fruit diet) करना चाहिए और इसके बाद धीरे-धीरे सामान्य भोजन (normal diet) करना चाहिए।

CLICK HERE TO READ: एक महीने में ऐसे घटाएं बिना एक्सरसाइज किये अपना वजन

जानिये भस्मक रोग (Over eating) का घरेलू उपचार: Know some home remedies for over eating

भस्मक रोग को ठीक करने के लिए आसमानी रंग की बोतल (blue color bottle) के सूर्यतप्त जल को लगभग 50 मिलीलीटर की मात्रा में प्रतिदिन (everyday) 8 बार रोगी को सेवन कराना चाहिए। इससे रोगी का रोग कुछ ही दिनों में (relief in few days) ठीक हो जाता है।

भस्मक रोग (Over eating) परिचय:- Introduction
भस्मक रोग एक प्रकार का ऐसा रोग है जिसमें रोगी हर समय खाता ही रहता है। रोगी जितना भी खाना खा ले उसे ऐसा लगता है कि उसने अभी तो कुछ भी नहीं खाया है और वह बहुत अधिक खाने लगता है।

भस्मक रोग के लक्षण:-
इस रोग के कारण रोगी व्यक्ति को बहुत अधिक भूख लगती है तथा वह थोड़ी-थोड़ी देर के बाद कुछ न कुछ खाने के लिए मांगता रहता है।

CLICK HERE TO READ: Pani se vajan kam karne ke desi nuskhe

भस्मक रोग का प्राकृतिक चिकित्सा से उपचार:-
इस रोग का उपचार करने के लिए सबसे पहले रोगी व्यक्ति को एनिमा क्रिया के द्वारा पेट साफ करना चाहिए और इसके बाद दिन में 2 बार कटिस्नान करना चाहिए।

रात को सोते समय रोगी को अपनी कमर पर भीगी पट्टी लगाकर कुछ सम य के लिए सोना चाहिए। ऐसा कुछ दिनों तक लगातार करने से भस्मक रोग ठीक हो जाता है।

इस रोग का इलाज प्राकृतिक चिकित्सा से करने के लिए सबसे पहले रोगी को कुछ दिनों तक रसाहार तथा फलाहार भोजन करना चाहिए और इसके बाद धीरे-धीरे सामान्य भोजन करना चाहिए।

भस्मक रोग को ठीक करने के लिए आसमानी रंग की बोतल के सूर्यतप्त जल को लगभग 50 मिलीलीटर की मात्रा में प्रतिदिन 8 बार रोगी को सेवन कराना चाहिए। इससे रोगी का रोग कुछ ही दिनों में ठीक हो जाता है।

gharelu nuskhe, dadi maa ke nuskhe, desi nuskhe, दादी माँ के नुस्खे , देसी नुस्खे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*