जानिये टाइफाइड बुखार से बचाव के लिए 10 घरेलू इलाज , टाइफाइड के 10 आयुर्वेदिक उपचार , jaaniye typhoid bukhar se bachaav ke liye 10 gharelu ilaaj, Typhoid ke 10 ayurvedic upchaar
जानिये टाइफाइड बुखार से बचाव के लिए 10 घरेलू इलाज , टाइफाइड के 10 आयुर्वेदिक उपचार , jaaniye typhoid bukhar se bachaav ke liye 10 gharelu ilaaj, Typhoid ke 10 ayurvedic upchaar

जानिये टाइफाइड बुखार से बचाव के लिए 10 घरेलू इलाज | टाइफाइड के 10 आयुर्वेदिक उपचार | jaaniye typhoid bukhar se bachaav ke liye 10 gharelu ilaaj| Typhoid ke 10 ayurvedic upchaar

जानिये टाइफाइड बुखार से बचाव के लिए 10 घरेलू इलाज | टाइफाइड के 10 आयुर्वेदिक उपचार | jaaniye typhoid bukhar se bachaav ke liye 10 gharelu ilaaj| Typhoid ke 10 ayurvedic upchaar

 

टाइफाइड के घरेलू उपचार: Typhoid fever ke gharelu upchaar

टाइफाइड एक खतरनाक बीमारी (dangerous disease) है, इस बीमारी में तेज बुखार (strong fever) आता है, जो कई दिनों तक बना रहता है। यह बुखार कम-ज्यादा होता रहता है, लेकिन कभी सामान्य (normal) नहीं होता।

टाइफाइड का इन्फेक्शन (infection) होने के एक सप्ताह बाद रोग के लक्षण नजर आने लगते हैं। कई बार दो-दो माह बाद तक इसके लक्षण दिखते हैं। टाइफाइड और बुखार का घरेलू इलाज से बचाव (treatment from home remedies) किया जा सकता है।

CLICK HERE TO READ: एक खतरनाक बीमारी डेंगू – जानिये इसके आसान नुस्खे

बुखार से बचाव के घरेलू इलाज- bukhar se bachaav ke gharelu ilaaj

 
    •    पान का रस, अदरक का रस (ginger juice) और शहद (honey) को बराबर मात्रा में मिलाकर सुबह-शाम पीने (drink in morning and evening) से आराम मिलता है।

    •    यदि जुकाम (cough) या सर्दी-गर्मी में बुखार (fever) हो तो तुलसी, मुलेठी, गाजवां, शहद और मिश्री को पानी (mix all things in water) में मिलाकर काढा बनाएं और पीएं। इससे जुकाम सही हो जाता है और बुखार भी जल्द ही उतर जाता है।

    •    गर्मी के मौसम में टायफायड होने पर लू लगने के कारण बुखार होने का खतरा (danger) रहता है। ऐसे में आप कच्चे आम (ripe mango) को आग या पानी में पकाकर इसका रस पानी के साथ मिलाकर पीएं।

    •    जलवायु परिवर्तन की वजह से बुखार होने तुलसी की चाय पीने से आराम (relief in tulsi tea) मिलता है। इसके लिए 20 तुलसी की पत्तियां, 20 काली मिर्च (black pepper), थोड़ी सी अदरक (ginger), जरा सी दालचीनी को पानी में डालकर खूब खौलाएं। अब इस मिश्रण को आंच से उतारकर छानें और इसमें मिश्री या चीनी मिलाकर गर्म-गर्म पीएं(drink it hot)।

    •    तुलसी और सूर्यमुखी के पत्तों का रस पीने से भी टायफायड बुखार ठीक होते हैं। करीब तीन दिन तक सुबह-सुबह (take this 3 mornings) इसका प्रयोग करें। टायफायड के अलावा, बुखार के कई और कारण भी हो सकते हैं,  ऐसे में कुछ बातों का रखें ख्याल|

CLICK HERE TO READ: डेंगू और चिकनगुनिया का किचन में मौजूद है रामबाण इलाज

    •    बुखार में रोगी (patient) को अधिक से अधिक आराम (rest) की जरूरत होती है। भोजन का खास ख्याल रखें। बुखार होने पर दूध (milk), साबूदाना, चाय (tea), मिश्री आदि हल्की चीजें खाएं। मिश्री का शर्बत, मौसमी का रस, सोडा वाटर (soda water) और कच्चे नारियल का पानी (coconut water) जरूर पीये।

    •    पानी खूब पीएं और पीने के पानी को पहले गर्म करें और उसे ठंडा होने के बाद पीये। अधिक पानी पीने से शरीर का जहर पेशाब और पसीने के रूप में शरीर (toxic  come out from urine and sweat) से बाहर निकल जाता है।

    •    लहसुन की कली पांच से दस ग्राम तक काटकर तिल के तेल में या घी में तलकर सेंधा नमक डालकर खाने से सभी प्रकार का बुखार ठीक होता है।

    •    तेज बुखार आने पर माथे पर ठंडे पानी का कपड़ा (use cold water towel on forehead) रखें तो बुखार उतर जाता है,और बुखार की गर्मी सिर पर नहीं चढ़ती है।

    •    फ्लू में प्याज का रस (onion juice) बार-बार पीने से बुखार उतर जाता है,और कब्ज में भी आराम (relief in constipation) मिलता है।

    •    पुदीना और अदरक (mint and ginger) का काढ़ा पीने से बुखार उतर जाता है। काढ़ा पीकर घंटे भर आराम करें, बाहर हवा में न जाएं।

घरेलू दवाओं से यदि आपको आराम न मिले, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें (contact doctor as soon as possible) और उसके निर्देशानुसार इलाज करवाएं।

gharelu nuskhe, dadi maa ke nuskhe, desi nuskhe, दादी माँ के नुस्खे , देसी नुस्खे,home remedies for fever, symptoms of typhoid, symptoms of dengue

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*