जानिये कौन सी उम्र में औरत के लिए पहला बच्चा या माँ बनाना सही है , Jaaniye kaun se umar mein aurat ke liye pehla bachcha ya maa ban na sahi hai
जानिये कौन सी उम्र में औरत के लिए पहला बच्चा या माँ बनाना सही है , Jaaniye kaun se umar mein aurat ke liye pehla bachcha ya maa ban na sahi hai

जानिये कौन सी उम्र में औरत के लिए पहला बच्चा या माँ बनना सही है | Jaaniye kaun se umar mein aurat ke liye pehla bachcha ya maa ban na sahi hai

जानिये कौन सी उम्र में औरत के लिए पहला बच्चा या माँ बनना सही है | Jaaniye kaun se umar mein aurat ke liye pehla bachcha ya maa ban na sahi hai

 

बच्चा कब चाहिए यह तय करना कोई आसान बात नहीं है (not easy to decide)। किसी भी उम्र में गर्भावस्था के अपने फायदे और नुकसान (benefits and losses) हैं। यह बात सच है कि आपकी उम्र के साथ आपके ब्रेस्ट में भी परिवर्तन (changes in breasts) आता है। 20 वर्ष की उम्र में आपके ब्रेस्ट तने हुए, लचीले होते हैं तथा इनका आकार भी अच्छा होता है(good in shape)। यदि आप 20 वर्ष की उम्र में गर्भवती (pregnant) होना चाहती हैं तो समय और जीव विज्ञान दोनों आपके (time and science with you) साथ होता है।

जैसे ही आप 30 वर्ष की उम्र में प्रवेश करती हैं एस्ट्रोजन (estrogen) जैसे हार्मोंस (hormones) ब्रेस्ट को मज़बूत रखने में सहायक होते हैं। अक्सर इस उम्र में मां बनने से ब्रेस्ट कैंसर जैसी बीमारियों से बचा जा सकता है। हालाँकि 40 वर्ष की उम्र में ब्रेस्ट के टिश्यु खराब (tissues going damage) होने लगते हैं और आपके ब्रेस्ट में वसा का प्रतिशत बढ़ जाता है (growth of fat in breasts) तथा इसके साथ ही गर्भावस्था से संबंधित खतरे (growth in breast related problems) भी बढ़ जाते हैं।

CLICK HERE TO READ: जानिये आखिर क्यों गर्भावस्था के दौरान शारीरिक बदलाव की वजह से होता है पूरे शरीर में सामान्‍य दर्द

CLICK HERE TO READ: Pregnancy mein diet and health ke nuskhe

गर्भावस्था और ब्रेस्ट कैंसर के खतरे के बीच संबंध अध्ययनों (research) से पता चला है कि किसी महिला को ब्रेस्ट कैंसर होने का खतरा उसकी ओवरीज़ (ivory) द्वारा उत्पन्न किये जाने वाले हार्मोंस से संबंधित (related hormones) होता है। गर्भावस्था और ब्रेस्टफीडिंग का सीधा प्रभाव ब्रेस्ट की कोशिकाओं (effect on breasts tissues) पर पड़ता है ताकि उनमें कुछ अंतर (difference) आए या वे परिपक्व हो सकें और दूध (milk) बना सकें। कुछ शोधकर्ताओं का ऐसा मानना है कि ये परिवर्तित कोशिकाएं ही कैंसर की कोशिकाएं बन जाती हैं (this tissues changes into cancer tissues) जबकि अपरिवर्तित कोशिकाओं के कैंसर की कोशिकाओं में बदलने का खतरा बहुत कम होता है।

ऐसी महिलायें जो बहुत कम उम्र में मां बन जाती हैं उनमें ब्रेस्ट कैंसर होने का खतरा बहुत कम होता है (very less chances of breast cancer)। ऐसी महिलायें जिन्होंने 30 वर्ष की उम्र के बाद पहले बच्चे को जन्म दिया है (give birth to first child) उनमें ब्रेस्ट कैंसर होने की संभावना (more possibilities) उन महिलाओं से अधिक होती है जिन्होंने कभी भी बच्चे को जन्म नहीं दिया है।

ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण क्‍या हैं? महिला की पहली गर्भावस्था के बाद ब्रेस्ट कैंसर होने की संभावना बढ़ जाती है परन्तु यह धीरे धीरे कम (but its reducing slowly slowly) हो जाती है तथा बाद की गर्भावस्था पर इसका कोई प्रभाव नहीं पड़ता (no impact on pregnancy)। महिलाओं द्वारा पहले बच्चे को जन्म देने की उम्र हर पांच साल में बढ़ रही है जिसके कारण महिलाओं को ब्रेस्ट कैंसर होने की संभावना 7% से बढ़ रही है(growth in breast cancer in women’s).

gharelu nuskhe, dadi maa ke nuskhe, desi nuskhe, दादी माँ के नुस्खे , देसी नुस्खे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

error: Content is protected !!