Jaaniye kaun kaun se ahaar hai mahilaon ke swasthya ke liye
Jaaniye kaun kaun se ahaar hai mahilaon ke swasthya ke liye

जानिये कौन कौन से आहार है महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए Jaaniye kaun kaun se ahaar hai mahilaon ke swasthya ke liye

जानिये कौन कौन से आहार है महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए| Jaaniye kaun kaun se ahaar hai mahilaon ke swasthya ke liye

 

महिलाओं को अनाज का सेवन अधिक (eat more grain) करना चाहिए। फलों में मौजूद फाइबर (fruits give fiber and nutrition) देता है जरूरी पोषण। डिनर के बाद मलाईरहित दूध पीने से (drink milk after dinner) होता है लाभ। पानी पीने से विषाक्‍त पदार्थ (water remove toxic from body) निकलते हैं बाहर।

महिलाएं स्वस्थ दिखने के लिए कई प्रकार के प्रयोग (doing so many tricks) करती हैं। अपने चेहरे और शरीर को हेल्दी (make face and body healthy) बनाने के लिए कई नुस्खे अपनाती हैं। उनको लगता है कि स्वथ्य दिखने के लिए वर्कआउट और जिम (workout and gym) के अलावा डाइटिंग (dieting) एक बेहतर उपाय है। कई महिलाएं लगातार डाइटिंग करती हैं। जो महिलाएं मोटी होती हैं (heavy womens) उनको लगता है खाना न खाने से जल्दी वजन पर नियंत्रण (not eating food make them thin) मिल जाएगा, जबकि यह उनकी गलतफहमी (its a wrong thing) होती है। खाना न खाने से शरीर को जरूरी पोषक तत्व (not eating food, dont give them nutrition’s) नहीं मिल पाते हैं जिसके कारण शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होती है (it decreases immune strength of the body) और कई प्रकार की बीमारियां शुरू हो जाती हैं। इसलिए स्वस्थ और छरहरी काया के लिए योगा और एक्सरसाइज (yoga and exercise) के अलावा स्वस्थ‍ आहार भी बहुत (healthy diet is more important) जरूरी होता है।

यह भी पढ़ें :- अगर वजन घटाना हो तो रात में भूख लगने पर खाइये यह स्नैक

महिलाओं के लिए स्वस्थ आहार – Health Diet List for Womens

अनाज – Grain

अनाज में सभी प्रकार के पोषक तत्व‍ (all nutrition’s are in the grain) मौजूद होते हैं। फाइबर (fiber), मिनेरल्स  (minerals), विटामिन्स (vitamins), कैल्शियम (calcium) और प्रोटीन (protein) पिसे हुए अनाज की तुलना में साबुत अनाज में ज्यादा पाये जाते हैं। साबुत अनाज खाने से महिलाओं के शरीर को ऊर्जा (gives energy to women’s) मिलती है। वजन घटाने और बढाने (for loosing or increasing weight) के लिए साबुत अनाज का प्रयोग किया जा सकता है। साबुत अनाज के रूप में ब्राउन चावल (brown rice), गेहूं, जौ आदि का प्रयोग किया जा सकता है।

सब्जियां – Vegetables

महिलाओं को अपनी आहार योजना में हरी और सीजनल सब्जियों (add green and seasonal vegetables) को शामिल करना चाहिए। हरी सब्जियों में कैलोरी की मात्रा कम होती है (less calories) और यह शरीर को पोटैशियम (potassium), विटामिन (vitamins) और फाइबर (fiber) प्रदान करते हैं।

हरी और पत्‍तेदार सब्जियां जैसे – पालक (spinach), पत्तागोभी (cauliflower), तोरी, करेला आदि खाने से शरीर को भरपूर मात्रा में पोषण मिलता है।

यह भी पढ़ें :- हाथ या पैर में प्लास्टर लगने के बाद क्या करें और क्या ना करें | What do and what no to do in plaster

फल – Fruits

महिलाओं को स्वस्थ रहने के लिए हर रोज एक फल (must eat fruits daily) जरूर खाना चाहिए। अगर फल नहीं खा सकते हैं तो एक गिलास जूस अवश्य (or must drink fresh fruit juice) पीना चाहिए। फलों में विटामिन, कैल्शियम और फाइबर की पर्याप्त मात्रा (enough quantity) मौजूद होती है। फल खाने से शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होती है (it makes immune system stronger) और सामान्य बीमारियों (normal diseases) के अलावा गंभीर बीमारियां जैसे – डायबिटीज (diabetes), कैंसर (cancer) आदि के होने की संभावना कम होती है।

सलाद – Saled

खाने के साथ या खाने से पहले सलाद खाना (eat saled before eating food) चाहिए। सलाद खाने के कारण महिलाएं ज्यादा खाने से बच सकती हैं (so they can safe from over eating) जिससे मोटापा को कम करने में मदद मिलती है। लेकिन यह ध्यान रखना चाहिए कि सलाद में खीरे, ककडी, टमाटर जैसे विटामिन वाले खाद्य-पदार्थ (saled filled with vitamins) भरपूर मात्रा में हैं या नही।

दूध और दही – Curd and Milk

दूध और उससे बने खाद्य पदार्थों को डाइट प्लान में जरूर शामिल (add them in your diet plan) करना चाहिए। दूध, दही और पनीर (milk, curd and cheese) भी स्वस्थ आहार हैं। डिनर के बाद मलाईरहित दूध पीने से शरीर को भरपूर पोषण मिलते हैं (complete nutrition’s) और आतिरिक्त वसा भी शरीर में नही जाती है जिससे मोटापे की संभावना (less possibility of obesity problem) नहीं होती है।

यह भी पढ़ें :- जानिये अगर कुछ दिन नमक न खाए तो इसका सेहत पर क्या असर पड़ेगा

पानी – Water

महिलाओं को जितना हो सके उतना पानी पीना (drink as much water you can drink) चाहिए। पानी पीने से शरीर से विषाक्त पदार्थ (it removes toxic from body) बाहर निकलते हैं। मोटापा कम करने के लिए पानी एक बे‍हतर विकल्प (for reducing weight water is a good option) हो सकता है। इसके अलावा पानी पीने से शरीर और त्वचा के कई रोग (it also kills skin related problems) समाप्त होते हैं।

शरीर पर खान-पान का असर तभी पडेगा जब उसके लिए एक (take proper gap in diet/food) निश्चित अंतराल हो। खाने के बीच में कम से कम 6 घंटे का अंतराल (gap of 6 hours atleast) होना चाहिए, जिससे कि खाना अच्छे से (so food digest properly) पच सके। डिनर जल्दी कर (take your dinner early) लेना चाहिए, क्योंकि रात में खाना देर से पचता है।

आयुर्वेदिक उपचार, घरेलू उपचार, dadi maa ke nuskhe in hindi, gharelu nukshe in hindi, ayurvedic gharelu upchar in hindi

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*