जानिये के आखिर शरीर की नसों में दर्द होने का मतलब क्या है, Jaaniye ke aakhir shareer ki nasso mein dard hone ka matlab kya hai
जानिये के आखिर शरीर की नसों में दर्द होने का मतलब क्या है, Jaaniye ke aakhir shareer ki nasso mein dard hone ka matlab kya hai

जानिये के आखिर शरीर की नसों में दर्द होने का मतलब क्या है | Jaaniye ke aakhir shareer ki nasso mein dard hone ka matlab kya hai

जानिये के आखिर शरीर की नसों में दर्द होने का मतलब क्या है | Jaaniye ke aakhir shareer ki nasso mein dard hone ka matlab kya hai

 

नर्व पेन (nerve pain) या न्यूरॉल्जिया किसी खास नर्व में होता है। न्यूरॉल्जिया में जलन (burn), संवेदनहीनता या एक से अधिक नर्व में दर्द फैलने की समस्या (problem) हो सकती है। न्यूरॉल्जिया से कोई भी नर्व प्रभावित (any nerve can be affected) हो सकती है। नसों में दर्द के सही मतलब और इसके उपचार (for accurate meaning and for treatment) के बारे में जानने के लिए यह लेख पढ़ें।

नर्व के दर्द के कारण | Reasons of pain in nerves

ड्रग्स (drugs), रसायनों (chemicals) के कारण परेशानी, क्रॉनिक रिनल इनसफिशिएंशी, मधुमेह (sugar), संक्रमण (infection), जैसे-शिंगल्स, सिफलिस और लाइम डिजीज, पॉरफाइरिया, नजदीकी अंगों (ट्यूमर – tumor या रक्त नलिकाएं) से नर्व पर दबाव पड़ना, नर्व में सूजन (swelling) या तकलीफ, नर्व के लिए खतरे या गंभीर समस्याएं (इसमें शल्यक्रिया शामिल है), अधिकतर मामलों में कारण का पता नहीं चलता।

नर्व पेन एक जटिल और क्रॉनिक तकलीफदेह (difficult and painful) स्थिति है, जिसमें वास्तविक समस्या समाप्त हो जाने के बाद भी दर्द स्थायी रूप से बना रहता है। नर्व पेन में दर्द शुरू होने और रोग की पहचान होने में कुछ दिन से लेकर कुछ महीने (it take months to know the exact problem) लग सकते हैं। नर्व को थोड़ा सा भी नुकसान पहुंचने पर या पुराने चोट ठीक हो जाने पर भी दर्द शुरू हो सकता है।

Click here to read: Jaaniye Aankhon ki dekhbhaal ke kuch saste aur asaan nuskhe

लक्षण | How to know

जलन की अनुभूति, संवेदनहीनता और पूरे नर्व में दर्द.

– शरीर के प्रभावित भाग (effected part) की गति औऱ कार्य-प्रणाली मांसपेशियों की कमजोरी (weakness in muscles), दर्द या नर्व की क्षति के कारण अवरुद्ध हो जाती है।

 – दर्द अचानक उठता है और बहुत तेज दर्द (very strong pain) होना, – जैसे-कोई नुकीली चीज चुभ रही हो या जलन की अनुभूति होती है। यह दर्द लगातार रह सकता है या रुक-रुक कर होता है।

– छूने या दबाने से दर्द महसूस होता है और चलना फिरना भी कष्टदायक (very painful while walking) हो जाता है।

– प्रभावित नर्व के पथ में दर्द रहता है या यह दर्द बार-बार (it pains again and again) होता है।

Click here to read: Sex power jaldi badhane ke nuskhe

जांच और रोग निदान | Test and treatment

किसी एक जांच से नर्व पेन की पहचान नहीं की जा सकती। प्रारंभ में डॉक्टर (doctor) आपके लक्षणों और दर्द के विवरण (detail) के साथ शारीरिक जांच (physical tests) से रोग के पहचान का प्रयास (trying to understand) करता है। आपके शारीरिक जांच से पता चल सकता है-

त्वचा में असामान्य अनुभूति। Feeling abnormal skin

 – गहरी टेंडन रिफ्लैक्स (reflax) में कमी या मांसपेशियों का कम होना।

– प्रभावित क्षेत्र में पसीना कम निकलना (less sweat in effected area) (पसीना निकलना नर्व के द्वारा नियंत्रित होता है)।

– नर्व के पास स्पर्श से दर्द या सूजन महसूस (feeling swelling and pain) होना।

– ट्रिगर प्वाइंट (trigger point) या ऐसे क्षेत्र जहां हल्के से छू देने से भी दर्द शुरू हो जाए।

– दांतों की जांच (test of teeth), जिसमें फेशियल पेन को जन्म (birth to facial pain) देने वाली दांतों की समस्याएं शामिल नहीं हैं (जैसे-दांतों में ऐबसेस या फोड़े)

– प्रभावित क्षेत्र के लाल (affected area turns to red) हो जाने या सूजन आने जैसे-लक्षण, जिससे संक्रमण (infection, ह़ड्डी टूटने (broken bones) या रयूमेटॉइड अर्थाराइटिस की स्थिति की पहचान में सहायता मिले।

उपचार | Treatment

नर्व पेन का इलाज सामान्यतया कठिन (very painful treatment) है, और प्राय: दर्द से राहत देने वाले इलाजों से इस दर्द में कोई अंतर नहीं आता। आपको कई प्रकार के चिकित्सा पद्धतियों को आजमाने की आवश्यकता (no need to try so many types of treatment) होती है, ताकि पता चल सके कि कौन सी प्रणाली आपके लिए लाभकारी (helpful) है। कभी-कभी स्वयं या समय के साथ हालत में खुद-ब-खुद सुधार आ जाता है। चूंकि नर्व पेन का इलाज आसान नहीं है, इसके उपचार के मुख्य लक्ष्य हैं-

Click here to read: Kya aapko pata hai ke aapke pasand ke khaane ki cheejein “IN SABSE” tayar hoti hai

दर्द की तीव्रता कम करना | Reducing pain

 – स्थायी दर्द से जूझने में आपकी सहायता (helping) करना

– आपके दैनिक जीवन (daily routine life) पर दर्द के प्रभाव कम करना

– अगर किसी आंतरिक बीमारी(जैसे-डायबिटीज diabetes, ट्यूमर tumor) के कारण दर्द हो रहा है तो इसका पता चलने पर अगर इस बीमारी का इलाज संभव है तो इलाज करना।

– डायबिटीज के रोगियों (diabetes patients) में शुगर पर कड़े नियंत्रण (control on sugar) से न्यूरॉल्जिया में लाभ होता है।

– कभी-कभी ट्यूमर या किसी अन्य वजह से नर्व पर दबाव पड़ने की वजह से उसमें दर्द होता है, ऐसी स्थिति में (in this situation) जिस कारण से दबाव पड़ रहा है उसे सर्जरी से हटाने की (need surgery to remove) जरूरत होती |

gharelu nuskhe, dadi maa ke nuskhe, desi nuskhe, दादी माँ के नुस्खे , देसी नुस्खे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

       

       
error: Content is protected !!