जानिये किस बीमारी में पिएँ कौन सा जूस , Jaaniye kis bimari mein piye kaun sa juice
जानिये किस बीमारी में पिएँ कौन सा जूस , Jaaniye kis bimari mein piye kaun sa juice

जानिये किस बीमारी में पिएँ कौन सा जूस | Jaaniye kis bimari mein piye kaun sa juice

जानिये किस बीमारी में पिएँ कौन सा जूस | Jaaniye kis bimari mein piye kaun sa juice

 

भूख लगाने के हेतुः प्रातःकाल खाली पेट नींबू का पानी (lemon water) पियें। खाने से पहले अदरक का कचूमर सैंधव नमक के साथ लें।

रक्त शुद्धिः blood purify- नींबू, गाजर (carrot), गोभी, चुकन्दर, पालक, सेव (apple), तुलसी, नीम और बेल के पत्तों का रस।

दमाः लहसुन (garlic), अदरक (ginger), तुलसी, चुकन्दर, गोभी, गाजर (carrot), मीठी द्राक्ष का रस, भाजी का सूप अथवा मूँग का सूप और बकरी का शुद्ध दूध लाभदायक है। घी, तेल, मक्खन वर्जित है।

उच्च रक्तचापः High BP:- गाजर, अंगूर (grapes) , मोसम्मी और ज्वारों का रस। मानसिक तथा शारीरिक आराम आवश्यक है। (mental and physical rest is necessary).

CLICK HERE TO READ: जानिये चुकंदर के जूस में शहद मिलाकर पीने से होने वाले 7 फायदे

निम्न रक्तचापः Low BP:-मीठे फलों का रस लें, किन्तु खट्टे फलों का उपयोग न करें। अंगूर और मोसम्मी का रस अथवा दूध भी लाभदायक (milk is helpful) है।

पीलियाः Jaundice:अंगूर, सेव, रसभरी, मोसम्मी। अंगूर की अनुपलब्धि पर लाल मुनक्के तथा किसमिस का पानी। गन्ने को चूसकर उसका रस पियें। केले (banana) में 1.5 ग्राम चूना लगाकर कुछ समय रखकर फिर खायें।

मुहाँसों के दागः गाजर, तरबूज, प्याज (onion), तुलसी और पालक (spinach) का रस।

संधिवातः लहसुन, अदरक, गाजर, पालक, ककड़ी, गोभी, हरा धनिया, नारियल का पानी (coconut water) तथा सेव और गेहूँ के ज्वारे।

एसीडिटीः Acidity:-  गाजर, पालक, ककड़ी, तुलसी का रस, फलों का रस अधिक लें (take more fruit juice)। अंगूर मोसम्मी तथा दूध भी लाभदायक है।

कैंसरः Cancer:-  गेहूँ के ज्वारे, गाजर और अंगूर का रस।

सुन्दर बनने के लिएः सुबह-दोपहर (morning and afternoon) नारियल का पानी या बबूल का रस लें। नारियल के पानी से चेहरा साफ करें। (clean face with coconut water).

CLICK HERE TO READ: आपको हैरत में डाल देंगे पत्तागोभी जूस पीने के ये फायदे

फोड़े-फुन्सियाँ- गाजर, पालक, ककड़ी, गोभी और नारियल का रस।

कोलाइटिसः गाजर, पालक, पत्ता गोभी और पाइनेपल का रस (pineapple juice)। 70 प्रतिशत गाजर के रस के साथ अन्य रस समप्राण। चुकन्दर, नारियल, ककड़ी, पत्ता गोभी के रस का मिश्रण भी उपयोगी (mixture is also helpful) है।

अल्सरः Ulcer:- अंगूर, गाजर, पत्ता गोभी का रस। केवल दुग्धाहार पर रहना आवश्यक है। (use milk products too).

सर्दी-कफः Cold- Cough:- मूली, अदरक, लहसुन, तुलसी, गाजर का रस, मूँग अथवा भाजी का सूप (soup)।

ब्रोन्काइटिसः पपीता, गाजर, अदरक, तुलसी, पाइनेपल का रस, मूँग का पानी लेवे |

gharelu nuskhe, dadi maa ke nuskhe, desi nuskhe, दादी माँ के नुस्खे , देसी नुस्खे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*