जानिये अपच के लक्षण, कारण और घरेलू नुस्खे – Indigestion Symptoms, reasons and Home Remedies

जानिये अपच के लक्षण, कारण और घरेलू नुस्खे – Indigestion Symptoms, reasons and Home Remedies

कहा जाता है कि यदि पेट दुरुस्त (good stomach) हो तो शरीर की अधिकतर बीमारियों (mostly diseases) को दूर किया जा सकता है। कब्ज, अपच, बदहजमी और गैस पेट (gas related problems) से संबंधित समस्याएं हैं जिससे घर का कोई न कोई सदस्य (family member) परेशान रहता है। इस लेख के जरिए अजीर्ण या अपच (reasons of indigestion) के कारण और उसके उपचार (treatment of indigestion) के बारे बताया जाएगा।

यह भी पढ़ें :- जानिये मॉडर्न दौर के स्टाइलिश और ट्रेंडी वर्कआउट्स

अजीर्ण या अपच के कारण – reasons of indigestion

मल-मूत्र (body wastage) का वेग रोकने और अधिक सोने (more sleep) से भी अजीर्ण की शिकायत (problem of indigestion) हो जाती है।

मानसिक कारणों (mental reasons) में जैसे ईर्ष्या, भय, क्रोध (anger) आदि के कारण भोजन अपच की समस्या (problem of indigestion) देखी जा सकती है।

भूख से अधिक भोजन (more food than needed) लेने के कारण अपच की समस्या (problem in indigestion) बढ़ती है।

अधिक स्वादिष्ट (more tasty) किंतु कड़ा भोजन (junk food) करने तथा बेवक्त भोजन करना अजीर्ण या अपच जैसी बीमारी को (grows the problem) उत्पन करता है।

अजीर्ण या अपच के लक्षण – Symptoms of indigestion

इसमें पेट में दर्द (stomach ace), जी मिचलाना, बेचैनी, कभी-कभी मतली या उलटी (vomiting) भी हो जाती है। इसके अलावा भूख न लगने के कारण पेट में गैस (gas in stomach) बन जाना, पेट में जलन (acidity), पेचिश से भरा द्रव शौच के साथ बाहर (comes out with urine) आना आदि इसके मुख्य (main reason) लक्षण है।

अपच के प्राकृतिक एवं घरेलू उपचार- natural remedies/treatment of indigestion

अजवाइन (ajwain) दो सौ ग्राम, हींग (hing) चार ग्राम, काला नमक (black salt) बीस ग्राम सबको पीसकर चूर्ण (churan) बना लें। इसे सुबह-शाम हलके गुनगुने (warm water) पानी के साथ लें। अजीर्ण का रोग तुरंत दूर (quick relief) हो जाएगा।

एक चम्मच नींबू का रस (lemon juice), आधा चम्मच अदरक का रस (ginger juice), एक दाना काली मिर्च, थोड़ा-सा हरा धनिया या पुदीना (mint), सेंधा नमक तथा थोड़ा-सा जीरा। इन सबको पीसकर चटनी (make powder/chutney) बना लें। इस चटनी को भोजन के बाद (after food) खाने से भोजन पचना (good for digestion) शुरू हो जाता है।

दो लौंग (cloves) तथा आधा चम्मच जीरा दोनों को आधा गिलास पानी (boil in half glass water) में उबाल लें। जब पानी आधा (half water) रह जाये तो उसमें एक चुटकी काला नमक (mix black pepper) मिलाकर पिएं। अपच में बेहतर दवा (good medicine) का काम करता है।

मूली के रस में थोड़ी-सी मिसरी (mix mishri in mooli) पीसकर मिला लें। फिर एक चम्मच (spoon) रस को खाना खाने के बाद पियें। इससे खट्टी डकारें (burps) तथा अपच का रोग बहुत जल्दी दूर हो जाता है।

अगर अपच है तो सबसे पहले हींग को तवे पर (fry hing on tava) भून लें। उसके बाद उसमें एक चम्मच जीरा, एक चम्मच पिसी हुई सोंठ (saunth) तथा दो चुटकी नमक मिलाकर चूर्ण (make churan) तैयार कर लें। इसमें से आधा चम्मच चूर्ण गुंनगुने पानी (warm water) के साथ सेवन करें। हर प्रकार के अजीर्ण के लिये यह चूर्ण (perfect medicine) रामबाण औषधि है।

Click here to read:-  Did You Know these 12 Super foods for the Weight Lose

अजवाइन (ajwain), छोटी हरड़, सेंधा नमक (sendha namak) तीनों चीजे बराबर की मात्रा में लेकर (mash all in equal qty.) पीस लें। इसमें दो रत्ती हींग मिला लें। इस चूर्ण को खाना खाने (after food 2 times) के बाद रोज सुबह-शाम दही या मट्ठे के साथ लें। आपको जल्द (relief) आराम मिलेगा।

काली मिर्च (black pepper), अदरक, अनार दाना, काला नमक (black salt), हींग दो ग्राम, दाल चीनी (cinnamon) सब चीजें दस-दस ग्राम लेकर चूर्ण (churan) बना लें। अपच की समस्या में गुनगुने पानी (take with warm water) के साथ इसका सेवन करें।

नीम की पत्तियों के रस (juice of neem leaves) में नीबू निचोड़कर पीने से अजीर्ण दूर होता है।

अगर गैस बढ़ (increase in gas/acidity) गई हो और बार-बार डकारें (burps) आ रही हों तो एक चम्मच खाने का (baking soda)सोडा, एक गिलास पानी (glass water) में मिलाकर पी लें।

जामुन की छाल को आग में भूनकर (fry) उसका भस्म बना लें और मधु के साथ दो चुटकी भस्म का (eat) सेवन करें।

अजीर्ण या अपच में तुलसी की चार (4 leaves) पत्तियां, पिसी हुई सोठ आधा चम्मच, दो चुटकी सेंधा नमक (sendha namak) मिलाकर चटनी (chutney) बनाकर उसका सेवन करें।

यह भी पढ़ें :- क्या आपको पता है कुछ ऐसी सब्जियां के बारे में जो आपको वियाग्रा से भी ज्यादा सेक्स पावर दे सकती है

पके हुये बेल का एक गिलास शरबत (bel sharbat) रोजाना पीने से अजीर्ण की शिकायत (complaint) दूर हो जाती है।

तुलसी (tulsi) की चार पत्तियां, दो नीम (neem) के कोंपलें, काली मिर्च (black pepper) दो दानें तीनों पीसकर चटनी (chutney) बना लें। इसे ताजे पानी (fresh water) के साथ सेवन करें।

अगर आपको अपच (indigestion) है तो पका हुआ पपीता (ripe papya) लेकर उसके उपर काली मिर्च का चूर्ण (churan of black pepper) तथा नींबू लगायें। जल्द ही आराम (relief) मिलेगा।

अनार के छिलको को धूप में सुखाने (dry in sun) के बाद उसे पीसकर चूर्ण बना लें। इसका चूर्ण ताजे पानी (take it with fresh water) के साथ सेवन करें।

हरड़ का चूर्ण शहद (honey) के साथ चाटने पर भी अपच की समस्या (problem of indigestion) दूर होती है।

आयुर्वेदिक उपचार, घरेलू उपचार, gharelu nuskhe in hindi for health, घरेलू नुस्खे, alternative medicine in hindi

, , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

1 thought on “जानिये अपच के लक्षण, कारण और घरेलू नुस्खे – Indigestion Symptoms, reasons and Home Remedies

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *