जानिए भगवान की हर एक सवारी के पीछे छिपे गहन अर्थ को , Jaaniye bhagwan ki har ek sawari ke peeche chhipe gahan arth ko
जानिए भगवान की हर एक सवारी के पीछे छिपे गहन अर्थ को , Jaaniye bhagwan ki har ek sawari ke peeche chhipe gahan arth ko

जानिए भगवान की हर एक सवारी के पीछे छिपे गहन अर्थ को | Jaaniye bhagwan ki har ek sawari ke peeche chhipe gahan arth ko

जानिए भगवान की हर एक सवारी के पीछे छिपे गहन अर्थ को | Jaaniye bhagwan ki har ek sawari ke peeche chhipe gahan arth ko

 

  1. सनातन धर्म सबसे पुराना धर्म होने के साथ-साथ सबसे ज़्यादा व्यवहारिक सिद्धांतों वाला धर्म भी है. Sanatam dharma is the oldest religion in the world.

इस धर्म को आध्यात्म के साथ-साथ प्रकृति के भी काफ़ी नजदीक (near spirituality and nature) माना जाता है. ब्रह्म को सर्वोच्च मानने वाले इस धर्म में दायित्वों और काल क्रम के अनुसार अनेक देवी-देवता हैं, इन देवी-देवताओं को अनेक गणों में बांटा गया है.इन सभी देवी-देवताओं को आध्यात्मिक और व्यवहारिक कारणों के साथ-साथ वैज्ञानिक कारणों (scientific reasons) से हमारे ऋषि-मुनियों ने वाहनों के रूप में पशु-पक्षियों से जोड़ा है. इस प्रकार प्रकृति और उसके जीवों की रक्षा का एक अनिवार्य संदेश (compulsory message) भी समाज में प्रेषित किया गया. पशु-पक्षियों को किसी न किसी भगवान के प्रतिनिधि से जोड़ना, उनके खिलाफ़ हिंसा से बचाने के लिए एक सुरक्षा कवच की (its like safety cover) भांति है.

यह भी पढ़ें :- जानिये क्या होता है जब एक दूसरे से नज़रे मिलती है

यह भी पढ़ें :- ऐसे जबरदस्त रोचक तथ्य और जानकारी जो अपने पहले कभी नहीं पढ़ी होंगी

  1. भगवान विष्णु का वाहन गरुड़ भगवान विष्णु के इस वाहन को पक्षियों की बुद्धिमान प्रजातियों में से एक माना जाता है. Bhagwan Vishnu’s ride the Garuda because garuda is known as most intelligent in the birds.

प्राचीन काल में गरुड़ का प्रयोग संदेशों के आदान-प्रदान (use for give and take of information) में भी किया करते थे. शास्त्रों के अनुसार प्रजापति कश्यप की धर्मपत्नी विनिता के दो पुत्र हुए. एक था गरुड़ और दूसरा अरुण. अरुण आगे चल कर सूर्य भगवान (lord surya) के सारथी बने और गरुड़ भगवान विष्णु की सेवा के लिए उनके पास चले गये. गरुड़ों में सबसे ख्याति प्राप्त हुए, जटायु…….जटायु अरुण के पुत्र थे. छत्तीसगढ़ के दंडकारण्य में गिद्धराज जटायु का मन्दिर (temple) भी है. यहीं पर जटायु और रावण के बीच युद्ध (War between ravan and jatayu) हुआ था.

  1. धन की देवी मां लक्ष्मी का वाहन उल्लू कुछ लोग जिन्हें पता न हो,वो ये सोचते होंगे कि उल्लू से तात्पर्य तो मूर्ख से होता है, फिर इसे मां लक्ष्मी से कैसे जोड़ा गया. Laxmi Mata ride the Owl which is known as the intelligent birds who fly in nights.

हम आपको बता दें, उल्लू निशाचरी प्राणियों (nocturnal species) में सबसे ज़्यादा बुद्धिमान होता है. उल्लू की ख़ासियत (specialty) होती है कि इसे आने वाले भविष्य के बारे में पूर्वानुमान (forecast about future) हो जाता है.सनातन धर्म में उल्लू को धन सम्पदा के प्रतीक (symbol of money and property) के रूप में देखा जाता है. तांत्रिक क्रियाओं में इस पक्षी का काफ़ी ज़्यादा प्रयोग होने से काफ़ी लोग इससे डरते भी हैं.उल्लू जब उड़ता (when owl flies) है, तो इसके पंखों से कोई आवाज़ नहीं (no sounds comes from its wings) निकलती है. इसकी नज़रें भी काफ़ी तेज़ (sharp eyesight) होती हैं. उल्लू अपनी गर्दन को लगभग 170 डिग्री तक घुमा सकता है.

  1. मां सरस्वती ने चुना है हंस को सरस्वती को ज्ञान की देवी कहा जाता है. Saraswati Mata ride Hans.

ज्ञान से प्राणी के जीवन में पवित्रता (sacred), प्रेम (love) और नैतिकता (morality) का आगमन होता है. इन सभी गुणों को का मिश्रण हंस में भी देखने (all these qualities can be seen in swan) को मिलता है. हंस को काफ़ी समझदार और जिज्ञासु प्रवृत्ति का माना जाता है. इसकी सबसे बड़ी ख़ासियत तो यह है कि यह जीवनपर्यन्त एक ही हंसिनी (living with one partner only) के साथ रहता है. इसके ज्ञानी होने की वजह से शास्त्रों में कहा भी गया है, जो ज्ञानी है वो हंस हैं और जो कैवल्य को प्राप्त कर लेते हैं, वो परमहंस कहलाते हैं.

  1. शिव की सवारी उनके प्यारे नंदी (बैल) नंदी महादेव के सभी गणों में उन्हें सबसे ज़्यादा प्रिय है. Lord Shiva rides his favorite bull Nandi.

जिस तरह शास्त्रों में कामधेनु को श्रेष्ठ (best) माना जाता है, उसी तरह नंदी को भी श्रेष्ठ माना जाता है. बैल स्वभाव से काफ़ी शान्त (bull known for calmness) होता है, लेकिन जब इसे क्रोध (when it goes angry) आता है, तो यह शेर से भी भीड़ (can fight with tiger) जाता है. महादेव का स्वभाव भी कुछ इसी तरह का है. बैल को भौतिक इच्छाओं से दूर रहने वाला प्राणी माना जाता है.

यह भी पढ़ें :- इन 7 संकेतों से जानिये के आपके बॉयफ्रेंड को आपसे सिर्फ सेक्स चाहिए

  1. जिस तरह शास्त्रों में कामधेनु को श्रेष्ठ माना जाता है, उसी तरह नंदी को भी श्रेष्ठ माना जाता है.

बैल स्वभाव से काफ़ी शान्त होता है, लेकिन जब इसे क्रोध आता है, तो यह शेर से भी भीड़ जाता है. महादेव का स्वभाव भी कुछ इसी तरह का है. बैल को भौतिक इच्छाओं से दूर रहने वाला प्राणी माना जाता है.

  1. शिव पुत्र कार्तिकेय का वाहन है मयूर भगवान कार्तिकेय को दक्षिण भारत में अधिक माना जाता है. Kartikeyan son of lord shiva ride Peacock,

मयूर का मन काफ़ी चंचल प्रकृति (naughty nature) का होता है. उसे नियन्त्रण (control peacock is not easy) में रखना काफ़ी मशक्कतों भरा कृत्य है. कर्तिकेय की छवि एक साधक की तरह है, जिसने अपने मन को साध रखा है.

  1. इंद्र का वाहन है, ऐरावत हाथी. King of God’s Indra ride Eravat Elephant.

देवताओं और राक्षसों ने मिल कर जब समुद्र मंथन किया था, तो अमृत कलश के साथ 14 तरह के रत्न (diamonds) भी निकले थे. उन्हीं में से एक था, ऐरावत.

आयुर्वेदिक उपचार, घरेलू उपचार, dadi maa ke nuskhe in hindi, gharelu nukshe in hindi, ayurvedic gharelu upchar in hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*