कभी बीमार नहीं होगे अगर करोगे यह काम , Do this and you will never suffer from any type of fever
कभी बीमार नहीं होगे अगर करोगे यह काम , Do this and you will never suffer from any type of fever

कभी बीमार नहीं होगे अगर करोगे यह काम , Do this and you will never suffer from any type of fever

कभी बीमार नहीं होगे अगर करोगे यह काम | Do this and you will never suffer from any type of fever

स्‍वस्‍थ रहने के लिए सबसे जरूरी है कि आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता (immune system- इम्‍यून सिस्‍टम) बेहतर हो, क्‍योंकि यही हमारी बॉडी को बीमारियों से लड़ने की क्षमता (strength to fight with diseases) देते हैं। जब रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर (weak) होती है, तब संक्रामक (infection) रोग होने की संभावना बढ़ जाती है। अब आपके मन में एक सवाल ये भी उठ रहा होगा कि इम्‍यूनिटी है क्‍या और अपनी इस क्षमता को बढ़ायी (increase) कैसे जाए। तो चलिए आज हम आपको ऐसे कुछ टिप्‍स (tips) बता रहे हैं जिससे आप अपने इम्‍यूनिटी को बढ़ाकर रोगों से लड़ने की क्षमता विकसित (develop) कर सकते हैं साथ ही स्‍वस्‍थ जीवन (healthy life) जी सकेंगे।

यह भी पढ़ें :- अगर वजन घटाना हो तो रात में भूख लगने पर खाइये यह स्नैक

क्‍या है इम्‍यून सिस्‍टम – What is Immune System

दरअसल, जब वातावरण (atmosphere) का तापमान कम या ज्‍यादा होता है और यदि हमारी प्रतिरोधक क्षमता कम है तो ऐसे समय में संक्रामक रोग (inflectional diseases) फैलने से हम बीमार पड़ जाते हैं। वहीं जिनकी प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होती है वे जल्‍दी (not easily) बीमार नही पड़ते हैं। इम्‍यूनिटी के प्रति एक बैज्ञानिक धारणा (science theory) भी है कि इम्‍यूनिटी काफी हद तक जैनेटिक (genetic) होती है। हालांकि यह अगर कम है तो बढ़ाया (can increase) भी जा सकता है। इम्यून कोशिकाएं (immune tissues) शरीर में त्वचा से ले कर अंदर तक सभी जगह होती हैं। आमतौर से वयस्कों (youngsters) का इम्यून सिस्टम बहुत मजबूत (strong) होता है जिस में हजारों कीटाणुओं की मेमोरी (memory) होती है। लेकिन पर्यावरण (atmosphere) की वजह से इन इम्यून कोशिकाओं का स्तर प्रभावित (effect) हो सकता है और अध्ययनों (researches) से मालूम हुआ है कि अस्वस्थ जीवनशैली (unhealthy lifestyle), थकान (fatigue) व तनाव (stress) भी इम्यूनिटी को कम कर देते हैं। जो बीमारी की संभावना (increase possibilities) को बढ़ा देते हैं।

संतुलित आहार से बढ़ाएं इम्‍यूनिटी – Increase Immunity by Eating Balance Diet

पौष्टिक (nutrition’s) और संतुलित आहार (balanced diet) स्‍वस्‍थ शरीर का आधार है। अगर आपका खान पान ठीक नही है तो स्‍वस्‍थ रहने की कल्‍पना भी मत (never think about living healthy life) कीजिए। विशेषज्ञ मानते (specialties thinks) हैं कि जब तक आप अपने खानपान में हरी सब्जियां (green vegetables), दालें, दूध (milk), अंडा, मांस, मछली, फल (fruits) आदि को शामिल (add) नही करेंगे। तब तक आपकी इम्‍यूनिटी अच्‍छी (cant increase immunity) नही हो सकती है। शरीर की इम्यूनिटी बढ़ाने में पांच खाद्य पदार्थों (5 eating diets) को सबसे अच्‍छा माना जाता है। इस में दही (curd) को पहले नंबर पर है क्‍योंकि यह प्रोबायोटिक्स (probiotics), अच्छे बैक्टीरिया (bacteria) जो पाचन में मदद (helps in digestion) करते हैं, का अच्छा स्रोत (good source) है। बाकी अन्य 4 फूड्स हैं संतरा (orange), पालक (spinach), मछली (fish) और नट्स 9nuts- dry fruits)।

यह भी पढ़ें :- यह 10 सब्जियां है मधुमेह के रोगियों के लिये दवाई के समान

शरीर की गतिविधियों को बढ़ायें – Increase your Physical Activity

विशेषज्ञ मानते हैं कि प्रतिदिन एक्‍सरसाइज करना जरूरी (exercise is must everyday) होता है। इसके लिए आप खेलकूद (sports), योगाभ्‍यास (yoga) आदि गतिविधियों में हिस्‍सा (participate in activities) ले सकते हैं। इससे आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ेगी भी और शरीर को मजबूती (strength to body) भी मिलेगी। इसके अलावा व्‍यायाम से आप मानसिक रूप (mental health) से स्‍वस्‍थ रह सकते हैं।

आयुर्वेदिक उपचार, घरेलू उपचार, natural healing in hindi, household remedies in hindi,home remedies for fever, symptoms of typhoid, symptoms of dengue

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*