ek-khatarnak-bimari-dengue-jaaniye-iske-asaan-nuskhe-copy
ek-khatarnak-bimari-dengue-jaaniye-iske-asaan-nuskhe-copy

एक खतरनाक बीमारी डेंगू – जानिये इसके आसान नुस्खे | Ek khatarnak bimari dengue- Jaaniye iske asaan nuskhe

एक खतरनाक बीमारी डेंगू – जानिये इसके आसान नुस्खे | Ek khatarnak bimari dengue- Jaaniye iske asaan nuskhe

 

आजकल डेंगू एक बड़ी समस्या (growing as big problem) के तौर पर उभरा है, जिससे कई लोगों की जान (it kills so many peoples) जा रही है l

यह एक ऐसा वायरल रोग है जिसका मेडिकल चिकित्सा पद्धति में कोई इलाज (no treatment) नहीं है परन्तु आयुर्वेद में इसका इलाज है (but ayurveda has its treatment) और वो इतना सरल और सस्ता है की उसे कोई भी कर सकता है l (its easy and cheap treatment which anyone can afford).

तीव्र ज्वर, सर में तेज़ दर्द (headache), आँखों के पीछे दर्द होना, उल्टियाँ लगना (vomiting), त्वचा का सुखना (dry skin) तथा खून के प्लेटलेट की मात्रा का तेज़ी से कम होना डेंगू के कुछ लक्षण (signs) हैं जिनका यदि समय रहते इलाज (treatment) न किया जाए तो रोगी की मृत्यु (patient can die) भी सकती है l

CLICK HERE TO READ: डेंगू और चिकनगुनिया का किचन में मौजूद है रामबाण इलाज

Lets know the Treatment of Dengue Fever:

यदि आपके किसी भी जानकार को यह रोग हुआ हो और खून में प्लेटलेट की संख्या कम होती जा रही हो तो चित्र में दिखाई गयी चार चीज़ें रोगी को दें :
1) अनार जूस (pomegranate juice)
2) गेहूं घास रस
3) पपीते के पत्तों का रस (papaya leaves juice)
4) गिलोय/अमृता/अमरबेल सत्व

1 – अनार जूस तथा गेहूं घास रस नया खून बनाने तथा रोगी की रोग से लड़ने की शक्ति प्रदान (give power to fight with infection) करने के लिए है, अनार जूस आसानी से उपलब्ध (easily available) है यदि गेहूं घास रस ना मिले तो रोगी को सेब का रस (apple juice) भी दिया जा सकता है l

2 – पपीते के पत्तों का रस सबसे महत्वपूर्ण (very important) है, पपीते का पेड़ आसानी से मिल जाता है उसकी ताज़ी पत्तियों का रस निकाल कर मरीज़ (patient) को दिन में 2 से 3 बार दें , एक दिन की खुराक के बाद ही प्लेटलेट की संक्या बढ़ने लगेगी (blood platelets start growing).

CLICK HERE TO READ: जानिये टाइफाइड बुखार से बचाव के लिए 10 घरेलू इलाज | टाइफाइड के 10 आयुर्वेदिक उपचार

3 –  गिलोय की बेल का सत्व मरीज़ को दिन में 2-3 बार दें, इससे खून में प्लेटलेट की संख्या बढती है, रोग से लड़ने की शक्ति बढती है तथा कई रोगों का नाश (kills so many infections and diseases) होता है l यदि गिलोय की बेल आपको ना मिले तो किसी भी नजदीकी पतंजली चिकित्सालय (patanjali chikitsalya) में जाकर “गिलोय घनवटी” ले आयें जिसकी एक एक गोली ( one tablet) रोगी को दिन में 3 बार दें l

4 – यदि बुखार 1 दिन से ज्यादा रहे तो खून की जांच अवश्य (blood test) करवा लें l यदि रोगी बार बार उलटी करे तो सेब के रस में थोडा नीम्बू (mix a bit of lemon) मिला कर रोगी को दें, उल्टियाँ बंद हो जाएंगी l

5 – ये रोगी को अंग्रेजी दवाइयां (english medicines) दी जा रही है तब भी यह चीज़ें रोगी की बिना किसी डर (without any fear) के दी जा सकती हैं l डेंगू जितना जल्दी पकड़ में आये उतना जल्दी उपचार आसान (treatment getting easy) हो जाता है और रोग जल्दी ख़त्म होता है l रोगी के खान पान का विशेष ध्यान (special eye on the food) रखें, क्योंकि बिना खान पान कोई दवाई असर नहीं करती l (without eating any food, no medicine works).

gharelu nuskhe, dadi maa ke nuskhe, desi nuskhe, दादी माँ के नुस्खे , देसी नुस्खे,dengue treatment in hindi, symptoms of dengue, symptoms of chikungunya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*